अखबार बेचकर 93% के साथ पास की परीक्षा, ये वीडियो आपको बहुत कुछ सोचने को मजबूर कर देगा

अखबार बेचकर 93% के साथ पास की परीक्षा, ये वीडियो आपको बहुत कुछ सोचने को मजबूर कर देगानीलकंठ।

लखनऊ। गाँधी ने जी ने कहा था, तो ये भी पता नहीं कि उसके पिता कब उसका साथ छोड़कर चले गए। नीलकंठ सतना से रीवा के बीच के चलने वाले ट्रेनों में अखबार बेचता है। नीलकंठ के दो बड़े भाई हैं। दोनों ने इसी साल 10वीं पास किया है। भाई प्रशांत दुबे ने 95 प्रतिशत और दूसरे भाई आशुतोष दुबे ने 83 प्रतिशत के साथ जिले का गौरव बढ़ाया है।

ये भी पढ़ें- किसान का दर्द : यूपी में पैदा हुए आलू का एक फीसदी भी नहीं खरीद पाई सरकार

नीलकंठ हर महीने 5 से 6 हजार रुपए अखबार बेचकर कमा लेता है। टीवी नाइन के रिपोर्टर अरविंद मिश्रा ने जब पूछा कि आपको कभी कोई मदद नहीं मिली तो बड़ी बेबाकी से नीलकंठ कहता है कि कौन मदद करेगा। कोई बात तक नहीं करता। हम सामान्य वर्ग से हैं। हमको किसी प्रकार की सरकारी मदद नहीं मिलती। मैंने अपने दम पर 5वीं 93 प्रतिशत के साथ पास किया है। लेकिन मेरे बड़े भाई को टॉप करने (95%) की वजह से सरकार ने गोद लिया है।

ये भी पढ़ें- प्रिय कोहली, आप कभी कुंबले जैसा ‘विराट’ नहीं हो सकते

ट्रेन में ही किसी सज्जन ने पूछा कि आप पढ़ते हैं कि नहीं तो नीलकंठ ने कहा कि आप मुझसे सवाल पूछ सकते हैं। मैं 10वीं तक के प्रश्नों का जवाब दे सकता हूं। नीलकंठ कहते हैं कि वो अंग्रेजी और मैथ में थोड़ा कमजोर है। प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहार से मदद मांगने की बात नीलकंठ ने कहा वो क्या मदद करेंगे। वो तो खुद ही किसानों पर गोलियां चला रहे हैं। और मैं एक अकेल नहीं हूं जिसके लिए सीम कुछ करेंगे। प्रदेश में लाखों बच्चे शिक्षा से वंचित हैं। मुख्यमंत्री कोशिश करें कि मेरे जैसे और बच्चे हैं वो अच्छी पढ़ाई कर पाएं।

Share it
Top