Top

छत्तीसगढ़ के स्वास्थ्य मंत्री ने केंद्र सरकार से राज्य में कोवैक्सीन न भेजने को कहा

अब भारत बायोटेक की स्वदेशी वैक्सीन की प्रमाणिकता पर छत्तीसगढ़ सरकार के स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंह देव ने भी सवालिया निशान उठा दिए हैं। उन्होंने केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन को पत्र लिख कर छत्तीसगढ़ में कोवैक्सीन की आपूर्ति न किये जाने का अनुरोध किया है।

छत्तीसगढ़ के स्वास्थ्य मंत्री ने केंद्र सरकार से राज्य में कोवैक्सीन न भेजने को कहाकेंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्ष वर्धन और छत्तीसगढ़ राज्य के स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंह देव।

देश में चल रहे कोरोना टीकाकरण अभियान के बीच छत्तीसगढ़ सरकार ने स्वदेशी कोरोना टीके कोवैक्सीन की प्रमाणिकता पर सवाल उठाए हैं। राज्य के स्वास्थ्य मंत्री, टीएस सिंह देव ने केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन को पत्र लिख कर कोवैक्सीन की खेप राज्य के लोगों के लिए न भेजे जाने की अपील की है।

छत्तीसगढ़ के स्वास्थ्य मंत्री ने ट्विटर पर इस पत्र की कॉपी साझा की। इस पत्र में उन्होंने कहा है कि कोवैक्सीन के तीसरे चरण के क्लिनिकल ट्रायल अभी तक पूरे नहीं हुए हैं जो इस वैक्सीन के उपयोग को लेकर संकोच पैदा करता है।

पत्र में कहा गया कि अब तक राज्य को आपूर्ति की गई कोविशील्ड की वैक्सीन का उपयोग किया गया है और कोवैक्सीन की भेजी गई डोज का राज्य में इस्तेमाल नहीं किया गया है। ऐसे में एक्सपायरी डेट के निकलने पर वैक्सीन की बर्बादी से बचा जाए। स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंह देव ने कोवैक्सीन के तीसरे चरण के परिणामों के सामने आने तक कोवैक्सीन की डोज राज्य में न भेजे जाने का अनुरोध किया।

देश में कोवैक्सीन के तीसरे चरण के परिणाम अब तक सामने न आने की वजह कई स्वास्थ्य संगठन और डॉक्टर्स इस वैक्सीन के इस्तेमाल पर सवालिया निशान उठा चुके हैं। जनवरी में ड्रग कंट्रोलर ऑफ़ इंडिया ने भारत बायोटेक की कोवैक्सीन के आपातकालीन इस्तेमाल की मंजूरी दी थी।

फिलहाल, देश में 16 जनवरी से शुरू हुए कोरोना टीकाकरण अभियान के तहत छत्तीसगढ़ में अब तक 1.81 लाख स्वास्थ्य कर्मियों और फ्रंटलाइन वर्कर्स को टीका लगाया जा चुका है।

यह भी पढ़ें :

कोवैक्सीन के थर्ड ट्रायल के आंकड़े जारी किये बिना वैक्सीन लगाना कितना सही? जानिए क्या है विवाद और क्या कहते हैं एक्सपर्ट्स

कोवैक्सीन ट्रायल विवाद : भोपाल में वालंटीयर्स बोले – 'हमसे कहा गया कोरोना का टीका लगाओ, 750 रुपये मिलेंगे'


Next Story

More Stories


© 2019 All rights reserved.