Top

मध्य प्रदेश में कल से ‘किसान संदेश यात्रा‘ निकालेगी भाजपा: शर्मा  

मध्य प्रदेश में कल से  ‘किसान संदेश यात्रा‘ निकालेगी भाजपा: शर्मा   किसान आंदोलन के दौरान भूख हड़ताल पर बैठे सीएम शिवराज सिंह।

भोपाल (भाषा)। मध्य प्रदेश में हुए किसान आंदोलन के दौरान मंदसौर में पुलिस फायरिंग में पांच किसानों के मारे जाने और किसानों द्वारा की जा रही खुदकुशी से शिवराज सरकार की साख गिरती जा रही है। अब भाजपानीत प्रदेश सरकार की गिरती साख को बचाने के लिए भारतीय जनता पार्टी मंगलवार से प्रदेश में 'किसान संदेश यात्रा' निकालेगी। ताकि समूचे राज्य में किसानों तक पहुंचा जा सके और उनकी समस्याओं को निदान किया जा सके।

प्रदेश भाजपा के महासचिव वीडी शर्मा ने 'पीटीआईभाषा' को आज बताया, ''हमारी पार्टी के जनप्रतिनिधि 10 दिवसीय किसान संदेश यात्रा के तहत कल से किसानों से मिलने गांव-गांव जाएंगे। हम उनकी शिकायतों को सुनेंगे और केंद्र एवं राज्य सरकार द्वारा उनके कल्याण के लिए चलाई जा रही अनेकों योजनाओं से उन्हें अवगत कराएंगे। '' उन्होंने कहा, ''हम किसानों के दिमाग में जो गलतफहमी कुछ निहित स्वार्थी लोगों ने बिठा दिया है, उसे दूर करेंगे।''

शर्मा ने बताया कि हमारा मुख्य उद्देश्य है कि किसानों को उनके लिए बनाई गयी सरकारी नीतियों एवं कल्याणकारी योजनाओं से जोड़ना है। उन्होंने कहा कि यह यात्रा हाल ही में किसानों के आंदोलन के बाद नहीं लिया गया है, बल्कि इसकी योजना हमने किसान आंदोलन से पहले ही बना ली थी।

ये भी पढ़ें : अभी ठंडी नहीं हुई है किसान आंदोलन की आग, देशभर के किसान संगठन कर रहे बड़ी तैयारी

शर्मा ने बताया कि मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान किसान के बेटे हैं और इसलिए वह किसानों की समस्याओं के प्रति बहुत संवेदनशील हैं। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा है कि वर्ष 2022 तक किसानों की आमदमी दोगुनी करनी है। मध्यप्रदेश में इसको पूरा करने के लिए चौहान एवं प्रदेश सरकार बहुत मेहनत कर रही है।

संबंधित खबर : किसान आंदोलन नेताओं के बहकावे पर नहीं होते

गौरतलब है कि मध्यप्रदेश के किसान अपनी उपज के वाजिब दाम और कर्ज माफी सहित 20 मांगों को लेकर एक जून से 10 जून तक आंदोलन पर थे और इस दौरान प्रदर्शनकारियों ने प्रदेश में हिंसा, आगजनी, तोड़फोड़ एवं लूटपाट की कई घटनाएं की। मंदसौर जिले में 6 मई को किसान आंदोलन के दौरान पुलिस गोलीबारी में पांच किसानों के मारे जाने के बाद प्रदेश सरकार द्वारा किसानों के हित में कई घोषणाएं करने के बावजूद भी प्रदेश में आठ जून से लेकर अब तक 20 से अधिक किसानों ने खुदकुशी की है। इससे प्रदेश सरकार चारों तरफ से घिरी हुई है।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Next Story

More Stories


© 2019 All rights reserved.