पुलिस के लिए काम कर रहे भाई ने नक्सली बहन से की अपील, हथियार छोड़ लौट आओ

Tameshwar SinhaTameshwar Sinha   14 Aug 2019 12:30 PM GMT

पुलिस के लिए काम कर रहे भाई ने नक्सली बहन से की अपील, हथियार छोड़ लौट आओ

सुकमा (छत्तीसगढ़)। यह कहानी पुलिस के लिए काम कर रहे भाई वेट्टी रामा और नक्सलियों के लिए काम कर रही बहन वेट्टी कन्नी की है। 29 जुलाई को दोनों का आमना-सामना एक मुठभेड़ के दौरान हुआ। तब ये खबर खूब चर्चा में रही। अब रक्षाबंधन के मौके पर वेट्टी रामा ने अपनी बहन से एक मार्मिक अपील की है।

वेट्टी रामा ने अपनी बहन वेट्टी कन्नी को एक चिट्ठी लिखी है। चिट्ठी में लिखा है कि "तुम नक्सलियों का साथ छोड़कर आत्मसमर्पण कर दो। गलत रास्ता छोड़ दो।" हालांकि अभी तक इस चिट्ठी का कोई जवाब नहीं आया है।

पिछले महीने की 29 जुलाई की बात है। वेट्टी छत्तीसगढ़ पुलिस के साथ एक नक्सल विरोधी ऑपरेशन के लिए बस्तर संभाग जिला सुकमा गये थे। इस मुठभेड़ में एक पुलिसकर्मी भाई और उसकी नक्सली बहन का आमना-सामना हो गया। दोनों भाई-बहन उस वक्त आमने-सामने आ गए, जब दोनों तरफ से गोलीबारी की जा रही थी।

वेट्टी रामा पहले खुद भी नक्सली संगठन से जुड़े हुए थे और उसके ऊपर 24 से ज्यादा मामले नामजद हैं। उसने 13 अक्टूबर 2018 को हथियार सहित पुलिस के सामने आत्मसमर्पण कर दिया था और तब से वे पुलिस और सीआरपीएफ के साथ नक्सल विरोधी अभियानों में काम कर रहे हैं।

यह भी पढ़ें- जड़ी-बूटियों की खेती से नक्सली क्षेत्र में गरीबी का 'इलाज' कर रहे डॉ. राजाराम त्रिपाठी

रामा ने करीब 23 साल नक्सली संगठन के लिए काम किया। उन पर पुलिस ने आठ लाख रुपए का इनाम भी घोषित किया था। रामा तो किसी तरह से उस दलदल निकल आये लेकिन उनकी बहन वेट्टी कन्नी आज भी नक्सलियों का साथ दे रही हैं।

वेट्टी कन्नी रामा की बड़ी बहन हैं। दोनों भाई-बहन गगनपल्ली, दांतेवाड़ा के रहने वाले हैं। 29 जुलाई को पुलिस को सुकमा के एक इलाके में नक्सलियों को मौजूद होने की जानकारी मिली। सूचना के बाद शुरू हुए तलाशी अभियान के दौरान ही वेट्टी रामा की मुलाकात अपनी बहन से हुई। वह इस इलाके में नक्सलियों के साथ रह रही थी।

नक्सलियों को यहां देखकर पुलिस ने उनके दल पर फायरिंग शुरू कर दी। कुछ दूर से ही रामा ने अपनी बहन को पहचान लिया। कोई कुछ बोल पाता कि उस बीच दोनों ओर से फायरिंग होनी शुरू हो गई और देखते ही देखते बहन आंखों के सामने गायब हो गई।

एसपी सुकमा शलभ सिन्हा इस बारे में कहते हैं, "इस अभियान में रामा की बहन को भागने में सफलता मिल गई, वहीं उसके दो साथियों को सुरक्षाबलों ने मौके पर ही मार गिराया। बहन से गलत रास्ता छोड़ने की अपील रामा पहले भी कर चुके हैं लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ। उन्होंने एक बार फिर अपनी बहन से इस गलत रास्ते को छोड़कर वापस आने की मांग की है।"

ये भी पढ़ें- बस्तर में आदिवासी आज भी बैंकों में नहीं रखते पैसे


More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top