Budget 2019 Live: आधार नंबर से भी भर पाएंगे इनकम टैक्‍स

लखनऊ। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण अब से कुछ देर में बजट पेश करेंगी। यह बजट मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल का बजट है। बजट पेश करने से पहले उन्होंने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से मुलाकात की। 11 बजे बजट पेश करने की कार्यवाही शुरू होगी। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण संसद भवन में बजट पेश कर रही हैं।

निर्मला सीतारमण ने बजट की शुरुआत जनता के आभार से की। उन्‍होंने कहा, 'इस बार देश की जनता ने पूर्ण बहुमत के साथ हमें सरकार में बैठाया है। इस चुनाव में लोगों ने भरपूर वोट दिया। पहली बार महिला, युवा, बुजुर्गों ने अच्छा काम करने वाली सरकार पर भरोसा जताया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अगुवाई में हमारी सरकार तेजी से काम कर रही है और अंतिम पायदान पर खड़े व्यक्ति की मदद कर रही है।'

अपने भाषण में उन्होंने कहा कि हमारी अर्थव्यवस्था दुनिया की छठी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था है। हमारी सरकार ने कई नई योजनाओं को अमलीजामा पहनाया है। पिछले पांच साल में हमने देश की अर्थव्यवस्था का कायाकल्प करने का काम किया। हमारा लक्ष्य लोगों के घरों में शौचालय पहुंचाना, घरों में बिजली पहुंचाना था।

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने अपने बजट भाषण के दौरान मशहूर शायर मंजूर हाशमी का एक शेर भी पढ़ा। उन्‍होंने कहा, 'यक़ीन हो तो कोई रास्ता निकलता है, हवा की ओट भी ले कर चराग़ जलता है।'

वित्त मंत्री ने कहा कि हम मेक इन इंडिया के जरिए स्वदेशी की तरफ बढ़ रहे हैं। इसके अलावा हमारी सरकार देश को आधुनिक भी बना रही है। इसमें 657 किमी. मेट्रो को चालू किया गया है, जबकि 300 किमी. नए मेट्रो प्रोजेक्ट को मंजूरी मिली है। हमारा अगला मकसद देश के अंदर ही जल मार्ग शुरू करने की है। हमारा लक्ष्य इलेक्ट्रॉनिक वाहनों को बढ़ाना देना है। आज लाइसेंस और कोटा राज के दिन लद गए हैं।

रेलवे के विकास के लिए लागू होगा PPP मॉडल

वित्त मंत्री ने अपने भाषण में बताया कि हमारा लक्ष्य रिफॉर्म, परफॉर्म और ट्रांसफॉर्म का है। हमारी सरकार का अगला बड़ा लक्ष्य जल रास्ते को बढ़ावा देना है। साथ ही वन नेशन, वन ग्रिड के लिए हम आगे बढ़ रहे हैं, जिसका ब्लूप्रिंट तैयार किया जा रहा है। सरकार रेलवे में निजी भागेदारी को बढ़ाने पर जोर दे रही है। रेलवे के विकास के लिए PPP मॉडल को लागू किया जाएगा। रेल ढांचे में विकास के लिए 50 लाख करोड़ रुपये के निवेश की जरूरत है।

नेशनल ट्रांसपोर्ट कार्ड का ऐलान

सरकार की तरफ से नेशनल ट्रांसपोर्ट कार्ड का ऐलान किया गया है। जिसका इस्तेमाल रेलवे और बसों में किया जाएगा। इसे रूपे कार्ड की मदद से चलाया जा सकेगा, जिसमें बस का टिकट, पार्किंग का खर्चा, रेल का टिकट सभी एक साथ किया जा सकेगा। इसके साथ ही सरकार ने MRO का फॉर्मूला अपनाने की बात कही है। इसमें मैन्यूफैक्चरिंग, रिपेयर और ऑपरेट का फॉर्मूला लागू किया जाएगा।

