देश के फ़र्ज़ी बाबाअों की ज़ारी हुई लिस्ट, राधे मां से लेकर आसाराम जैसे 14 बाबाओं का है नाम

देश के फ़र्ज़ी  बाबाअों की ज़ारी हुई लिस्ट, राधे मां से लेकर आसाराम जैसे 14 बाबाओं का है नामअखिल भारतीय अखाड़ा परिषद में देश के सभी 13 अखाड़े शामिल हैं,

लखनऊ। अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद ने इलाहाबाद में अपनी कार्यकारिणी की बैठक में 14 बाबाओं की लिस्ट जारी की। अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद में देश के सभी 13 अखाड़े शामिल हैं, जिसमें लाखों की संख्या में साधु-संत हैं।

इस लिस्ट में आसाराम उर्फ आशुमल शिरमानी, सुखविंदर कौर उर्फ राधे मां सचिदानंद गिरी उर्फ सचिन दत्ता, गुरमीत राम रहीम ( डेरा सच्चा सिरसा, ओम बाबा उर्फ विवेकानंद झा, निर्मल बाबा उर्फ निर्मलजीत सिंह, इच्छाधारी भीमानंद उर्फ शिवमूर्ति द्विवेदी, स्वामी असीमानंद, ऊं नम: शिवाय बाबा, नारायण साईं, रामपाल समेत 14 नाम शामिल हैं।

हालांकि ख़बरों के मुताबिक, मीडिया में ये सूची लीक होने से अफरा तफरी मच गई है. इस बीच महंत नरेंद्र गिरि को जान से मारने की धमकी मिली है। इस संबंध में उन्होंने दारागंज थाने में अज्ञात लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई है।

जानिए किस बाबा पर क्या है आरोप

राम रहीम

बलात्कारी गुरुमीत राम रहीम

देश में फर्जी बाबाओं और संत के चोले को कलंकित करने वालों में सबसे पहला नाम डेरा सच्चा सौदा के मुखिया और अब दो लड़कियों से बलात्कारी गुरुमीत राम रहीम का है। राम रहीम डेरा की साध्वियों पर यौन शोषण के आरोप में 20 साल के लिए जेल में है।
यौन शोषण के अलावा भी उस पर कई संगीन आरोप हैं, जिनमें दंगा फैलाने से लेकर किसान की जमीन पर कब्जे करने का। ताजा मामले में उस पर लोगों में उस पर मानव तस्करी का भी आरोप आ रहा है, क्योंकि डेरा में स्किन बैंक मिली है जबकि लखनऊ समेत कई राज्यों में लाशों की सप्लाई का भी मामला सामने आया है। राम रहीम के 5 करोड़ अनुयायी थे और जिनमें कई राजनेता और खिलाड़ी तक भी हैं, जो उसके डेरे पर मत्था टेकने जाते थे।

आसाराम बापू

यौन शोषण के आरोप में जेल की हवा खा रहा है आसाराम

राम रहीम की तरह आसाराम बाबू पर भी यौन शोषण का गंभीर आरोप है। आसाराम का मामला कोर्ट में चल रहा है और वो पिछले कई वर्षों से राजस्थान में जेल की हवा खा रहा है। आसाराम पर यूपी के शाहजहांपुर निवासी 16 वर्षीय लड़की ने यौन शोषण का आरोप लगाया था। अलग-अलग थानों में आसाराम के खिलाफ रेप, हत्या, छेड़खानी और धमकी का मामला दर्ज है।

पुलिस की गिरफ्त में रामपाल। फाइल फोटो

बाबा रामपाल : राम रहीम की तरह उसके भक्तों ने खूब किया था हंगामा

राम रहीम की तरह बाबा रामपाल के समर्थक भी एक बार हरियाणा की सडको पर कोहराम मचा चुके हैं। कबीर पंथी रामपाल पर हत्या, देशद्रोह और बंधक बनाने समेत अवैध सामग्री समेत कई संगीन आरोप है। जेल में बंद रामपाल पर 6 गंभीर मामले थे, जिनमें से 2 में पिछले दिनों उसे बरी कर दिया गया, जबकि हत्या और देशद्रोह समेत कई मामलों में उस पर केस जारी है।

