Top

चमड़ा उद्योग को बढ़ावा देने के लिए केंद्र ने 2,600 करोड़ रुपए का दिया पैकेज

चमड़ा उद्योग को बढ़ावा देने के लिए केंद्र ने 2,600 करोड़ रुपए का दिया पैकेजप्रतीकात्मक फोटो

नई दिल्ली। केंद्र सरकर ने चमड़ा व फुटवियर क्षेत्र में रोजगार सृजन के लिए 2,600 करोड़ रुपए के विशेष पैकेज को मंजूरी दे दी। इस क्षेत्र में अगले तीन साल में 3.24 लाख रोजगार सृजित होने की गुंजाइश है और यह दो लाख रोजगारों को औपचारिक रूप देने में मदद कर सकता है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में केंद्रीय मंत्रिमंडल की शुक्रवार को हुई बैठक में इस आशय का फैसला किया गया।

भारतीय फुटवियर, चमड़ा और असेसरीज विकास कार्यक्रम के तहत सरकार ने इंसेंटिव पैकेज को मंजूरी दी है। वहीं, ये पैकेज 3 फाइनेंशियल ईयर 2017-18 से 2019-20 के लिए दिया गया है।

सरकार ने कहा है कि इस योजना से चमड़ा क्षेत्र के लिए बुनियादी ढांचे का विकास होगा तथा चमड़ा क्षेत्र से सम्बद्ध पर्यावरणीय चिंताओं को दूर किया जाएगा तथा इससे अतिरिक्‍त निवेश, रोजगार सृजन और उत्‍पादन बढ़ाने में भी मदद मिलेगी।

ये भी पढ़ें- कानपुर में बन्द होती फैक्ट्रियों से रोज़गार के अवसर पर संकट

बता दें कि सरकार ने इस पैकेज में टैक्स और नॉन-टैक्स दोनों तरह के बेनिफिट्स शामिल किए हैं। 2600 करोड़ के इंसेंटिव पैकेज से लेदर सेक्टर के लिए इंफ्रास्ट्रक्चर बढ़ाने में मदद मिलेगी, साथ ही निवेश बढ़ने से जहां प्रोडक्शन बढ़ेगा, वहीं नई नौकरियों के मौके बनेंगे।

सरकार का कहना है कि टैक्स इंसेंटिव से इस क्षेत्र में नए निवेश आएंगे और लेबर लॉ रिफॉर्म में मदद मिलेगी। लेदर सेक्टर में भारत है एक्सपोर्टर देश लेदर सेक्टर में भारत एक्सपोर्टर देश है। वर्तमान में भारत से होने वाला कुल एक्सपोर्ट 700 करोड़ डॉलर यानी 45500 करोड़ रुपए है।

ये भी पढ़ें- NGT ने गंगा किनारे से चमड़ा फैक्ट्रियों को हटाने के दिये निर्देश

वहीं, सरकार अगले 3 साल में इसे 1500 करोड़ डॉलर यानी 97500 करोड़ डॉलर करना चाहती है। ऐसे में सर‍कार के इंसेंटिव पैकेज से सेक्टर को बड़ा बूस्ट मिल सकता है। सिर्फ 1 करोड़ के निवेश से ही 250 लोगों को मिलेगा रोजगार बता दें कि इसके पहले नवंबर में राहत पैकेज मिलने की उम्मीद थी, लेकिन तब फैसला टल गया था। इंडस्ट्रीज से जुड़े एक्सपर्ट्स के मुताबिक, सेक्टर में एक करोड़ रुपए के निवेश से करीब 250 लोगों के लिए नए रोजगार पैदा होते हैं। इस समय करीब 30 लाख सीधे तौर पर इस सेक्टर से जुड़े हैं।

ये भी पढ़ें:- मोदी सरकार ने बूचड़खानों के लिए पशुओं की खरीद-फरोख्त पर लगाई रोक, बनाए नए नियम

Next Story

More Stories


© 2019 All rights reserved.