“नोटबंदी से बैंकों को हुआ 3,800 करोड़ का घाटा”

“नोटबंदी से बैंकों को हुआ 3,800 करोड़ का घाटा”नोटबंदी के कारण बैंकों को हुआ नुकसान।

लखनऊ। आर्थिक मोर्चों पर अपनों के ही वार झेल रही सरकार के लिए एक आैर बुरी खबर है। जहां पूर्व वित्त मंत्री यशवंत सिन्हा ने देश की अर्थव्यवस्था के ढेर होने के लिए मोदी सरकार के नोटबंदी और जीएसटी जैसे फैसलों को जिम्मेदार ठहराया है, वहीं नोटबंदी के बाद से डिजिटल भुगतान को बढ़ावा देने से बैंकों को भी मोटा नुकसान हो रहा है।

सरकार द्वारा डिजिटल अर्थव्यवस्था को बढ़ावा देने के लिए पीओएस मशीनों के जरिए भुगतान करने पर जोर देने से बैंकों को सालाना 3,800 करोड़ रुपए का नुकसान होने का अनुमान है। एक रिपोर्ट के जरिये इस संबंध में चेताया गया है।

ये भी पढ़ें- जेटली ने गिनाए नोटबंदी के तीन फायदे

पिछले साल नवंबर में नोटबंदी के ऐलान के बाद मोदी सरकार ने ऑनलाइन भुगतान को बढ़ावा देने के लिए पीओएस मशीनों को स्थापित करने पर जोर दिया था। इसके बाद बैंकों ने अपने पीओएस टर्मिनलों की संख्या दोगुनी से ज्यादा कर दी थी। नोटबंदी के बाद मार्च, 2016 में पीओएस टर्मिनलों की संख्या 13.8 लाख से बढ़कर जुलाई 2017 में 28.4 लाख हो गयी। इस दौरान बैंकों ने एक दिन में औसतन 5,000 पीओएस मशीनें लगाईं।

इसका नतीजा यह रहा कि पीओएस मशीनों से डेबिट और क्रेडिट कार्ड लेनदेन का आंकड़ा अक्टूबर 2016 में 51,900 करोड़ रुपए से बढ़कर जुलाई 2017 में 68,500 करोड़ रुपए पर पहुंच गया। दिसंबर 2016 में यह आंकड़ा 89,200 करोड़ रुपए की ऊंचाई पर पहुंच गया था। एसबीआई रिसर्च ने अपनी रिपोर्ट में कहा कि अनुमान है कि दूसरों के जरिये होने वाले लेनदेन (आफ-अस), पीओएस मशीन पर कार्ड से भुगतान करने से 4,700 करोड़ रुपए का वार्षिक नुकसान हुआ है।

ये भी पढ़ें- नोटबंदी अब तक का सबसे बड़ा घोटाला : आप

हालांकि, सामान लेनदेन (ऑन-अस लेनदेन) से केवल 900 करोड़ रुपए प्रतिवर्ष शुद्ध लाभ प्राप्त हुआ है। इस लिहाज से बैंकिंग उद्योग को करीब 3,800 करोड़ रुपए का वार्षिक नुकसान पहुंचा है। कार्ड भुगतान उद्योग चार पक्षीय मॉडल- जारीकर्ता बैंक, अधिग्रहण बैंक, व्यापारी, ग्राहक पर आधारित होता है। पीओएस से लेनदेन करने पर जब कार्ड जारी करने वाला बैंक और पीओएस स्थापित करने वाला बैंक सामान होता है, उसे ऑन-अस लेनदेन कहा जाता है, वहीं इसके विपरीत जब दोनों बैंक भिन्न होते हैं तो उसे ऑफ-अस लेनदेन कहा जाता है।

ये भी पढ़ें-अपनी ही सरकार पर भड़के यशवंत सिन्हा, बोले-मोदी ने गरीबी देखी, जेटली दिखा रहे

Share it
Top