2000 में सरकारी सिंचाई विभाग में जूनियर इंजीनियर की नौकरी छोड़कर संत बना रामपाल 2006 में चर्चा में आया था। जब उसने आर्य समाज की किताब सत्यार्थ प्रकाश पर कुछ कमेंट किया था। इससे गुस्साए आर्य समाज के अनुयायियों ने बाबा के आश्रम पर हमला बोल दिया। 12 जुलाई को हुई इस हिंसा में 59 लोग घायल हुए थे जबकि एक की मौत हुई थी। इस मामले में 2008 में रामपाल की जमानत मिली। लेकिन उसके बाद वो कभी अदालत में पेश नहीं हुए, जिसके बाद 2014 में समर्थकों के जबर्दस्त हंगामे, आगजनी के बीच उसे गिरफ्तार किया गया। 67 साल के रामपाल के समर्थकों ने रामरहीम के समर्थकों की तरह हिसार जेल के बाहर खूब हंगामा किया था। राम पाल का जन्म सोनीपत के धनाणा गांव में वर्ष 1951 में हुआ था, बाबागीरी करने वाले रामपाल के आश्रम में उनकी गिरफ्तारी के दौरान काफी खून खराबा हुआ था, जिसमें 6 लोगों की जान गई थी। रामपाल के भक्तों के मुताबिक जिस दूध में वो नहाता था, उसमें बनी खीर खाने से भक्तों की बीमारियां ठीक हो जाया करती थीं।

यौन शोषण के अलावा तंत्र-मंत्र में जान लेने का भी आरोप

साल 2008 में आसाराम के मोटेरा स्थित गुरुकुल में पढ़ने वाले दो बच्चों की आश्रम में संदिग्ध रूप से मौत हो गई थी। उस दौरान आसाराम पर आरोप लगा था कि आश्रम में तंत्र-मंत्र के चक्कर में बच्चों की मौत हुई है। 2009 में राजू चंदक नाम के एक व्यक्ति ने उन पर काले जादू के जरिए मारने का प्रयास करने का आरोप लगाया। राजू चंदक ने यह भी आरोप लगाया कि आसाराम के आश्रम में महिलाओं का यौन शोषण किया जाता है।

नित्यानंद स्वामी

नित्यानंद स्वामी : सेक्स सीडी से मचा था हड़कंप

दक्षिण भारत के कई इलाकों में भगवान की तरह पूजे जाने वाले स्वामी नित्यानंद एक सेक्स सीडी आने के बाद बेनकाम हुए। इस सीडी में वो एक अभिनेत्री के साथ रंगरेलियां मना रहे थे। नित्यानंद यौन शोषण के आरोप में जेल की हवा खा चुका है। सीडी की जांच हुई, सेंट्रल फॉरेंसिक लैब ने सीडी को सही बताया, लेकिन नित्यानंद के आश्रम ने एक अमेरिकी लैब की रिपोर्ट पेश कर दी, जिसने सीडी से छेड़छाड़ होने की पुष्टि की गई।

नित्यानंद पर अमेरिकी पुरुष ने भी लगाया था यौन शोषण का आरोप

इस मामले में वे काफी समय तक पुलिस से भागते रहे बंगलुरू पुलिस ने उन्हें हिमाचल प्रदेश से गिरफ्तार किया था। उन्हें 52 दिन जेल में रहना पड़ा। इसके बाद एक अमेरिकी महिला और एक उनके एक पुरुष अनुयायी ने स्वामी पर यौन उत्पीड़न का आरोप लगा दिए थे, हांलाकि नित्यानंद ने इससे इनकार किया लेकिन इसके बाद भी उनका इतना विरोध हुआ कि उन्हें शाही स्नान से भी दूर रहना पड़ा। बाबा पर इस संबंध में भी मामला दर्ज है। इसके बाद नित्यानंद का आश्रम बंद कर दिया गया।

भीमानंद- 600 कालगर्ल थीं इस 'इच्छाधारी' के सेक्स रैकेट!

