‘भारत बंद’ को लेकर फेसबुक या व्हाट्सएप में भड़काऊ पोस्ट और फोटो डालने जा रहे हैं तो ये पढ़ लीजिए

‘भारत बंद’ को लेकर फेसबुक या व्हाट्सएप में भड़काऊ पोस्ट और फोटो डालने जा रहे हैं तो ये पढ़ लीजिएपुलिस की चेतावनी

लखनऊ। अगर सोशल मीडिया पर सक्रिया है। मलतब कि फेसबुक, ट्विटर, व्हाट्एसप ग्रुप आदि अगर एससी-एसटी एक्ट को लेकर हुए भारत बंद के संबंध में कोई भड़काऊ पोस्ट लिखते हैं, लाइक या कमेंट करते हैं, या करने की सोच रहे हैं। तो पुलिस आपको जेल पहुंचा सकती हैं। पुलिस की सोशल मीडिया सर्विलांस ऐसे पोस्ट और फेसबुक आई, ग्रुप आदि की लगातार निगारनी कर रही है।

यूपी पुलिस विभिन्न माध्यमों से इस बारे में लोगो क सतर्क और जागरुक भी कर रही है कि वो नियमों के विरुध बड़काऊ पोस्ट, पोस्ट या फोटो न डालें। धार्मिक और जातीय विद्वेश फैलाने वालों पर एक्शन लिया जाएगा।

नीचे उत्तर प्रदेश में अलीगढ़ एसएसपी (राजेश पांडेय, आईपीएस) की पोस्ट शेयर की जा रही है, जो उन्होंने 8 अप्रैल को फेसबुक पर एसएसपी अलगीढ़ नाम के पेज पर शेयर की है..

“माननीय सर्वोच्च न्यायालय द्वारा अनुसूचित जाति, जनजाति अधिनियम के संबंध में दिए गए निर्देशों के क्रम में विभिन्न व्यक्तियों द्वारा लगातार भारत बंद आदि के कार्यक्रम आयोजित करने के संबंध में सोशल मीडिया पर तरह-तरह के पोस्ट डाले जा रहे हैं। आप सभी लोगों से अनुरोध है कृपया सोशल मीडिया पर नियम विरुद्ध भड़काऊ पोस्ट, फ़ोटो आदि ना डालें। जो भी व्यक्ति सोशल मीडिया पर धार्मिक, जातीय अथवा समाज में विद्वेष फैलाने वाले पोस्ट डालेगा, शेयर अथवा लाइक करेगा उसके विरुद्ध I.T Act व IPC की सुसंगत धाराओ के अंतर्गत सख्त कार्यवाही की जाएगी। अलीगढ़ सोशल मीडिया सर्विलांस सेल व्हाट्सएप, फेसबुक, ट्विटर आदि सभी सोशल साइट्स पर अत्यंत सतर्क दृष्टि रखे हुए है। ग्रुप एडमिन भी इस प्रकार के किसी भी पोस्ट के लिये व्यक्तिगत रूप से जिम्मेदार होंगे और उनके विरुद्ध प्रथमतः सख्त कार्यवाही की जाएगी।”

अनुसूचित जाति, जनजाति अधिनियम को लेकर 20 मार्च को सुप्रीम कोर्ट ने एक फैसला सुनाया था, जिसमें एक्ट के दुरुपयोग और गिरफ्तारी को लेकर नए निर्देश दिए थे। दलित संगठनों ने 2 अप्रैल को भारत बंद बुलाया। जिसमें कई जगह हिंसा और आगजनी हुई थी। सोशल मीडिया पर भी ये मुद्दा छाया रहा है।

ये भी पढ़ें- SC-ST विवाद: सुप्रीम कोर्ट ने सरकारी अफसरों के अधिकारों का किया था बचाव, जानें क्या है पूरा मामला

ये भी पढ़ें- एससी - एसटी एक्ट : 17 फीसदी दलित वोटर, लोकसभा की आरक्षित 131 सीटें और सियासत

Share it
Top