थलसेना ने लगातार दूसरे साल देश में बनी राइफलों को खारिज किया

थलसेना ने लगातार दूसरे साल देश में बनी राइफलों को खारिज कियाभारत में बनी राइफल।

नई दिल्ली (भाषा)। भारतीय थलसेना ने खराब गुणवत्ता और गोलियां दागने की बेहद कमजोर क्षमता का हवाला देते हुए देश में ही निर्मित राइफलों को खारिज कर दिया है। 'इनसास' राइफलों की जगह ऐसे ही हथियारों की खरीद पर थलसेना जल्द ही फैसला ले सकती है।

ये भी पढ़ें- डकैत ददुआ से लोहा लेने वाली ‘शेरनी’ छोड़ना चाहती है चंबल, वजह ये है

राइफल फैक्टरी इशापुर की ओर से बनाई गई। 7.62/51 मिमी की बंदूकें पिछले हफ्ते हुए फायरिंग परीक्षण में बुरी तरह असफल साबित हुई थी, जिसके बाद थलसेना ने इन राइफलों को खारिज करने का फैसला किया। आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि इन बंदूकों में ''अत्यधिक खामियां'' थीं और थलसेना द्वारा इसे इस्तेमाल में तभी लाया जा सकता था जब इसके ''मैगजीन की पूरी डिजाइनिंग फिर से की जाती।'' सूत्रों ने बताया कि परीक्षण के दौरान राइफलों में 'ज्यादा चमक और आवाज' देखी गई। उन्होंने कहा कि हथियारों की विश्वसनीयता के पहलू के गहन विश्लेषण की जरूरत है।''

ये भी पढ़ें- गोद लिए गाँवों को भूले सोनिया गांधी और राहुल, लोगों में गुस्सा

थलसेना ने पिछले साल भी भारत में निर्मित 5.56 मिमी के एक्सकैलिबर बंदूकें स्वीकार करने से मना कर दिया था। थलसेना ने दलील दी थी कि ये राइफलें उसकी कसौटी पर खरी नहीं उतरती। सशस्त्र बलों के लिए राइफलों की खरीद पर फैसला करने के लिए बुधवार को एक उच्च-स्तरीय बैठक बुलाई जा रही है। बैठक में थलसेना की विशिष्ट जरूरतों पर चर्चा की जा सकती है। इस बैठक में रक्षा मंत्रालय के आला अधिकारियों के अलावा थलसेना, वायुसेना और नौसेना के प्रतिनिधि भी हिस्सा लेंगे।

Share it
Share it
Share it
Top