कांग्रेस के मेनिफेस्टो पर अरुण जेटली का पलटवार, कहा- जो लागू नहीं हो सकते ऐसे वादे किये

कांग्रेस के मेनिफेस्टो पर अरुण जेटली का पलटवार, कहा- जो लागू नहीं हो सकते ऐसे वादे किये

लखनऊ। लोकसभा इलेक्शन 2019 (Loksabha Election 2019) के लिए जारी कांग्रेस के मेनिफेस्टो पर वित्त मंत्री अरुण जेटली ने पलटवार करते हुए कहा कि जो लागू नहीं हो सकते ऐसे वादे किये गये हैं। उन्होंने यह भी कहा कि कांग्रेस नेतृत्व माओवादी और जिहादियों के चंगुल में है।

लोकसभा चुनाव के लिए जारी कांग्रेस के घोषणापत्र (Congress Manifesto) पर सवाल उठाते हुए कहा कि घोषणापत्र में काफी बातें ऐसी हैं जो ऐसा लगता है कि राहुल गांधी के टुकड़े-टुकड़े गैंग वाले दोस्तों ने तैयार किये हैं।

जेटली ने आगे बोलते हुए कहा कि राहुल गांधी ने घोषणापत्र में ऐसे वादे किये हैं जो पूरे ही नहीं हो सकते। इनके वादे देश की एकता और अखंडता को तोड़ने वाले हैं। कांग्रेस वादा कर रही है वह देशद्रोह के अपराध को खत्म कर देगी।

उन्होंने कहा कि इसके अलावा जमानत देना नियम बनाने का वादा किया गया है। वित्त मंत्री ने आगे कहा कि कांग्रेस AFSPA को कमजोर करने की बात कर रही है। उनके घोषणापत्र की मानें तो अब सेना के अधिकारी पर किसी सरकारी अनुमति के बिना मामला दर्ज हो पायेगा।

यह भी पढ़ें- लोकसभा चुनाव 2019: कांग्रेस ने जारी किया घोषणापत्र, ये हैं 5 बड़ी बातें

जेटली ने पत्रकारों से बातचीत करते हुए कहा कि कांग्रेस ने अपने घोषणापत्र में जम्मू-कश्मीर के लिए पूरा पेज लिखा है लेकिन कश्मीरी पंडितों का कोई जिक्र नहीं किया है। कांग्रेस ने सेक्युलेरिज्म में कश्मीरी पंडितों के लिए आंसू नहीं है। पार्टी कश्मीर में सेना को कमजोर कर पत्थरबाजों को मजबूत कर रही है। जेटली ने यह भी कहा कि न्याय योजना भी कांग्रेस पार्टी का एक धोखा है।

इसमें यह भी साफ नहीं किया गया है ये पैसे आएंगे कहां से। जीएसटी में एक ही तरह का टैक्स लगाना गलत कदम है। अरुण जेटली ने कहा कि ऐसा लगता है कि कांग्रेस के घोषणापत्र को राहुल गांधी से ज्यादा बार मैंने पढ़ा है। इस घोषणापत्र के जरिए कांग्रेस राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए नई नीति ही ला रही है, जिसका मकसद इसे कमजोर करना है।

Next Story

More Stories


© 2019 All rights reserved.