टिश्यू कल्चर अपनाकर केला उत्पादन में देश का नंबर वन राज्य बनेगा यूपी

टिश्यू कल्चर अपनाकर केला उत्पादन में देश का नंबर वन राज्य बनेगा यूपीकेले की फसल के साथ किसान।

लखनऊ। केला उत्पादन में देश का नंबर वन राज्य तमिलनाडु को पछाड़कर उत्तर प्रदेश अब देश का सबसे ज्यादा केला उत्पादन करने वाला राज्य बनने की कोशिश में है। इसके लिए उद्यान एवं खाद्य प्रसंस्करण विभाग एक नई योजना पर काम भी करने जा रहा है। विभागीय आंकड़ों के अनुसार उत्तर प्रदेश में अभी सालाना 914360 मीट्रिक टन केले का उत्पादन होता है। यह उत्पादन दोगुना हो इसके लिए विभाग की तरफ से 23 जिलों के 1500 हेक्टेयर में टिश्यू कल्चर विधि से केला उत्पादन की योजना बनाई जा रही है। इसके तहत किसानों को उनकी कुल लागत पर 40 प्रतिशत की सब्सिडी भी दी जाएगी। यह जानकारी उत्तर प्रदेश के उद्यान मंत्री दारा सिंह चौहान ने दी।

खेती किसानी से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

उद्यान एवं खाद्य प्रसंस्करण विभाग के निदेशक एसपी जोशी ने बताया ''समेकित बागवानी विकास मिशन योजना के अंतगर्त मुरादाबाद, सीतापुर, उन्नाव, लखनऊ, रायबरेली, कानपुर नगर, प्रतापगढ़, कौशाम्बी, इलाहाबाद, बाराबंकी, सुल्तानपुर, सिद्धार्थनगर, बस्ती, संतकबीर नगर, महराजगंज, कुशीनगर, बलिया, वाराणसी, जौनपुर, गाजीपुर, मिर्जापुर, फैजाबाद और गोरखपुर जिले में टिश्यू कल्चर क्षेत्र विस्तार कार्यक्रम शुरू किया जा रहा है। '' उन्होंने बताया कि इस योजना का लाभ जो किसान उठाना चाहते हैं वह उद्यान एवं खाद्य प्रसंस्करण विभाग की वेबसाइट जाकर अपना पंजीकरण करा लें। किसानों को सब्सिडी की डीबीटी के माध्यम से सीधे उनके खाते में जाएगी।

टिशू कल्चर से 60 फीसदी तक बढ़ेगा केला उत्पादन।

ये भी पढ़ें : महाराष्ट्र के केले को टक्कर दे रहा फैजाबाद का केला

उत्तर प्रदेश में 48698 हेक्टेयर में केले की खेती होती है। उत्तर प्रदेश के पूर्वी, तराई और मध्य क्षेत्र में केले की खेती सबसे ज्यादा की जाती है लेकिन नई विधि से केला की खेती के अभाव के कारण केला का उत्पादन नहीं बढ़ रहा है। प्रदेश में अभी प्रति हेक्टेयर 47.101 मीट्रिक टन ही औसत केला का उत्पादन ही हो पा रहा है, जबकि देश के प्रमुख केला उत्पादक राज्य महाराष्ट्र और तमिलनाडु में केला का औसत उत्पादन अधिक है। वहां पर टिश्यू कल्चर विधि से खेती करके केला उत्पादन का बढ़ाया गया है।

संबंधित खबर : कई प्रदेशों में है बाराबंकी के इस केला किसान की चर्चा, देखें वीडियो

उन्हीं राज्यों की तर्ज पर उत्तर प्रदेश में केला उत्पादन का बढ़ावा देने के लिए काम होने जा रहा है। टिश्यू कल्चर विधि से केला की खेती के विशेषज्ञ डा. एमवी सिंह ने बताया '' उत्तर प्रदेश में टिश्यू कल्चर विधि नर्सरी करके केले की खेती से जहां फल तैयार होने में कम समय लगेगा, वहीं उत्पादन भी अधिक होगा। '' उन्होंने बताया कि टिश्यू कल्चर विधि से केले की खेती करने से एक केला के पेड़ से 70 कुंतल केला पैदा हो सकता है। हालांकि, वर्तमान में परंपरागत विधि से केला की खेती करने से 40 से 50 कुंतल केला ही पैदा होता है।

ये भी देखिए-

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Top