अयोध्‍या विवाद: अगली सुनवाई 29 जनवरी को, जस्टिस यूयू ललित ने खुद को बेंच से अलग किया

  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • koo
अयोध्‍या विवाद: अगली सुनवाई 29 जनवरी को, जस्टिस यूयू ललित ने खुद को बेंच से अलग किया

लखनऊ। अयोध्या में विवादित जमीन मामले में गुरुवार को सुनवाई हुई। पांच जजों की पीठ ने कहा कि वह आज मामले की सुनवाई नहीं करेगी बल्कि सिर्फ इसकी टाइमलाइन तय करेगी। इसके बाद चीफ जस्टिस ने सुनवाई के लिए 29 जनवरी की तारीख तय की है। साथ ही जस्टिस यूयू ललित ने खुद को पांच जजों की पीठ से अलग कर लिया है। अब नई बेंच का गठन किया जाएगा।

जस्‍ट‍िस यूयू ललित पर उठे सवाल

बता दें, मुस्लिम पक्ष के वकील राजीव धवन ने चर्चा के दौरान ही जस्‍ट‍िस यूयू ललित को लेकर सवाल खड़ा किया। धवन ने कहा, बेंच में शामिल जस्टिस यूयू ललित 1994 में कल्याण सिंह की ओर से कोर्ट में पेश हुए थे। इसके बाद जस्टिस यूयू ललित ने खुद को इस मामले से अलग कर लिया है। चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने इस बारे में जानकारी दी।

इससे पहले मामले की सुनवाई पूर्व चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा की अगुआई वाली तीन सदस्यीय बेंच कर रही थी। पिछले साल अक्‍टूबर में उनके रिटायर होने के बाद इस केस को चीफ जस्टिस रंजन गोगोई की अगुवाई वाली दो सदस्यीय बेंच में सूचीबद्ध किया गया। इससे पहले 4 जनवरी को केस की सुनवाई की तारीख 10 जनवरी तय की थी। मंगलवार को इसके लिए पांच जजों की बेंच तय की गई।

यह सुनवाई इलाहाबाद हाईकोर्ट के सितंबर 2010 के फैसले के खिलाफ दायर 14 अपीलों पर होनी है। हाईकोर्ट की तीन सदस्यीय बेंच ने 30 सितंबर, 2010 को अपने फैसले में कहा था कि 2.77 एकड़ जमीन को तीन पक्षों (सुन्नी वक्फ बोर्ड, निर्मोही अखाड़ा और राम लला) में बराबर-बराबर बांट दिया जाए। इस फैसले को किसी पक्ष ने नहीं माना और उसे सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी गई।

  

Next Story

More Stories


© 2019 All rights reserved.