कार खरीदने वालों के लिए बड़ी खबर, 2019 से सभी कारों में होंगे ये बदलाव

कार खरीदने वालों के लिए बड़ी खबर, 2019 से सभी कारों में होंगे ये बदलावप्रतीकात्मक फोटो

नई दिल्ली। एक जुलाई 2019 के बाद से हर कार निर्माता को सभी कारों में एयरबैग्स, सीट बेल्ट रिमाइंडर्स, 80 किलोमीटर प्रति घंटे से अधिक स्पीड पर अलर्ट करने वाला स्पीड वॉर्निंग सिस्टम, रिवर्स पार्किंग अलर्ट्स, मैनुअल ओवरराइड सिस्टम आदि फीचर्स देना अनिवार्य हो जाएगा। सड़क एवं परिवहन मंत्रालय ने इसपर अपनी मुहर लगा दी है। इस संबंध में अधिसूचना कुछ दिनों में जारी हो जाएगी।

सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने भारत में होने वाले रोड ऐक्सिडेंट्स को कम करने के मद्देनजर यह फैसला लिया है। बता दें कि 2016 में भारत में मरने वाले प्रति 1.5 लाख लोगों में से तकरीबन 74,000 लोग सड़क हादसे में मारे गए। इनकी जिंदगी ओवर स्पीडिंग की भेंट चढ़ गई।

कारों को टेस्टिंग के बाद मिलेगी रेटिंग

एक जुलाई, 2019 से निर्माताओं के लिए सभी कारों में एआइएस-145 मानक सुरक्षा फीचर देना अनिवार्य होगा। कारों की सुरक्षा के परीक्षण के लिए प्रस्तावित भारत एनसीएपी क्रैश टेस्ट प्रोग्राम के तहत इन फीचर वाली सभी कारों को सुरक्षा की फाइव स्टार रेटिंग प्रदान की जाएगी।

ये भी पढ़ें- सावधान : आखिर क्यों और कैसे कब्र या चिता बन जाती है आपकी कार ?

सुरक्षा को देखते हुए उठाया कदम

परिवहन मंत्रालय ने यह निर्णय सड़क सुरक्षा बढ़ाने के लिए किया है। देश में हर साल पांच लाख सड़क दुर्घटनाओं में डेढ़ लाख लोग मारे जाते तथा तीन लाख लोग घायल होते हैं। इनमें ज्यादातर हादसे ड्राइवर की मृत्यु या घायल होने, अंधाधुंध रफ्तार पर वाहन चलाने, बिना देखे बैक करते तथा सीट बेल्ट न लगाने के कारण होते है। सभी फीचर अनिवार्य होने से इस तरह के हादसों पर अंकुश लगाने में मदद मिलेगी।

अभी सिर्फ लग्जरी कारों में होते हैं फीचर

अभी केवल महंगी या लग्जरी कारों में ही इस तरह के फीचर होते हैं। दरअसल, इन फीचर को लगाने से कार की कीमत बढ़ जाती है, लेकिन, अब निर्माताओं को सभी कारों में न्यूनतम सुरक्षा फीचर के तौर पर अपनाना होगा। फाइव स्टार सुरक्षा फीचर वाली कारों को सरकार की ओर से फाइनेंशियल हेल्प की जाएगी।

ये भी पढ़ें:- विशेष : कार में आग लग जाए तो घबराएं नहीं, अपनाएं ये उपाय

इन तरीकों से अपने कार के टायर का रखें ख्याल

Share it
Top