मप्र में सिंचाई रकबा 40 लाख हेक्टेयर से बढ़ाकर 60 लाख हेक्टेयर तक पहुंचाने का लक्ष्य

मप्र में सिंचाई रकबा 40 लाख हेक्टेयर से बढ़ाकर 60 लाख हेक्टेयर तक पहुंचाने का लक्ष्यसिंचाई।

भोपाल (भाषा)। मध्यप्रदेश में आने वाले सात वर्षो में वार्षिक सिंचाई का लक्ष्य 40 लाख हेक्टेयर वार्षिक से डेढ़ गुना बढ़ाकर 60 लाख हेक्टेयर तक पहुंचाने का लक्ष्य रखा गया है। इसके तहत अगले वित्त वर्ष 2018-19 के लिए 162 सिंचाई परियोजनाएं क्रियान्वित की जायेगी। इन परियोजनाओं से लगभग पौने तीन लाख हेक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई होगी।

आधिकारिक तौर पर आज यहां दी गयी जानकारी के मुताबिक प्रदेश में करीब पाँच हजार वृहद, मध्यम और लघु सिंचाई परियोजनाओं संचालित हो रही हैं। इनकी समग्र सिंचाई क्षमता 30.25 लाख हेक्टेयर है। प्रदेश में जल संसाधन विभाग के साथ ही नर्मदा घाटी विकास विभाग और ग्रामीण विकास विभाग आने वाले वर्षों में सिंचाई रकबा बढ़ाने की दिशा में कार्य कर रहे हैं।

ये भी पढ़ें- किसानों के लिए खुशखबरी, भारतीय कृषि वैज्ञानिकों ने मसूर की नई प्रजाति की विकसित, बढ़ेगी पैदावार

प्रदेश में वर्ष 2013-14 से 2016-17 के मध्य जल संसाधन विभाग ने दो वृहद सिंचाई परियोजनाएं, नौ मध्यम सिंचाई परियोजनाएं और 725 लघु सिंचाई परियोजनाएं पूरी कर 5.70 लाख हेक्टेयर क्षेत्र में अतिरिक्त सिंचाई क्षमता निर्मित की है।

ये भी पढ़ें- विश्व खाद्य दिवस विशेष : गेहूं के उत्पादन को घटा देगा जलवायु परिवर्तन

प्रदेश में पिछले चार वर्ष में जल संसाधन संभाग का वार्षिक सिंचाई रकबा 25.46 लाख हेक्टेयर से बढ़कर 29.02 लाख हेक्टेयर हो गया है। इस अवधि में रबी सिंचाई भी 23.30 लाख से बढ़कर 26.51 लाख हेक्टेयर हो गई है। कमाण्ड एरिया डेवलपमेंट प्रोग्राम में पिछले चार वर्ष में 3.55 लाख हेक्टेयर क्षेत्र में फिल्ड चैनल और वॉटर कोर्स का निर्माण भी किया गया है।

ये भी पढ़ें- वो खेतों में दिन दिन भर पसीना बहाती हैं.. लेकिन किसानी का दर्ज़ा नहीं

राज्य में उपलब्ध जल का किसानों को अधिक से अधिक लाभ मिले, इस उद्देश्य से सभी नई और मध्यम परियोजनाओं में खुली नहर के स्थान पर प्रेशराइज्ड पाइप लाइन के माध्यम से इस स्प्रिंकलर और ड्रिप प्रणाली से सिंचाई का प्रावधान रखा गया है।

ये भी पढ़ें- ‘महिलाएं ला सकती हैं देश में दूसरी हरित क्रांति’

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top