बढ़ रहा है बिटकॉइन का क्रेज कंपनियां नाम के आगे या पीछे जोड़ रही बिटकॉइन

बढ़ रहा है बिटकॉइन का क्रेज कंपनियां नाम के आगे या पीछे जोड़ रही बिटकॉइनबिटकॉइन को लेकर बढ़ रहा क्रेज।

नई दिल्ली (भाषा)। आभासी मुद्रा बिटकॉइन में आए जोरदार उछाल ने न केवल निवेशकों को आकर्षित किया है, बल्कि बड़ी संख्या में भारतीयों को इस क्रिप्टोकरेंसी में कारोबार की संभावनाएं नजर आ रही हैं। इसी के मद्देनजर लोग बड़ी संख्या में बिटकॉइन के क्रेज को भुनाने लगे हैं और अपनी कंपनी के नाम के आगे पीछे बिटकॉइन जोड़ रहे हैं।

पिछले कुछ सप्ताह में करीब एक दर्जन कंपनियां दर्ज हुई हैं जिनके नाम में बिटकॉइन जुड़ा हुआ है। इनमें से कुछ कंपनियों का पंजीकरण तो हाल ही में हुआ है। इसके अलावा कंपनी पंजीयक के पास बड़ी संख्या में आवेदन लंबित हैं। ऐसी कंपनियों की संख्या कहीं अधिक हैं जिनके नाम के साथ क्रिप्टो जुड़ा है। बिटकॉइन के भारतीय संस्करण के रुप में इंडिकॉइन और भारतकॉइन के अलावा स्वच्छकॉइन नाम से कंपनियों के पंजीकरण के आवेदन मिले है।

उद्यमियों और निवेशकों में बिटकॉइन को लेकर यह क्रेज तमाम नियामकीय चेतावनियों के बावजूद जारी है। नियामकों ने बिटकॉइन और उसके अन्य विकल्पों में बिना नियमन के परिचालन को लेकर आगाह किया है। बिटकॉइन और अन्य क्रिप्टोकरेंसी के तहत धन जुटाने में मनी लांड्रिंग और आतंकवाद के वित्तपोषण की आशंकाएं भी जुडी हुई हैं। नियामकीय एजेंसियों के बीच इस बात की भी चिंता है कि इनकी आड़ में कहीं अवैध रुप से धन जुटाने की गतिविधियां तो नहीं चल रहीं हैं। इस तरह की कुछ फर्जी कंपनियों को पकड़ा भी गया है।

नियामक और सरकारी विभाग इस बारे में अपनी जांच को आगे बढ़ा रहे हैं। इन विभागों के अधिकारियों का कहना है कि वे इस नए आकर्षण को समझने का प्रयास कर रहे हैं। इसके बावजूद उद्यमी इससे जुड़े जोखिमों को लेकर बेपरवाह हैं। गाजियाबाद से लेकर कानपुर तक और दार्जिलिंग से लेकर जयपुर तथा दिल्ली से अहमदाबाद, मुंबई तक क्रिप्टोकरेंसी का आकर्षण बढ़ रहा है। इन नामों के लिए आवेदन करने वाली कंपनियों ने अलग-अलग कारोबारी गतिविधियों के लिये प्रस्ताव किया है।

ये भी पढ़ें:ये है दुनिया की सबसे महंगी करेंसी... जानिए बिटकॉइन की ए बी सी डी

इस तरह के नामों के साथ आने वाली कंपनियों में एक कंपनी ने खुदरा व्यापार-व्यक्तिगत और परिवार में इस्तेमाल होने वाली वस्तुओं की मरम्मत का कारोबार करने की गतिविधि दिखाई है तो एक अन्य कंपनी ने वित्तीय मध्यस्थ इकाई के रुप में कारोबार करने की इच्छा जताई है। एक अन्य कंपनी का कहना है कि खोजी पत्रकारिता के क्षेत्र में काम करने का आवेदन दिया है।

कंपनी पंजीयक के आंकड़ों के अनुसार पंजीकरण कराने वाली इकाइयों ने बिटकॉइन बाजार, बिटकॉइन एक्सचेंज, बिटकॉइन फिनकंसल्टेंट्स, बिटकॉइन इंडिया साफ्टवेयर सर्विसेज, बिटकॉइन सर्विसेज इंडिया, बिटकॉइनर्स इंडिया, बिटकॉइन इंडिया और बिट कॉइन इन्फोटेक के रुप में पंजीकरण कराया है।

इसके अलावा क्रिप्टो एडवाइजर्स, क्रिप्टो फ्यूचरिस्टिक्स ट्रेड्स, क्रिप्टो इन्फोटेक, क्रिप्टो, आईटी सर्विसेज, क्रिप्टो लैब्स, क्रिप्टो माइनिंग, क्रिप्टो यो कॉइन इंडिया, क्रिप्टो कॉइन साल्यूशंस और क्रिप्टोमुद्रा डिजिटल सर्विसेज के रुप में भी पंजीकरण हुआ है।

ये भी पढ़ें: डार्कनेट और बिटकॉइन के जरिए भारत में हो रहा नशे का कारोबार

ये भी पढ़ें: दुनिया की सबसे महंगी करेंसी के एक्सचेंजों पर आयकर विभाग की देशभर में छापेमारी

ये भी पढ़ें: यूपी एसटीएफ के पास झांसे में फंस रहे व्यापारियों की आ रही शिकायतें

Share it
Share it
Share it
Top