भोपाल गैस त्रासदी की 33वीं बरसी आज, कफन ओढ़कर प्रदर्शन

भोपाल गैस त्रासदी की 33वीं बरसी आज, कफन ओढ़कर प्रदर्शनभोपाल त्रासदी की 33वीं बरसी।

भोपाल (आईएएनएस)। भोपाल गैस हादसे की 33वीं बरसी को आज सभी याद कर रहे हैं। रविवार की सुबह कुछ लोगों ने कफन ओढ़कर राजभवन के सामने प्रदर्शन किया। आज पूरे दिन राजधानी के विभिन्न हिस्सों में लोग अपना दर्द साझा करेंगे। बरकतउल्ला भवन में सर्वधर्म प्रार्थना सभा होगी।

राजधानी में रविवार सुबह से अजीब सी खामोशी छाई हुई है। लोगों को 33 वर्ष पूर्व हुई हादसे की याद ताजा हो गई है, जिसमें हजारों लोगों की मौत हो गई थी और यह दौर अब भी जारी है।

भोपाल ग्रुप फॉर इंफॉर्मेशन एंड एक्शन के नेतृत्व में बड़ी संख्या में लोग सुबह छह बजे राजभवन के सामने पहुंचे और सड़क पर सफेद कपड़ा (कफन) लेकर लेट गए। वह रविवार को एक संगठन द्वारा आयोजित 'रन फॉर रन' का विरोध कर रहे थे। उनका कहना था कि एक तरफ आधा भोपाल मातम मना रहा है, वहीं दूसरी ओर उत्सव मनाया जा रहा है।

हादसे की 33वीं बरसी पर रविवार सुबह साढ़े 10 बजे बरकतउल्ला भवन में सर्वधर्म प्रार्थना सभा होगी। इस प्रार्थना सभा में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान सहित अन्य लोग शामिल होंगे। सभा में दिवंगत गैस पीड़ितों को श्रद्धांजलि दी जाएगी। इस मौके पर धर्मगुरुओं द्वारा विभिन्न धर्मग्रंथों का पाठ किया जाएगा।

ये भी पढ़ें - भोपाल गैस त्रासदी : दोबारा मां नहीं बन पाईं कई महिलाएं!

भोपाल ग्रुप फॉर इंफार्मेशन एंड एक्शन के द्वारा भारत टॉकीज से साढ़े 11 बजे यूनियन कार्बाइड संयंत्र तक रैली निकाली जाएगी। संयंत्र के सामने प्रदर्शन कर पुतलों का दहन करेंगे।

इसी तरह भोपाल गैस पीड़ित महिला उद्योग संगठन द्वारा रविवार को शाहजंहानी पार्क में सभा का आयोजन किया है। संगठन के संयोजक अब्दुल जब्बार ने बताया है कि इस सभा में प्रतिज्ञा ली जाएगी कि जब तक समस्याओं का निराकरण नहीं हो जाता है, तब तक संघर्ष जारी रहेगा।

भोपाल गैस पीड़ित संघर्ष सहयोग समिति द्वारा रविवार को यूनियन कार्बाइड के सामने बनी मूर्ति के समक्ष प्रदर्शन कर हादसे में मारे गए लोगों को श्रद्धांजलि दी जाएगी। समिति की संयोजक साधना कार्णिक के अनुसार, इस मौके पर पीड़ितों को न्याय दिलाने का संकल्प लिया जाएगा।

ये भी पढ़ें - भोपाल गैस त्रासदी की बरसी आज: 1984 की रात के दृश्य से आज भी सिहर उठते हैं लोग

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top