‘सीबीएसई की दसवीं में अब होम एग्जाम नहीं, बोर्ड परीक्षा होगी’

‘सीबीएसई की दसवीं में अब होम एग्जाम नहीं, बोर्ड परीक्षा होगी’प्रतीकात्मक तस्वीर

लखनऊ। केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) की संचालन समिति ने वर्ष 2018 से 10वीं कक्षा में बोर्ड परीक्षाओं को अनिवार्य करने के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है। 10वीं के छात्र-छात्राओं को अब 2018 में बोर्ड की परीक्षा देनी होगी।

सीबीएसई बोर्ड चैयरमेन अनिता करवाल ने कहा, "वर्ष 2018 में कक्षा दस की होम एग्जाम परीक्षा व्यवस्था में बदलाव किया गया है। नए सत्र से कक्षा दस के छात्रों को बोर्ड परीक्षा देनी पड़ेगी।" छह वर्ष पहले सीबीएसई ने दसवीं में बोर्ड की परीक्षा देने को वैकल्पिक कर दिया था।

शनिवार को बागपत के डीएवी पब्लिक स्कूल में सीबीएसई बोर्ड के स्कूलों के प्रबंधक और प्रधानाचार्य की सेमिनार हुई। सेमिनार के दौरान सीबीएसई बोर्ड चैयरमेन अनिता करवाल ने ये बात कही।

ये भी पढ़ें:- सीबीएसई बोर्ड परीक्षाओं का सर्कुलर जारी, जाने प्रैक्टिकल एग्जाम की तारीखें

केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि सीबीएसई के साथ इस महीने के आखिर में बैठक हुई। बैठक में अगले शैक्षणिक सत्र से दसवीं बोर्ड परीक्षा को अनिवार्य बनाने का प्रस्ताव पारित किया गया। उन्होंने कहा कि शैक्षणिक सत्र 2017-18 से सभी छात्र-छात्राओं के लिए बोर्ड परीक्षा अनिवार्य होगी।

केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावड़ेकर इससे पहले कहा था कि यह उचित नहीं है कि 2.3 करोड़ छात्र विभिन्न राज्य बोर्ड की परीक्षा दे रहे हो जबकि 20 लाख छात्र बोर्ड परीक्षा नहीं दे रहे हों। इसलिए सभी को 10वीं की बोर्ड परीक्षा देनी होगी।

ये भी पढ़ें:- सीबीएसई बोर्ड ने स्कूलों में स्मार्टफोन पर लगाया प्रतिबंध

सीबीएसई एक ही डेट पर कराएगा हाईस्कूल-इंटरमीडिएट की बोर्ड परीक्षा

Share it
Share it
Share it
Top