सपने देखना और पूरा करना आसान लेकिन असलियत में बदलना कठिन: विशाल ददलानी 

सपने देखना और पूरा करना आसान लेकिन असलियत में बदलना कठिन: विशाल ददलानी विशाल ददलानी

"हमेशा जो न्यूज़ चैनल्स और न्यूज़ पेपर्स हैं, वो शहरों की बातें करते रहते हैं गाँव में जो हो रहा है वो हमे पता नहीं पड़ता है। वहां की समस्याओं के बारे में जानकारी नहीं हो पाती। गाँव कनेक्शन की वजह से हमे वहां की खबरें पता चलती रहती हैं।" ऐसा कहना है विशाल ददलानी का।

विशाल ददलानी बॉलीवुड के उन चंद लोगों में से हैं जो समय समय पर गाँव और सामाजिक सरोकार से जुड़ी समस्याओं पर बात करते रहते हैं।

यह भी पढ़ें- गाँव कनेक्शन : ईमानदारी की पत्रकारिता के पांच साल

दो दिसंबर को गाँव कनेक्शन की पांचवीं वर्षगांठ के मौके पर गाँव कनेक्शन को बधाई देते हुए कहते विशाल कहते हैं "गाँव कनेक्शन को 5 साल पूरा करने पर मैं दिल से बधाई देना चाहता हूँ। मैं सभी को बधाई देना चाहता हूँ। 50 साल और हों, 100 साल और हों। दिल से आभार नीलेश मिसरा को।"

बालीवुड के मशहूर संगीतकार विशाल ददलानी का जन्म सन् 28 जून 1973 को मुम्बई में हुआ था। विशाल का जन्म एक सिंधी परिवार में हुआ था जो मुम्बई में रहते थे। उन्होंने अपने फ़िल्मी करियर की शुरुआत 'प्यार में कभी कभी' गाने से की थी। वर्ष 2003 में फिल्म झंकार बीट्स से विशाल को पहचान मिली। इस फिल्म की गायिकी के लिए उन्हें न्यू टैलेंट हंट आर. डी बर्मन का पुरुस्कार से भी नवाजा गया था। विशाल ददलानी और उनके सहनिर्देशक शेखर ने कई फिल्मों के गानो को संगीत दिया हैं निर्देशन किया हैं।

यह भी पढ़ें- “हम पत्रकारिता में क्रांति तभी ला सकते हैं जब हम जरूरतमंदों की आवाज बनें”

गाँव कनेक्शन को बधाई देते हुए विशाल कहते हैं, "सपने देखना और उन्हें पूरा करना आसान होता है, लेकिन उसे असलियत में बदलना बहुत ही कठिन होता है।"

विशाल ने अपने टीवी करियर की शुरूआत टीवी सारे गा मा पा सिंगिंग सुपरस्टार से की थी। इस शो में विशाल जज थे। इसके बाद वह इंडियन आइडल में जज नजर आए।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top