भारत के एक किसान की बेटी जिसने माउंट एवरेस्ट पर सबसे पहले फहराया था तिरंगा

Vineet BajpaiVineet Bajpai   24 May 2017 12:40 PM GMT

भारत के एक किसान की बेटी जिसने माउंट एवरेस्ट पर सबसे पहले फहराया था तिरंगाबछेंद्री पाल एवरेस्ट की ऊंचाई को छूने वाली दुनिया की 5वीं महिला पर्वतारोही हैं।

लखनऊ। माउंट एवरेस्ट की चोटी पर तिरंगा फहराने वाली पहली भारतीय महिला बछेंद्री पाल का जन्म 24 मई 1954 को उत्तराखंड राज्य के उत्तरकाशी जिले के एक गाँव नकुरी में हुआ था। बछेंद्र का जन्म एक किसान के परिवार में हुआ था। आज वे इस्पात कंपनी टाटा स्टील में काम कर रही हैं, जहां वह चुने हुए लोगो को रोमांचक अभियानों का प्रशिक्षण देती हैं। वे एवरेस्ट की ऊंचाई को छूने वाली दुनिया की 5वीं महिला पर्वतारोही हैं।

बछेंद्री ने बीएड तक की पढ़ाई पूरी की। मेधावी और प्रतिभाशाली होने के बावजूद उन्हें कोई अच्छा रोज़गार नहीं मिला। जो मिला वह अस्थायी, जूनियर स्तर का था और वेतन भी बहुत कम था। इससे बछेंद्री को निराशा हुई और उन्होंने नौकरी करने के बजाय 'नेहरू इंस्टीट्यूट ऑफ माउंटेनियरिंग' कोर्स के लिये आवेदन कर दिया। यहाँ से बछेंद्री के जीवन को नई राह मिली।

बछेंद्री पाल।

ये भी पढ़ें : एक शायरा की मौत ...

1982 में एडवांस कैम्प के तौर पर उन्होंने गंगोत्री (6,672 मीटर) और रूदुगैरा (5,819) की चढ़ाई को पूरा किया। इस कैम्प में बछेंद्री को ब्रिगेडियर ज्ञान सिंह ने बतौर इंस्ट्रक्टर पहली नौकरी दी। हालांकि पेशेवर पर्वतारोही का पेशा अपनाने की वजह से उन्हे परिवार और रिश्तेदारों के विरोध का सामना भी करना पड़ा।

जब बछेंद्र ने माउंट एवरेस्ट पर फहराया तिरंगा

1984 में बछींद्र पाल ने माउंट एवरेस्ट पर फहराया था तिरंगा।

1984 में भारत का चौथा एवरेस्ट अभियान शुरू हुआ। इस अभियान में जो टीम बनी, उस में बछेंद्री समेत 7 महिलाओं और 11 पुरुषों को शामिल किया गया था। इस टीम के द्वारा 23 मई 1984 को दोपहर 1 बजकर सात मिनट पर 29,028 फुट (8,848 मीटर) की ऊंचाई पर 'सागरमाथा (एवरेस्ट)' पर भारत का झंडा लहराया गया। इस के साथ एवरेस्ट पर सफलतापूर्वक क़दम रखने वाली वे भारत की पहली और दुनिया की 5वीं महिला बनीं।

ये भी पढ़ें : रवि बहल : एक्टर, डांसर, सिंगर और प्रोड्यूसर, जिसने संघर्ष से दोस्ती कर ली

भारतीय अभियान दल के सदस्य के रूप में माउंट एवरेस्ट पर आरोहण के कुछ ही समय बाद उन्होंने इस शिखर पर महिलाओं की एक टीम के अभियान का सफल नेतृत्व किया। उन्होने 1994 में गंगा नदी में हरिद्वार से कलकत्ता तक 2,500 किमी लंबे नौका अभियान का नेतृत्व किया। हिमालय के गलियारे में भूटान, नेपाल, लेह और सियाचिन ग्लेशियर से होते हुए काराकोरम पर्वत शृंखला पर समाप्त होने वाला 4,000 किमी लंबा अभियान उनके द्वारा पूरा किया गया, जिसे इस दुर्गम क्षेत्र में प्रथम महिला अभियान का प्रयास कहा जाता है।

12 साल की उम्र में मिला था पर्वतारोहण का पहला मौक़ा

बछेंद्री के लिए पर्वतारोहण का पहला मौक़ा 12 साल की उम्र में आया था, जब उन्होंने अपने स्कूल की सहपाठियों के साथ 400 मीटर की चढ़ाई की थी।

ये भी पढ़ें : क़िस्सा मुख़्तसर : जब नेहरू की बात का बुरा मान गए खां साहब

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top