सरकार का केंद्र बिंदु गांव, किसान और गरीब

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि महात्मा गांधी का विचार था कि भारत की आत्मा गांवों में बसती है। हमारी सरकार का केंद्र बिंदु भी गांव, किसान और गरीब है। हमारी सरकार अपनी हर योजना में अंतोदय को बढ़ावा देने जा रही है। हमारा लक्ष्य है कि 2022 तक हर गांव में बिजली पहुंचेगी। उज्ज्वला योजना और सौभाग्य योजना के जरिए देश में काफी बदलाव आया है।

अन्नदाता अब ऊर्जादाता हो सकता है

वित्त मंत्री ने कहा कि कृषि अवसंरचना में अब निवेश को बढ़ावा दिया जाएगा। 10 हजार नए किसान उत्पादक संघ बनेंगे, दालों के मामले में देश आत्मनिर्भर बना है। हमारा लक्ष्य आयात पर कम खर्च करना है। इसके साथ ही डेयरी के कामों को भी बढ़ावा दिया जाएगा। अन्नदाता अब ऊर्जादाता भी हो सकता है। किसान को उसकी फसल का सही दाम देना हमारा लक्ष्य है।

सफाई और गांवों पर सरकार का जोर

वित्त मंत्री ने ऐलान किया कि 2014 के बाद 9.6 करोड़ शौचालय का निर्माण किया गया है। 5.6 लाख गांव आज देश में खुले से शौच से मुक्त हो गए हैं। स्वच्छ भारत मिशन के विस्तार के लिए सरकार प्रतिबद्ध है। अभी तक 2 करोड़ लोगों को डिजिटल रूप से साक्षर बनाया गया है। ग्रामीण-शहरी अंतर को पाटने के लिए सरकार डिजिटल क्षेत्र को बढ़ावा दे रही है।

नई शिक्षा नीति लाएंगे

सरकार की ओर से ऐलान किया गया है कि हम नई शिक्षा नीति लाएंगे। शिक्षा नीति पर अनुसंधान केंद्र भी बनाया जाएगा। राष्ट्रीय अनुसंधान प्रतिष्ठान (National Research Foundation) बनाने का ऐलान किया गया। आदर्श किराया कानून भी बनाया जाएगा। सरकार उच्च शिक्षा के लिए 400 करोड़ रुपये खर्च करेगी। दुनिया के टॉप 200 कॉलेज में भारत के सिर्फ 3 कॉलेज हैं, ऐसे में सरकार इन संख्या को बढ़ाने पर जोर देगी। पांच साल पहले इस लिस्ट में एक भी भारतीय कॉलेज का नाम नहीं था।

जल के क्षेत्र में आएगी क्रांति

हमारी सरकार ने पानी के लिए जलशक्ति मंत्रालय का गठन किया है। जल आपूर्ति के लक्ष्य को लागू किया जा रहा है, 1500 ब्लॉक की पहचान की गई है। इसके जरिए हर घर तक पानी पहुंचाया जाएगा। सरकार का लक्ष्य 2024 तक हर घर जल पहुंचाने का लक्ष्य है।

महिलाओं के लिए अलग से ऐलान

बजट में महिलाओं के लिए अलग से ऐलान किया गया है। वित्त मंत्री ने कहा कि महिलाओं के विकास के बिना देश का विकास नहीं हो सकता है। वित्त मंत्री ने ऐलान किया कि जनधन खाताधारक महिलाओं को 5000 रुपये ओवरड्राफ्ट की सुविधा दी जाएगी। महिलाओं के लिए अलग से एक लाख रुपये के मुद्रा लोन की व्यवस्था की जाएगी।

NRI के लिए ऐलान

बजट में NRI के लिए भी कई ऐलान किए गए। अब NRI को भारत आते ही आधार कार्ड देने की सुविधा मिलेगी, साथ ही उन्‍हें 180 दिनों तक भारत में रहने की जरूरत नहीं है।

नए सिक्कों की सीरीज लाएगी सरकार

वित्त मंत्री ने ऐलान किया कि लोन देने वाली कंपनियों को अब सीधा RBI कंट्रोल करेगी। सरकार ने 1 से 20 रुपये के नए सिक्कों का ऐलान किया है, जिन्हें जल्द लोगों के लिए जारी किया जाएगा।

