#Blue Whale game effect : सीबीएसई बोर्ड ने स्कूलों में स्मार्टफोन पर लगाया प्रतिबंध

#Blue Whale game effect : सीबीएसई बोर्ड ने स्कूलों में स्मार्टफोन पर लगाया प्रतिबंधप्रतीकात्मक फोटो

नई दिल्ली। देश और दुनिया में ब्लू व्हेल गेम से फैली दहशत के बीच केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) ने स्कूलों में इंटरनेट और इलेक्ट्रॉनिक गैजेट्स के उपयोग के लिए दिशा-निर्देश जारी किए हैं। सीबीएसई ने स्कूलों को निर्देश दिया है कि वह बच्चों को इंटरनेट के सुरक्षित उपयोग के बारे में जानकारी देने के साथ यह सुनिश्चित करे कि स्मार्टफोन, टैबलेट, आई पैड, लैपटॉप जैसे इलेक्ट्रॉनिक संचार उपकरण बिना इजाजत स्कूल में नहीं लाए जा सके।

ये भी पढ़ें:- मच्छरों से महाभारत : डेंगू, मलेरिया और जेई फैलाने वाले मच्छरों के खिलाफ गांव कनेक्शन फाउंडेशन की मुहिम

जारी किए दिशा-निर्देश

सीबीएसई ने स्कूलों को डिजिटल टेक्नॉलॉजी के सुरक्षित उपयोग को लेकर दिशा-निर्देश जारी किए हैं। बोर्ड ने कहा है कि, स्कूलों को प्रभावी पठन-पाठन के लिए सुरक्षित शैक्षणिक माहौल को बढ़ावा देना चाहिए। ऐसे में स्कूलों को अपने परिसरों में आईटी सम्पन्न उपकरणों के जरिए अनुपयुक्त गतिविधियों को रोकने की दिशा में कदम उठाने चाहिए। बोर्ड के दिशा-निर्देश में कहा गया है कि स्कूलों को छात्रों को इंटरनेट के सुरक्षित उपयोग के बारे में जानकारी देनी चाहिए। साथ ही छात्रों को इंटरनेट के स्वीकार्य उपयोग के नियमों के बारे में जागरूक बनाना चाहिए। स्कूलों में सभी कम्प्यूटरों में प्रभावी फायरवाल, फिल्टर, निगरानी सॉफ्टवेयर जैसे सुरक्षा उपायों को लगाना सुनिश्चित करना चाहिए. कम्प्यूटर में पैरेंटल कंट्रोल फिल्टर एवं एंटी वायरस अपलोड करना चाहिए।

ये भी पढ़ें:- घर से बाहर निकलना चाहती हैं उत्तर प्रदेश की ग्रामीण महिलाएं, देख रहीं समाचार और जाती हैं ब्यूटी पार्लर

स्कूलों के प्राचार्य रखेंगे ध्यान

सीबीएसई के परिपत्र में कहा गया है कि यह सूचित किया जाता है कि दृश्य या श्रव्य सामग्री को संग्रहित, रिकॉर्ड या प्ले कर सकने में समक्ष स्मार्ट मोबाइल फोन, टैबलेट, आई पैड, लैपटॉप जैसे इलेक्ट्रॉनिक संचार उपकरणों को स्कूल या स्कूल बसों में बिना अनुमति के नहीं लाया जाए। स्कूल में प्राचार्य और स्कूल बसों में परिवहन प्रभारी इस बात का ध्यान रखें कि मोबाइल फोन नहीं लाया जा सके।

ये भी पढ़ें:- सर्वे : 45 % ग्रामीण महिलाएं बनना चाहती हैं टीचर तो 14 % डॉक्टर, लेकिन रास्ते में हैं ये मुश्किलें भी

ये भी पढ़ें:- ये पांच नदियां जब लेती हैं रौद्र रूप, तब यूपी और बिहार में मचती है तबाही

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Top