अनोखा ऑफर : कूड़ा डालो और पाओ ईनाम

अनोखा ऑफर : कूड़ा डालो और पाओ ईनामगारबेज बॉक्स नुमा ये एटीएम एनएमएएम इंस्टीट्यूट के छात्रों ने बनाए हैं

क्या आप एक ऐसे एटीएम की कल्पना कर सकते हैं जिसका इस्तेमाल रुपए निकालने के बजाय कूड़ा जमा करने के लिए किया जाए और इसके लिए आपको शॉपिंग कार्ड की तरह रिवार्ड प्वॉइंट भी मिलें। जी हां, अब ऐसा मुमकिन है। देश के कुछ होनहार छात्रों ने स्वच्छ भारत मिशन को साकार करने की कोशिशों को अपने एक प्रोजेक्ट से रफ्तार दे दी है।

कनार्टक के बेलगाम जिले के एनएमएएम इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी के छात्रों ने मिलकर एक कंपनी शुरू की है जिसको उन्होंने नाम दिया है क्रैपी कैश। यह कंपनी ऐसी मशीनें बनाती है जहां आप अपने घर का कूड़ा जमा कर सकते हैं। गारबेज बॉक्स नुमा इन मशीनों में डाला गया सूखा और गीला कूड़ा अपने आप अलग हो जाएगा। यही नहीं इन मशीनों के द्वारा यह भी पता चल जाएगा कि किस व्यक्ति ने इसमें कितना कूड़ा डाला है और महीने के अंत में उस व्यक्ति को रिवार्ड प्वाइंट भी मिलेंगे।

देश-दुनिया से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

हमारे दिमाग में बस यह ख्याल आया कि देश की सरकार हर साल वेस्ट मैनेजमेंट प्रोजेक्ट्स पर करोड़ों रुपये खर्च करती है लेकिन नतीजा शिफर ही रहता है। क्रैपी कैश प्रोजेक्ट लोगों के लिए एक आसान तरीका लेकर आया है जिससे स्वच्छ भारत अभियान को एक नई दिशा मिल सकती है।

स्मार्ट गारबेज एटीएम में ऐसे सेंसर लगे हैं जो खुद ही यह बता देंगे कि उनमें डाला गया कूड़ा ऑर्गेनिक है या इनऑर्गेनिक और उसी के आधार पर उसे अलग भी कर देंगे। इन गारबेज एटीएम में कूड़ा डालने वाले लोगों को रेडियो फ्रिक्वेंसी आइडेंटिफिकेशन (आरएफआईडी) कार्ड दिए जाएंगे, जिन्हें कूड़ा डालते वक्त स्वाइप किया जाएगा। इन कार्ड के जरिए यह पता लगाया जाएगा कि गारबेज एटीएम में डाला गया कूड़ा किस तरह का है और इसके हिसाब से ही हर महीने के अंत में कार्ड में रिवार्ड प्वाइंट दिए जाएंगे। साल के अंत में किस व्यक्ति ने कितना और किस तरह का कूड़ा जमा किया है इसके आधार पर उनको संस्था की तरफ से ईनाम भी दिया जाएगा।

ये भी पढ़ें- छोटे से गांव के छात्र ने बनाया दृष्टिबाधितों के लिए अनोखा चश्मा

इस स्टार्टअप को काम करने के लिए प्रारंभिक धन आईसीटी स्किल डेवलेपमेंट सोसाइटी के द्वारा मुहैया कराया जा रहा है, जो कर्नाटक सरकार के आईटीबीटी (इनफॉर्मेशन टेक्नोलॉजी एंड बायोटेक्नोलॉजी) विभाग का एक अंग है।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

ये भी पढ़ें- फसल में नहीं लगेंगे कीट और रोग , इस किसान ने खोजा अनोखा तरीका

First Published: 2018-02-01 18:02:54.0

Share it
Share it
Share it
Top