भंवरी देवी हत्याकांड: 6 साल बाद आरोपी गिरफ्तार

भंवरी देवी हत्याकांड: 6 साल बाद आरोपी गिरफ्तारभंवरी देवी

देवास (भाषा)। राजस्थान के बहुचर्चित भंवरी देवी हत्याकांड मामले की एक आरोपी इंदिरा विश्नोई को राजस्थान पुलिस की एटीएस ने कल रात नेमावर क्षेत्र में गिरफ्तार कर लिया। वह बीते छह साल से फरार थी।

अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक अनिल पाटीदार ने आज बताया ‘‘भंवरी देवी हत्याकांड मामले की आरोपी इंदिरा को राजस्थान पुलिस ने मध्यप्रदेश पुलिस के सहयोग से कल रात यहां नेमावर के पास गिरफ्तार कर लिया है।'' पुलिस सूत्रों के मुताबिक, इंदिरा को भगोडा घोषित कर उस पर पांच लाख रुपये का ईनाम रखा गया था। इंदिरा मध्यप्रदेश के देवास जिला मुख्यालय से लगभग 150 किमी दूर नर्मदा नदी के किनारे नेमावर में ठिकाना बना कर रह रही थी। उसके एक समर्थक ने उसे अपने यहां पनाह दे रखी थी। जानकारी के अनुसार, इंदिरा मोबाइल फोन और एटीएम का उपयोग भी नहीं कर रही थी ताकि पुलिस को उसका सुराग न मिल सके।

ये भी पढ़ें : कश्‍मीर में आतंकी फंडिंग पर NIA की छापेमारी, हुर्रियत से जुड़े 21 ठिकानों पर मारे छापे

क्या था मामला

जांच के मुताबिक भंवरी देवी के इंदिरा विश्वनोई के भाई और पूर्व विधायक मलखान सिंह से रिश्ते थे। भंवरी देवी के एक बेटी भी मलखान से है। यह बात जांच में साबित की जा चुकी है। राजस्थान की कांग्रेस सरकार में मंत्री रहे महिपाल मदेरणा की भी भंवरी देवी के साथ एक सीडी थी। जो उस समय चर्चा में आई थी। भंवरी मलखान से अपना हक मांग रही थी। भंवरी से पीछा छुड़ाने के लिए इंदिरा ने अपने रिश्तेदार के साथ उसके अपहरण की साजिश रची। इस साजिश में मलखान और मदेरणा भी शामिल हो गए। साल 2011 में भंवरी को गायब कर दिया गया और उसकी हत्या कर दी गई। इंदिरा ने उस समय सीबीआई से पूछताछ में कहा था कि अगर वह मुंह खोलेगी तो कई बड़े चेहरे फंस जाएंगे। इसके बाद वह गायब हो गई. साढे़ पांच साल बाद उसे फिर से गिरफ्तार किया गया है। इस बीच उसको भगोड़ा भी घोषित कर और पांच लाख का इनाम घोषित कर दिया गया था।


More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top