पशुओं की बिक्री पर प्रतिबंध के बाद राज्यों के ज्ञापन पर गौर कर रहा है केंद्र : नायडू 

पशुओं की बिक्री पर प्रतिबंध के बाद राज्यों के ज्ञापन पर गौर कर रहा है केंद्र : नायडू केंद्रीय मंत्री एम वेंकैया नायडू।

नई दिल्ली (भाषा)। पशु बाजारों में वध के लिए जानवरों की खरीद बिक्री पर हालिया प्रतिबंध के बाद राज्यों और कुछ अन्य संगठनों के ज्ञापन पर केंद्र सरकार गौर कर रही है। यह बात आज केंद्रीय मंत्री वेंकैया नायडू ने कही।

नायडू ने यहां संवाददाताओं से कहा कि उच्चतम न्यायालय और पशुओं पर अत्याचार रोकने तथा तस्करी सहित पशु बाजार की मिलीभगत को तोड़ने के लिए बनी संसदीय समिति की कुछ टिप्पणियों के परिप्रेक्ष्य में ये नियम अधिसूचित किए गए थे। नायडू ने कहा, ‘‘बहरहाल कुछ राज्य सरकारों और अन्य वाणिज्य संगठनों ने कुछ मुद्दे उठाए हैं। सरकार इन पर गौर कर रही है।'' पिछले हफ्ते नियमों को अधिसूचित करने वाले पर्यावरण मंत्रालय को इन पर अभी तक 13 ज्ञापन मिल चुके हैं।

देश-दुनिया से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

मंत्रालय ने कठोर पशु अत्याचार निवारण (पशु बाजारों का नियमितीकरण) नियम 2017 को अधिसूचित किया था, जिसमें वध के लिए पशु बाजार से जानवरों की खरीद-फरोख्त पर प्रतिबंध लगाया गया है। निर्णय से मांस और चमड़ा व्यवसाय तथा निर्यात प्रभावित हो सकता है।

ये भी पढ़ें : मवेशी खरीद बिक्री को लेकर केंद्र की अधिसूचना पर मद्रास हाईकोर्ट ने लगाई रोक

नये नियम में राज्यों की सीमा से 25 किलोमीटर की दूरी के अंदर और अंतरराष्ट्रीय सीमा से 50 किलोमीटर के भीतर पशु बाजार लगाने पर प्रतिबंध है। इस बीच पर्यावरण मंत्रालय के अधिकारियों ने कहा है कि वध के लिए पशुओं की खरीद-फरोख्त पर उन्हें कई ज्ञापन मिले हैं और उनका अध्ययन किया जा रहा है।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Share it
Share it
Top