Top

भोपाल में एक वालंटियर की मौत पर भारत बायोटेक ने दी सफाई, कहा - मौत और वैक्सीन की खुराक का संबंध नहीं

भोपाल में भारत बायोटेक कंपनी के थर्ड फेज के ट्रायल पूरा होने के नौ दिन बाद एक वालंटियर की मौत हो जाने पर कंपनी ने स्पष्टीकरण दिया है। अपने स्पष्टीकरण में कंपनी ने कहा है कि वैक्सीन की खुराक और वालंटियर की मौत का कोई संबंध नहीं है।

भोपाल में एक वालंटियर की मौत पर भारत बायोटेक ने दी सफाई, कहा - मौत और वैक्सीन की खुराक का संबंध नहींसात जनवरी को भारत बायोटेक ने अपनी वैक्सीन के थर्ड फेज के ट्रायल पूरे किये हैं।

भारत में कोरोना महामारी को लेकर एक ओर 16 जनवरी से टीकाकरण शुरू किया जाना है, दूसरी ओर मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में कोविड वैक्सीन कोवैक्सीन के तीसरे चरण के ट्रायल के कुछ दिनों बाद एक वालंटियर की मौत का मामला सामने आने पर भारत बायोटेक ने अपनी ओर से सफाई दी है।

भारत बायोटेक की ओर से स्पष्टीकरण में कहा गया है कि वालंटियर की मौत और वैक्सीन की खुराक का कोई संबंध नहीं है। भोपाल के गाँधी मेडिकल कॉलेज के द्वारा जारी पोस्टमार्टम रिपोर्ट के अनुसार वालंटियर की मौत का संभावित कारण कार्डियॉरेस्पिरेट्री फेलियर हो सकता है जो शरीर में जहर के कारण संभव है। फिलहाल भोपाल पुलिस मामले की जांच कर रही है।

भारत बायोटेक ने सात जनवरी को कोवैक्सीन के तीसरे चरण के क्लिनिकल ट्रायल को पूरा किया है। भोपाल में थर्ड फेज के ट्रायल में शामिल एक वालंटियर की नौ दिन बाद 21 दिसम्बर को मौत हो गयी। इसके बाद वैक्सीन को लेकर सवाल उठ रहे थे।

भारत बायोटेक के मुताबिक, ट्रायल के दौरान वालंटियर को सभी नियमों और शर्तों की जानकारी दी गयी और वालंटियर ने ट्रायल से जुड़े सभी मानकों को पूरा किया था। ट्रायल में खुराक देने के बाद अगले सात दिनों तक देखरेख में वालंटियर स्वस्थ था। कंपनी ने कहा कि फिलहाल यह नहीं बताया जा सकता है कि वालंटियर को वैक्सीन दी गयी थी या प्लेसिबो। ऐसे में परिक्षण की ओर से शुरूआती समीक्षा यह इशारा करती है कि वालंटियर की मौत और वैक्सीन की खुराक का कोई संबंध नहीं है।

कोरोना वायरस को लेकर भारत बायोटेक कंपनी की कोवैक्सीन को ड्रग्स कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया की ओर से भारत में आपात इस्तेमाल के लिए मंजूरी मिली है। इसके अलावा सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ़ इंडिया की वैक्सीन कोविशील्ड को भी आधिकारिक मंजूरी दी गयी है। ऐसे में जल्द ही भारत में टीकाकरण शुरू किया जाना है।

यह भी पढ़ें :

कोवैक्सीन के थर्ड ट्रायल के आंकड़े जारी किये बिना वैक्सीन लगाना कितना सही? जानिए क्या है विवाद और क्या कहते हैं एक्सपर्ट्स

कोरोना वैक्सीन के लिए जरूरी होगा पंजीकरण, जानिए कौन से दस्तावेज होंगे जरूरी और कैसे लगेगी वैक्सीन


Next Story

More Stories


© 2019 All rights reserved.