नाबालिगों से बलात्कार करने वालों को अब मिलेगी फांसी, कानून बदलने में जुटी सरकार

नाबालिगों से बलात्कार करने वालों को अब मिलेगी फांसी, कानून बदलने में जुटी सरकारफोटो साभार: इंटरनेट

जम्मू के कठुआ में 8 साल की लड़की से गैंगरेप और उत्तर प्रदेश के एटा में मासूम से दुराचार के बाद हत्या जैसी घटनाओं पर देश की आवाम में बढ़ी नाराजगी के बाद केंद्र सरकार ने नाबालिगों के साथ बलात्कार की घटनाओं पर अब फांसी की सजा का प्रावधान करने की तैयारी शुरू कर दी है।

इसके तहत केंद्र सरकार ने देश की सर्वोच्च अदालत में शुक्रवार को एक याचिका के जवाब में अपना लिखित जवाब सौंपा है।

केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट को बताया कि 12 साल तक के बच्चों के साथ बलात्कार करने वाले अपराधियों के खिलाफ फांसी की सजा का प्रावधान बने, इसके लिए सरकार ने पाक्सो एक्ट में बदलाव करने की प्रक्रिया शुरू कर दी है।

नाबालिगों के साथ बलात्कार की बढ़ती घटनाओं को देखते हुए जनता में बढ़ती नाराजगी पर ऐसे अपराधियों को फांसी की सजा दिए जाने की मांग लंबे समय से लगातार उठ रही है। ऐसे दुष्कर्म जैसे अपराधों पर फांसी की सजा दिए जाने के लिए कानून में बदलाव को लेकर मध्य प्रदेश, राजस्थान और हरियाणा ने केंद्र सरकार को प्रस्ताव चुके हैं। वहीं उत्तर प्रदेश की भी तैयारी है।

उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार ने हाल में महिला सुरक्षा और कानून व्यवस्था पर आलाधिकारियों के साथ उच्चस्तरीय समीक्षा बैठक के बाद नाबालिगों के साथ बलात्कार की घटनाओं पर कानून में बदलाव करने के लिए केंद्र सरकार को प्रस्ताव भेजने का बड़ा ऐलान किया। ऐसे में इन राज्यों के साथ अब उत्तर प्रदेश भी शामिल हो चुका है।

ये भी पढ़ें- रेप पीड़िता ने कहा- ‘दीदी मुझसे मत पूछना उस दिन क्या हुआ था ? 

इतना ही नहीं, ऐसी कई घटनाओं के सामने आने के बाद अब उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार एंटी रोमियो स्क्वायड को और भी ताकतवर बनाने की तैयारी कर रही है। महिला उत्पीड़न जैसी घटनाओं पर जीरो टोलरेंस की नीति अपनाने के साथ प्रभावी कार्रवाई हो, इसके लिए मुख्यमंत्री आदित्यनाथ ने एंटी रोमियो स्कवायड को 1090 यानि वीमेन पॉवर लाइन के साथ जोड़ने के आदेश दिए हैं। उन्होंने अधिकारियों को साफतौर पर निर्देश दिए कि प्रदेश सरकार महिलाओं की सुरक्षा के लिए कटिबद्ध है।

सिर्फ नोएडा में 173 मनचलों पर कसी नकेल

जहां तक उत्तर प्रदेश में एंटी रोमियो स्कवॉयड की सफलता की बात है तो अब तक नोएडा क्षेत्र में ही एंटी रोमियो स्क्वायड ने एक वर्ष में कुल 173 मनचलों पर सख्त कार्रवाई की है। ग्रेटर नोएडा में जहां 124 मनचलों के खिलाफ कार्रवाई हुई तो नोएडा में 49 मनचलों पर कार्रवाई की गई। बता दें कि एंटी रोमियो स्क्वायड के गठन को एक साल बीत चुका है।

गांव कनेक्शन सर्वे में दूसरा सबसे असरदार निर्णय

इतना ही नहीं, उत्तर प्रदेश में योगी आदित्यनाथ सरकार के एक महीना पूरा होने पर गाँव कनेक्शन की ओर से कराए गए सर्वे में भी एंटी रोमियो स्क्वायड बनाने का फैसला सबसे ज्यादा लोकप्रिय रहा है। यह सर्वे उत्तर प्रदेश के 20 जिलों में कराया गया था।

ये भी पढ़ें- गांव की इस 70 वर्षीय महिला ने दिया ‘दूध से जरूरी इज्जत’ का संदेश, सम्मानित करेगी सरकार 

इस सर्वे के एक सवाल ‘आपके अनुसार नयी सरकार द्वारा लिया गया सबसे असरदार निर्णय क्या है?’ पर दूसरा सबसे अधिक असरदार निर्णय ‘एंटी रोमियो स्क्वायड’ का गठन किया जाना स्वीकार किया था। इसमें 25.4 प्रतिशत लोगों ने एंटी रोमियो स्क्वायड के पक्ष में अपना मत दिया था। एंटी रोमियो अभियान महिलाओं के बीच सर्वाधिक लोकप्रिय फैसला रहा।

कोई समझौता नहीं करेगी सरकार

इस उच्चस्तरीय समीक्षा बैठक में सीएम आदित्यनाथ ने कहा था, “प्रदेश में महिलाओं के साथ अपराधिक घटनाओं की रोकथाम के लिए सिपाही से लेकर एसपी-एसएसपी तक की जवाबदेही तय की जाए क्योंकि ऐसे अपराध करने वाले चाहे जितनी बड़ी शख्सयित क्यों न हो, मगर प्रदेश सरकार ऐसी घटनाओं पर जीरो टोलरेंस की नीति को अपनाते हुए कोई समझौता नहीं करेगी।“

ये भी पढ़ें- द नीलेश मिसरा शो: आखिर क्यों मुसलमानों को आगे आने में रूकावट बन रहे हैं उन्हीं के लीडर

ग्राम स्वराज अभियान: क्या आपने अपने गाँव में ग्राम सभा की बैठक होते देखा है?

‘प्रधान भी सांसद-विधायक की तरह जनप्रतिनिधि , 3500 रुपए के मासिक भत्ते को कई गुना बढ़ाया जाए’

Tags:    supreme court 
Share it
Top