खट्टर ने केजरीवाल से पूछा : पराली जलाना बंद करने के लिए आपने क्या किया 

खट्टर ने केजरीवाल से पूछा : पराली जलाना बंद करने के लिए आपने क्या किया खट्टर ने केजरीवाल से पूछा : पराली जलाना बंद करने के लिए आपने क्या किया 

चंडीगढ़ (भाषा)। हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने आज दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल से सवाल किया कि राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र के आसपास के इलाकों में पराली जलाने से रोकने के लिए उन्होंने क्या कदम उठाए हैं?

दिल्ली-एनसीआर में प्रदूषण के खतरनाक स्तर तक पहुंचने और इसमें हरियाणा तथा पंजाब के किसानों द्वारा पराली जलाये जाने को प्रदूषण का मुख्य कारण माने जाने की पृष्ठभूमि में यह सवाल किया गया है। केजरीवाल ने पिछले सप्ताह हरियाणा और पंजाब के मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक की बात की थी ताकि दिल्ली तथा पड़ोसी राज्यों में प्रदूषण से बचने के तरीकों पर चर्चा की जा सके।

ये भी पढ़ें- मास्क छोड़िए , गाँव का गमछा प्रदूषण से आपको बचाएगा

खट्टर ने आज कहा कि इस समस्या के समाधान के लिए वह केजरीवाल से कभी भी, कहीं भी मिलने को तैयार हैं। वहीं पिछले सप्ताह पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिन्दर सिंह ने कहा था कि चूंकि यह कई राज्यों के बीच का मामला है, इसमें केंद्र का हस्तक्षेप अनिवार्य है।

केजरीवाल को लिखी चिट्ठी में खट्टर ने कहा है कि दिल्ली में करीब 40,000 हेक्टेयर जमीन पर करीब 40,000 परिवार खेती करते हैं। उन्हें पराली जलाने से रोकने के लिए आपने क्या किया है? खट्टर ने 10 नवंबर को लिखे अपने पत्र में कहा है, मैं आठ नवंबर की आपकी चिट्ठी के जवाब में यह लिख रहा हूं। मेरा मानना है कि कोई एक व्यक्ति, संगठन या सरकार वायु गुणवत्ता में सुधार नहीं कर सकती है। ऐसी सामूहिक समस्याओं के समाधान के लिए सभी को अपने-अपने हिस्से का काम करना होगा। और सबसे महत्वपूर्ण बात, इन सकारात्मक कदमों के परिणाम को बेहतर बनाने के लिए मजबूत प्रक्रिया की जरुरत है।

ये भी पढ़ें- सावधान : ये स्मॉग आपको दे सकता है फेफड़े का कैंसर

रवींद्रनाथ ठाकुर की एक कविता की पंक्तियों को उद्धृत करते हुए हरियाणा के मुख्यमंत्री ने कहा कि ऐसी प्रक्रिया के लिए मंशा जरुरी है, जहां शब्द सच्चाई की गहराई से निकलते हैं।

उन्होंने कहा, ''दुर्भाग्यवश, आपकी चिट्ठी में ऐसी किसी मंशा का संकेत नहीं मिलता है। वास्तव में, पंजाब और हरियाणा के किसानों द्वारा पराली जलाए जाने के मामले में कुछ नहीं कर पाने का जिक्र अल्पकालिक चुनावी हितों से ऊपर उठने में आपकी अक्षमता को दर्शाता है।'' खट्टर ने कहा कि संभवत: 13 और 14 नवंबर को वह दिल्ली में रहेंगे। उन्होंने कहा, ''आप स्वेच्छा से स्वतंत्रता पूर्वक मुझे फोन करके इस बैठक के लिए दोनों के लिहाज से सही तिथि, समय और स्थान तय कर लें।''

ये भी पढ़ें- स्मॉग से कैसे करें त्वचा और बालों की देखभाल

अब इस धुंध का इलाज कुदरत ही करेगी, दिल्ली समेत कई राज्यों को बारिश का इंतजार

Share it
Top