मुंबई में लापता डॉक्टर दीपक अमरापुरकर का शव वर्ली में नाले के पास मिला, IMA ने BMC को ठहराया जिम्मेदार

मुंबई में लापता डॉक्टर दीपक अमरापुरकर का शव वर्ली में नाले के पास मिला, IMA ने BMC को ठहराया जिम्मेदारडॉ.दीपक अमरापुरकर (फाइल फोटो)

लखनऊ। मुंबई में बारिश 7 लापता लोगों में से एक डॉक्टर दीपक अमरापुरकर का शव बरामद हो गया हैं। उनका शव वर्ली में नाले के पास मिला है। इससे पहले एलफिंस्टन में उनके एक मैनहोल में गिरने की आशंका जताई गई। वह पेट से जुड़े मामलों के बेहतरीन डॉक्टरों में से एक थे। घर के पास ज़बरदस्त पानी भरे होने के चलते वह गाड़ी छोड़ पैदल घर के लिए निकल गए थे। इस दौरान खुले पड़े एक मैनहोल में गिरने के चलते जान गवां दी। कुछ चश्मदीदों ने उन्हें गिरते हुए देखा। उनकी छतरी से उनकी पहचान हुई है।

डॉ दीपक मंगलवार शाम वह बॉम्बे हॉस्पिटल से लोअर परेल स्थित अपने घर के लिए निकले थे लेकिन अब तक घर नहीं पहुंचे थे, हांलाकि उनकी छतरी सड़क पर एक मेनहॉल के पास पड़ी मिली। डॉक्टर के परिजनों ने पुलिस में शिकायत भी दर्ज कराई थी। ऐसा माना जा रहा था कि डॉक्टर दीपक मेनहॉल में गिर गए। इंडियन मेडिकल एसोसिएशन ने डॉक्टर दीपक अमरपुरकर की मौत के लिए बीएमसी को जिम्मेदार ठहराया है।

ये भी पढ़ें- मुम्बई बारिश में बॉम्बे अस्पताल के मशहूर डाक्टर दीपक अमरापुरकर अचानक गुम हो गए

डॉक्टर की भतीजी पल्लवी गोडबोले ने बताया, 'उन्होंने ड्राइवर से कहा था कि वह कार को घर ले जाए और वह यह सोचकर ही पैदल ही घर के लिए निकले थे कि 10 मिनट में घर पहुंच जाएंगे। वह जहां पर थे, वहां से हमारा घर सिर्फ 10 मिनट की दूरी पर है।' लोअर परेल में इंडिया बुल्स के नजदीक उनकी छतरी पाए जाने के बाद ये संदेह भी गहरा होता जा रहा है कि कहीं वे मेनहॉल में तो नहीं गिर गए। मंगलवार पूरी रात बीएमसी, पुलिस और गोताखोर उन्‍हें ढूंढते रहे लेकिन अब तक उनका पता नहीं चल पाया था।

उधर, भारी बारिश के बाद मुंबई में धीरे-धीरे हालात सुधर रहे हैं. सब कुछ पटरी पर लौट रहा है, हालांकि आज भी भारी बारिश की चेतावनी है। इससे पहले एक दिन की बारिश ने जैसे मुंबई की कमर ही तोड़ दी। इसके चलते मुंबई और आस पास मरने वालों की संख्या 15 हो गई है जिनमें 6 लोग मुंबई में मारे गए हैं। 4 लोग ठाणे और 4 लोग पालघर में जान गंवा बैठे हैं। इसके साथ ही पानी उतरने के साथ-साथ जगह कचरे का अंबार लग गया है। गंदे पानी के चलते बीमारियों के फैलने का खतरा बढ़ गया है। पहले से खस्ताहाल मुंबई की सड़कों के गड्डे और गहरे हो गए हैं. सैलाब से जान माल के साथ-साथ भारी आर्थिक नुकसान की भी आशंका है।

Share it
Share it
Share it
Top