कंपनियों के लिए ऐलान

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने ऐलान किया है कि 400 करोड़ रुपए तक के टर्नओवर वाली कंपनियों को 25 फीसदी कॉरपोरेट टैक्स देना होगा। इसके तहत देश की 99 फीसदी कंपनी आ जाएंगी। ई वाहनों पर GST को 12 फीसदी से घटाकर 5 फीसदी किया जाएगा। इसके साथ ही स्टार्टअप के लिए बड़ी छूट का ऐलान है। स्टार्ट अप को एंजल टैक्स नहीं देना होगा, साथ ही आयकर विभाग भी इनकी जांच नहीं करेगा।

हाउसिंग लोन के ब्याज पर मिलने वाली छूट में बढ़त

अब 45 लाख रुपये का घर खरीदने पर अतिरिक्त 1.5 लाख रुपये की छूट दी जाएगी। हाउसिंग लोन के ब्याज पर मिलने वाली कुल छूट अब 2 लाख से बढ़कर 3.5 लाख हो गई है। इसके अलावा 2.5 लाख रुपये तक का इलेक्ट्रिक व्हीकल खरीदने पर भी छूट दी जाएगी।

आधार नंबर से भी भर पाएंगे इनकम टैक्‍स

वित्त मंत्री ने कहा, अब आधार कार्ड से भी लोग अपना इनकम टैक्स भर पाएंगे। यानी अब पैन कार्ड होना जरूरी नहीं है, पैन और आधार कार्ड से काम हो जाएगा।

इस बार के बजट में कुछ अलग हो रहा है। हर वर्ष की तरह इस वर्ष के बजट के लिए लेदर बैग नहीं है। लाल कपड़े में बही खाता आया है जिसे मोदी सरकार पेश करने वाली है।

निर्मला सीतारमण देश की पहली पूर्णकालिक महिला वित्त मंत्री के तौर पर आम बजट पेश करेंगी। इससे पहले स्वतंत्र भारत में महिला वित्‍त मंत्री के तौर पर सिर्फ इंदिरा गांधी ने ही बजट पेश किया था, लेकिन उनके पास सिर्फ वित्त मंत्री का प्रभार नहीं था, वो देश की प्रधानमंत्री भी थीं। ऐसे में निर्मला सीतारमण के परिवार के लिए यह गर्व का पल है। इसी ऐतिहासिक पल का साक्षी बनने के लिए निर्मला सीतारमण के माता-पिता भी संसद भवन पहुंचे हैं। वे संसद भवन में बैठकर अपनी बेटी को बजट पेश करते हुए देखेंगे।

बजट से पहले घरेलू शेयर बाजार में शुरुआती कारोबार में तेजी

बजट पेश होने से पहले बंबई शेयर बाजार का सेंसेक्स सूचकांक शुक्रवार को शुरुआती कारोबार में एक बार फिर 40,000 अंक के स्तर पर पहुंच गया। बंबई शेयर बाजार का 30 शेयरों पर आधारित संवेदी सूचकांक सुबह साढ़े नौ बजे 114.67 अंक यानी 0.29 प्रतिशत बढ़कर 40,022.73 अंक पर पहुंच गया। इसके बाद 10 बजकर 15 मिनट पर नीचे आकर 48.84 अंक यानी 0.12 प्रतिशत बढ़कर 39,956.90 अंक पर कारोबार कर रहा था। इसी प्रकार, नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी भी शुरुआती दौर में 9.85 अंक यानी 0.08 प्रतिशत बढ़कर 11,956.60 अंक पर पहुंच गया। अन्य एशियाई बाजारों में, शंघाई कंपोजिट सूचकांक, हेंगसेंग, निक्कि और कॉस्पी में भी शुरुआती कारोबार में सीमित दायरे में रहे। शेयर बाजार के पास मौजूद आरंभिक आंकड़ों के मुताबिक, विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों ने बृहस्पतिवार को शुद्ध रूप से 28.95 करोड़ रुपए के शेयर बेचे जबकि घरेलू संस्थागत निवेशक 58.59 करोड़ रुपये के शेयर के शुद्ध लिवाल रहे।


More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top