‘ग्रामीण क्षेत्र की परिवर्तनशीलता का मुकाबला करना ग्रामीण प्रबंधकों के लिए बड़ी चुनौती’ 

‘ग्रामीण क्षेत्र की परिवर्तनशीलता का मुकाबला करना ग्रामीण प्रबंधकों के लिए बड़ी चुनौती’ भुवनेश्वर में अंतरराष्ट्रीय ग्रामीण प्रबंधन सम्मेलन के दौरान अपने विचार रखते दिग्गज।

लखनऊ। हाल में भुवनेश्वर के जेवियर स्कूल ऑफ रूरल मैनेजमेंट में पहला अंतरराष्ट्रीय ग्रामीण प्रबंधन सम्मेलन का आयोजन किया गया। इस मौके पर अधिकारियों और विशेषज्ञों ने ग्रामीण प्रबंधन और इससे संबंधित क्षेत्रों में आने वाले समय में विकास की दिशा और प्रयासों पर अपने विचार रखे। साथ ही ग्रामीण समाज में हो रहे नए बदलावों और गाँवों की समस्याओं के समाधान पर दुनिया भर से आए विशेषज्ञों ने अपनी बात रखी।

पिछले दो दशकों में सामाजिक और आर्थिक वातावरण में बेहद विकास हुआ है, जिससे ग्रामीण क्षेत्रों की समझ में वृद्धि हुई है। यह सम्मेलन गरीबी, असमानता, खाद्य सुरक्षा, स्वच्छ ऊर्जा जैसे क्षेत्रों में वर्ष 2030 तक संयुक्त राष्ट्र द्वारा तैयार की गई महत्वाकांक्षी 17 सतत विकास लक्ष्यों को हासिल करने की कोशिश में खड़ा था। सम्मेलन में इन विकास लक्ष्यों पर सभी कार्य क्षेत्रों और ग्रामीण विकास प्रबंधन के क्षेत्र से जुड़े दिग्गजों ने अपनी बात लोगों के सामने रखी।

सम्मेलन में बतौर मुख्य अतिथि शामिल हुए ग्रामीण विकास मंत्रालय के सचिव अमरजीत सिन्हा ने देश में गरीबी की स्थिति पर कहा, “हमारे देश में गरीबी चुनौती बहु-आयामी है और हमें इसके हर एक आयाम को परख कर गरीबी को मिटाना होगा।“ उन्होंने आगे कहा, “हम अपने उद्देश्य की दृष्टि खो देते हैं, जब हम केवल अपने विशेष क्षेत्र पर ध्यान देते हैं। जरूरी है कि हम हर स्तर पर काम कर गरीबी को दूर करें।"

सम्मेलन में छात्र-छात्राओं ने भी पूछे सवाल।

वहीं सम्मेलन में उड़ीसा के उड़ीसा के कृषि और किसानों के सशक्तिकरण विभाग के प्रमुख सचिव सौरभ गर्ग ने आगे स्पेक्ट्रम के भीतर आने वाली चुनौतियों पर ज़ोर दिया। उन्होंने कहा, "ग्रामीण क्षेत्र में एक उच्च स्तर की परिवर्तनशीलता है, जिस पर मुकाबला करना ग्रामीण प्रबंधकों के लिए एक बड़ी चुनौती है।" उन्होंने ग्रामीण क्षेत्र में चार प्रमुख बाधाओं, जैसे औपचारिक वित्तीय व्यवस्था का अपर्याप्त प्रवेश, कृषि और संबद्ध क्षेत्रों में उच्च पूंजी निवेश की जरूरत, किसानों की आपूर्ति के पहलू पर और अधिक ध्यान देने की आवश्यकता पर प्रकाश डाला।

सम्मेलन में जेवियर यूनिवर्सिटी के वाइस चांसलर डॉ. पॉल फर्नांडिस ने सभी का अभिवादन किया। इस सम्मेलन में प्रमुख उद्योग के दिग्गजों और सम्मानित सरकारी कार्यालय-धारकों ने भाग लिया, जिन्होंने विभिन्न पैनलों की चर्चाओं का नेतृत्व किया, जिसमें विभिन्न विषयों पर भी कागजात प्रस्तुत किए गए। इस सम्मेलन में गाँव कनेक्शन मीडिया पार्टनर रहा।

यह भी पढ़ें: ग्रामीण बदलाव की युवा नायिका हैं यामिनी त्रिपाठी

Share it
Top