लखनऊ। अखाडा परिषद ने जिस भीमानंद को फर्जी बाबा बताया है वो खुद को इच्छाधारी बाबा बताता था लेकिन उसका सबसे बड़ा काम सेक्स रैकेट का था, मीडिया और पुलिस की रिपोर्ट के मुताबिक उसके संपर्क में 600 हाई प्रोफाइल कॉल गर्ल थीं। भीमानंद पर पैसे ब्याज पर देने से लेकर सेक्स रैकेट चलाने तक कई गंभीर आरोप हैं।

भीमानंद

भगवा चोला ओढ़कर और सांप गले में डालकर प्रवचन करने वाला भीमानांद अपने नाम के आगे इच्छाधारी संत स्वामी भीमानंद महाराज चित्रकूट वाले लगाता था। लेकिन इसका असली नाम राजीव रंजन दिवेदी था कुछ लोग शिवमूरत के नाम भी जानते थे। दिल्ली पुलिस ने इसके रैकेट का भांडाफोड किया था। सांप वाला ये बाबा रात में असली रूप में होता था। गेरुए वस्त्र फेंकर कर वो जिंस और टीशर्म में जिस्म फरोशी के रैकेट का संचालन करता था। 26 फरवरी 2010 में ये दिल्ली पुलिस के चंगुल में फंसा था। भीमानंद के साथ जिन आठ लोगों को पकड़ा गया था उनमें 8 लड़कियां थी और दो एयरहोस्टेस थी। एक लड़की यूरोपियन तो दूसरी एक भारतीय एयरलाइंस में काम करती थी, इन कॉलगर्ल से ही बाबा का भंडाफोड़ हुआ, उस दौरान इसने दलाल के रुप में अपना नाम शिवमूरत बताया था।

पुलिस की रिपोर्ट के मुताबिक भीमानंद दिल्ली ही नहीं उस वक्त भारत का सबसे बड़ा सैकेस रैकेट का दलाल था। वो अपने आश्रम की आड़ में सेक्सरैकेट चलाता था। इसके रैकेट में 600 हाई प्रोफाइल लड़कियां थी, जिनमें एयरहोस्टेस, कॉलेज गर्ल, मॉडल जैसे पेशें से जुड़ी थी, इन लड़कियों के नाम उसके ठिकाने से मिली 6 लाल रंग की डायरियों में दर्ज थे, इसके साथ ही 100 उन लोगों के भी नाम थे, जिनमें कई सांसद, नेता, पुलिसकर्मी और सफेदपोश लोग थे। उस समय मामले की जांच कर रही दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच भी इस नेटवर्क को देखकर हैरान रह गई थी। पुलिस ने भीमानंद को मकोका के तहत जेल भेजा और 1200 पन्नों की चार्जशीट दायर की थी।

आश्रम में था तहखाना, बनाया था सेक्स के धंधे का हेडक्वाटर

इच्छाधारी संत भीमानंद ने अपने आश्रम में तहखाना बनाया था, जिसके द्वारा पर देशभर में फैसे अपने सेक्स रैकेट नेटवर्क को कमांड करता था। काफी कम पढ़े लिखे शिवमूरत ने एक मल्टीनेशनल कंपनी की तर्ज पर अपना नेटवर्क बिछाया था। दिलली के मोहम्मदपुर और हुमायूपुर में कई अंधेरे कमरे थे, जहां वो लड़कियों को काबू करने के लिए जुल्म तक करता था। काफी दिन तक आश्रम की आड़ में भीमानंद ने अपना धंधा चलाया लेकिन दिल्ली पुलिस उसे बाद में जेल का रास्ता दिखाया। उस पर हवाला कारोबार में भी लिप्त होने का आरोप लगा।

