दस दिन बीत गए अभी तक नहीं हुई कैबिनेट की पहली बैठक, किसान कर रहे क़र्ज़ माफी का इंतज़ार

दस दिन बीत गए अभी तक नहीं हुई कैबिनेट की पहली बैठक, किसान कर रहे क़र्ज़ माफी का इंतज़ारअपने अधिकारियों से बैठक करते मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ।

लखनऊ। किसानों की कर्ज माफी की बड़ी राहत देने के लिए भाजपा सरकार की पहली कैबिनेट मीटिंग लंबी खिंच रही है। ये कैबिनेट मीटिंग अप्रैल के पहले सप्ताह होने की जानकारी सरकारी हलको से बाहर निकल कर आ रही है। फिलहाल सरकार बने 10 दिन बीतने के बावजूद अब तक कैबिनेट मीटिंग नहीं हो सकी है। फिलहाल कैबिनेट मीटिंग कब होगी, इसका जवाब किसी के भी पास नहीं है। ये बात दीगर है कि कृषि मंत्री से लेकर उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य लगातार कहते आ रहे हैं कि बहुत जल्द ही किसानों का कर्ज माफ किया जाएगा। कर्ज माफ किये जाने में कोई भी संदेह नहीं है।

देश-दुनिया से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

19 मार्च को भाजपा सरकार का शपथग्रहण समारोह था। 29 मार्च को शपथग्रहण के 10 दिन बीत गये। मगर अब तक सरकार की पहली कैबिनेट मीटिंग नहीं की जा सकी है। दरअसल इस पहली बैठक में ही प्रदेश के 53 लाख लघु एवं सीमांत किसानों का कर्ज माफ किया जाना है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने चुनाव से पहले अपनी रैलियों में ये वादा जोर शोर से किया था कि भाजपा सरकार की पहली कैबिनेट मीटिंग में लघु एवं सीमांत किसानों का कर्ज माफ कर दिया जाएगा।

ये भी पढ़ें- रिवर फ्रंट के लिए खोदी गई सैकड़ों टन मिट्टी गायब

इसी वादे को पूरा करने के लिए जो कागजी कार्यवाही की जानी है, उसी वजह से कैबिनेट मीटिंग में देरी हो रही है। इस बारे में भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता राकेश त्रिपाठी का कहना है कि “बहुत जल्द ही कैबिनेट मीटिंग होगी। किसानों की कर्जमाफी एक लंबी प्रक्रिया है। जिसको पूरा करने में समय लग रहा है। ” दूसरी ओर उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने एक बार फिर से बुधवार को वादा दोहराया कि, “बहुत जल्द ही हम किसानों कार्ग्ज माफ करेंगे जैसे की घोषणा भाजपा ने अपने लोकसंकल्प पत्र में की है।” दूसरी ओर शासन के आधिकारिक सूत्रों के मुताबिक यूपी कैबिनेट की पहली मीटिंग अप्रैल माह के पहले तीन से चार दिन में हो जाएगी। जिसमें सबसे बड़ा फैसला किसानों की कर्जमाफी का ही होगा।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top