गांव की इस 70 वर्षीय महिला ने दिया ‘दूध से जरूरी इज्जत’ का संदेश, सम्मानित करेगी सरकार 

गांव की इस 70 वर्षीय महिला ने दिया ‘दूध से जरूरी इज्जत’ का संदेश, सम्मानित करेगी सरकार तेतरी देवी।

गया। देश में बिहार राज्य के गया जिला की रहने वाली तेतरी देवी अब ‘दूध से जरूरी इज्जत' का संदेश देकर चर्चा में है।

बिहार के गया जिले की पहचान यूं तो महात्मा बुद्ध के ज्ञान प्राप्त करने के कारण 'ज्ञानस्थली' के रूप में होती है, मगर जिले के बाराचट्टी प्रखंड के तेवारीचक गांव की आर्थिक रूप से कमजोर तेतरी ने अपनी दुधारू (दूध देने वाली) गाय को बेचकर उससे मिले पैसे से शौचालय बनाने का काम किया है।

पिछले दिनों बिहार के पूर्वी चंपारण जिले के जिला मुख्यालय मोतिहारी से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से स्वच्छता का संदेश पूरे देश को दिया था। यह संदेश अब कोने-कोने में पहुंचने लगा है। तेवारीचक गांव की रहने वाली 70 वर्षीय तेतरी देवी की आर्थिक स्थिति अच्छी नहीं है। इंदिरा आवास योजना से बने घर में वह पति और बेटे-बहू के साथ रह रही है।

बेटे की शादी की तो घर में मैट्रिक पास बहू भी आ गई, लेकिन तेतरी को घर में शौचालय नहीं रहने का मलाल था। घर में शौचालय बनवाने की इच्छा तो तेतरी और नई-नवेली बहू की भी थी, लेकिन इस काम में पैसा आड़े आ रहा था।

तेतरी बताती हैं, “शौचालय बनाने के लिए बहू ने अपने जेवर भी बेचने को दे दिए थे, लेकिन मैंने इसे बहू की अमानत बताकर बेचने से मना कर दिया था। इसके बाद घर की गाय बेचने का फैसला किया गया।“ आगे बताती हैं, “गाय को बेचने के लिए मैंने 14 हजार रुपये में सौदा किया और उसी पैसे से शौचालय के लिए ईंट, बालू और सीमेंट खरीदकर पूरा परिवार घर में शौचालय निर्माण में जुटा है।“

ये भी पढ़ें- बैक डेट में दी चेक, बहू के नाम बनेगा शौचालय

पति को नहीं मिल पाता दूध, मगर…

तेतरी कहती हैं, "गाय चली गई तो अब पति को दूध नहीं दे पाती हूं। गाय तो फिर आ जाएगी, शौचालय जरूरी था। जागरूकता अभियान वाले भी बोलते थे तो अच्छा नहीं लगता था।" तेतरी को हालांकि इसका मलाल जरूर है कि उसके पति अक्सर बीमार रहते हैं, गाय रहने से उन्हें दूध मिल जाता था। अब दूसरी गाय लेने लायक पैसा कब जुटेगा, पता नहीं।

अधिकारी कर रहे हैं प्रशंसा

तेतरी के इस फैसले का न केवल क्षेत्र के लोग, बल्कि सरकारी अधिकारी भी प्रशंसा कर रहे हैं। प्रखंड कार्यालय ने तेतरी को सम्मानित करने का निर्णय लिया है। गया के बाराचट्टी के प्रखंड विकास पदाधिकारी प्रणव कुमार गिरि कहते हैं, "तेतरी देवी एक उदाहरण हैं। उनकी सोच अनुकरणीय है। तेतरी आज समाज को ही नहीं, ऐसे लोगों को भी संदेश दे रही हैं, जो पैसे की कमी का रोना रोकर घर में शौचालय नहीं बनवाते।"

उन्होंने कहा कि गया हमेशा से 'ज्ञानभूमि' के रूप में चर्चित है, तेतरी का संदेश भी इस क्षेत्र में स्वच्छता के प्रति लोगों को जागरूक करेगा।

(एजेंसी)

ये भी पढ़ें- साफ व स्वच्छ शौचालय के लिए जागरूक करने वाली ग्रामीण महिलाओं को मिला सम्मान 

श्रद्धालुओं से लाखों की आमदनी, तीर्थस्थलों पर शौचालय फिर भी नहीं

ऑफिस में महिलाओं के लिए शौचालय न होना भी कार्यक्षेत्र में यौन उत्पीड़न है

Tags:    Swacch bharat 
Share it
Share it
Share it
Top