मीडिया रिपोर्ट और पुलिस की चार्जशीट के मुताबिक उसकी कमाई का मुख्य जरिया सेक्स रैकेट था। उसके एक मोबाइल नंबर से एक साल का बिल 5 लाख रुपए से ऊपर का था। उस पर दिल्ली के साकेट कोर्ट में मामला चल रहा है। भीमानंद के सेक्स रैकेट का भेद एक लड़की की तलाश करते हुए पुलिस ने खोला था, जिसे उसके प्रेमी ने धोखा देकर जिस्म फरोशी के दलदल में उतार दिया था।

निर्मल बाबा

निर्मल बाबा- छठी इंद्री के नाम कृपा बरसाने वाला बाबा और आस्था के नाम पर खिलवाड़

लखनऊ। अखाड़ा परिषद ने जिन फर्जी बाबा की लिस्ट जारी है कि है उनमें निर्मल बाबा का भी नाम है। कृपा वाले बाबा के नाम से प्रसिद्ध निर्मल बाबा उर्फ निर्मलजीत सिंह नरूला पर धर्म और आस्था के नाम पर लोगों से करोड़ों रुपए की धोखाधड़ी का आरोप है।

वो अपने भक्तों को समोसा से लेकर पिज्जा तक खाने की सलाह देते हैं। कुछ साल पहले तो वो कई टीवी चैनलों पर छाए थे और हजारों भक्त उन पर करोड़ों रुपए लुटा रहे थे। कपड़े की दुकान से लेकर ईंट भट्टे तक के धंधे में आज आजमा चुके निर्मलजीत सिंह नरुला ने आखिर में बाबा का चोला पहला तो फिर उनपर जमकर नोटों की बरसात हुई। निर्मल दरबार में हजारों रुपए की फीस देकर लोग पहुंचते थे। निर्मल बाबा अपनी छठी इंद्री को सक्रिय बताते हैं और उसी के नाम पर लोगों पर कृपा बरसाते हैं, जिसके बहाने वो रुपए ऐंठते हैं। 1984 में तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरागांधी की हत्या के बाद भड़के सिख विरोध दंगों के कारण रांची में अपना सबकुछ बेच वो दिल्ली पहुंच गए और कुछ वर्षों बाद यहीं ‘निर्मल दरबार’ लगाना शुरु किया।

निर्मलजीत सिंह नरुला ने लोगों से पैसे कमाने का नया तरीका अपनाया और उनकी कमाई पर 10 फीसदी ‘दसबंध’ देने को कहा। दिल्ली के ग्रेटर कैलाल में पॉश इलाके में रहने वाले निर्लम बाबा के पास अरबों रुपए की संपत्ति बताई जाती है। लगातार विवादों में नाम आने के बाद दिग्गत नेता नामधारी सिंह ने उनके रिश्ता तोड़ लेने का वादा किया था। मूलरूप से झारखंड निवासी निर्मल बाबा ने निर्मल बाबा समागम में शामिल होने की फीस करीब 3870 रुपए तो निर्मल बाबा शो में शामिल होने के लिए 6450 फीस (मीडिया रिपोर्ट) लगाई। ये पंजीकरण बाकायदा वेबसाइट के माध्यम से होते थे।

किसी देवता या लक्ष्मी जी के कारण कृपा रुकी होने की बात कर वो काल भैरव को शराब चढाने से लेकर छोले भटूरे, समोसे और गोलगप्ते खाने तक की सलाह देते थे। उनका दावा था कि उनका तीसरा नेत्र खुला है। कई लोगों की शिकायत के बाद उनके प्रोग्राम कुछ दिनों के लिए बंद हो गए थे, लेकिन निर्मल दरबार लगाने का उनका धंधा अब भी जारी है।

ये भी पढ़ें- इन बाबाओं पर भी लगे हैं गंभीर आरोप, पढ़िए किस किस का नाम

Share it
Share it
Share it
Top