देश

मोतिहारी लाइव : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने स्वच्छाग्रहियों को भोजपुरी में किया संबोधित 

चंपारण सत्याग्रह शताब्दी वर्ष समारोह के समापन में भाग लेने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मंगलवार की सुबह पटना पहुंचे। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बिहार में रेल योजनाओं को हरी झंडी दिखाने के साथ-साथ ‘स्वच्छ भारत मिशन' के स्वच्छाग्रहियों को भी संबोधित कर रहे हैं। बिहार आने पर पटना के फुलवारीशरीफ स्थित जयप्रकाश नारायण हवाई अड्डे पर राज्यपाल सत्यपाल मलिक और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने स्वागत किया। इस मौके पर प्रधानमंत्री के साथ उमा भारती भी मौजूद थीं। कार्यक्रम में देश के विभिन्न राज्यों से आए तकरीबन 20,000 स्वच्छाग्रही उपस्थित हैं। प्रधानमंत्री मोदी ने सभा को भोजपुरी में संबोधित किया।

बिहार की स्वच्छाग्रही रिंकू कुमारी को प्रधानमंत्री ने किया सम्मानित

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नालंदा जिले के गिरियक प्रखंड की अदमपुर पंचायत निवासी रिंकू कुमारी को सम्मानित किया। रिंकू कुमारी ने खुले में महिलाओं को शौच के लिए जाते देख उन्होंने स्वच्छता के प्रति लोगों को जागरूक करने की ठानी। वह हर रोज करीब आठ घंटे लोगों से मिल कर जागरूक करने लगीं। स्वच्छाग्रही बनने के मात्र दो माह में ही रिंकू कुमारी ने दस वार्डों को खुले में शौच मुक्त करने के साथ युवकों को भी जोड़ा। रिंकू कुमारी जीविका दीदी होने के साथ-साथ स्वरोजगार योजना की प्रशिक्षिका भी हैं। इसके अलावा रिंकू कुमारी अपने घर पर चूड़ी भी बनाती हैं। उनकी चूड़ी की खासियत ऐसी है कि लोग उनके घर पर खरीदारी करने के लिए भी दूर-दूर से आते हैं। उन्होंने चूड़ी में स्वच्छ भारत और शौचालय की तस्वीर बना कर जागरूकता लाने का सफल प्रयास किया। रिंकू की इस कला को राजगीर महोत्सव में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से भी सराहना मिल चुकी है।

'सत्याग्रह से स्वच्छताग्रह' के बैनर-झंडों से पटा शहर

चंपारण के इतिहास में यह नया अध्याय जुड़ रहा है जब बापू के सत्याग्रह की भूमि से देश के प्रधानमंत्री स्वच्छता का संदेश दिया। प्रधानमंत्री के आगमन को देखते हुए मोतिहारी में विशेष इंतजाम किए गए हैं। पूरे शहर में सत्याग्रह से स्वच्छताग्रह के नारे लिखे गए हैं। बैनर-झंडों में भी यही संदेश चारो ओर लगाए गए हैं।

बिहार के मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार ने संबोधित किया। कहा...

गांधी जी ने सत्‍याग्रह के साथ स्‍वच्‍छता के लिए भी प्रेरित किया। उन्‍होंने शिक्षा पर भी जोर दिया। आजादी के बाद इसपर ठीक से अमल नहीं हुआ। गांधीजी के बाद स्‍वच्‍छता को अगी किसी ने ठीक से उठाया तो वे लोहिया थे। हमें स्‍वच्‍छता के लिए समर्पित होना पढ़ेगा। हमने बिहार में इसके लिए विशेष अभियान चलाया है। इसके अलावा हर घर नाली व स्‍वच्‍छ पेयजल को लेकर भी अभियान चलाया जा रहा है। स्‍वच्‍छता को लेकर अभियान से ही प्रगति होगी। बिहार के स्‍कूलों में गांधी के विचारों से नई पीढ़ी को अवगत कराया जाएगा। स्‍कूलों में उनकी कथाएं पढ़ाई जाएंगी। अगर नई पीढ़ी का 10 फीसद भी गांधी के विचारों को अपना ले तो समाज व देश बदल जाएगा।

- प्रधानमंत्री ने रिमोट से स्‍वच्‍छाग्रही ई-बुक का लोकार्पण किया।

केंद्रीय मंत्री उमा भारती ने संबोधित किया। कहा, आजादी के पहले ही आजाद भारत के स्‍वरूप का सपना महात्‍मा गांधी ने देखा था। गांधी जी को जब दक्षिण अफ्रीका में ट्रेन से उतार दिया गया तब उन्‍हें लगा कि रोटी ही काफी नहीं, इज्‍जत भी जरूरी है। गांधी ने स्‍वच्‍छता का सपना देखा था। उनके और भी कई सपने थे। वे चाहते थे कि लोगों को रोटी मिले, साथ ही सम्‍मान के साथ जीने का अधिकार भी मिले। यही उनका राम राज्‍य था। लंबे समय तक उनके सपने के पूरा होन की प्रतीक्षा होती रही। मैंने नरेंद्र मोदी को गुरु मानकर सीखा कि विकास के लिए कैसे काम हो सकता है। गांधीजी के सपनों को पूरा करने के लिए नरेंद्र मोदी आगे आए हैं।

- प्रधानमंत्री मोदी ने हमसफर एक्‍सप्रेस को हरी झंडी दिखाई। साथ ही रेलवे की योजनाओं का शिलान्‍यास व उद्घाटन किया।

प्रधानमंत्री ने अरुणाचल प्रदेश के तवांग की येशी बांग्मू, आंध्रप्रदेश के चित्तुर के ए रमेश, बिहार के नालंदा जिले की रिंकू कुमारी, छत्तीसगढ़ के रायगढ़ की मोनिका इजारदार, झारखंड के सिमडेगा के मोरिश जोरिया, राजस्थान के बंसवाड़ा के मणिलाल राणा, तमिलनाडु के डिंडिगुल की एस राजलक्ष्मी, तेलंगाना के राजन्ना सिरसिल्ला की जुपेल्ली नीराजा, उत्तर प्रदेश के बिजनौर के अतीक अहमद को शॉल, प्रमाणपत्र, स्मृति चिह्न और 51,000 रुपये देकर सम्मानित किया।

कार्यक्रम में ये रहेंगे मौजूद

स्वच्छता सम्मेलन में जल एवं स्वच्छता मंत्री उमा भारती, केंद्रीय विधि मंत्री रविशंकर प्रसाद, खाद्य व आपूर्ति मंत्री रामविलास पासवान, कृषि व किसान कल्याण मंत्री राधामोहन सिंह, सूक्ष्म लघु व मध्यम उपक्रम मंत्री गिरिराज सिंह, ऊर्जा मंत्री राज कुमार सिंह, सिंह, स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण राज्य मंत्री अश्विनी चौबे, संचार एवं रेल राज्य मंत्री मनोज सिन्हा, ग्रामीण विकास मंत्री राम कृपाल यादव, पेयजल एवं स्वच्छता राज्य मंत्री एसएस अहलूवालिया, सुरेश कुमार शर्मा, श्रवण कुमार, पीएचईडी मंत्री विनोद नारायण झा आदि रहेंगे।