मृत बच्चे के परिजन का आरोप, “डॉक्टर बोले मंत्री जी का दौरा है, बच्चे को ऐसे दिखाओ कि जिंदा है” 

मृत बच्चे के परिजन का आरोप, “डॉक्टर बोले मंत्री जी का दौरा है, बच्चे को ऐसे दिखाओ कि जिंदा है” अपने मृत पोते का शव लिए रामसकल। 

गोरखपुर। “मेरे पोते की मौत हो गई थी, लेकिन अस्पताल के डॉक्टरों ने कहा कि आज मंत्री का दौरा है और बाहर मीडिया कर्मी हैं इसलिए बच्चे को कंबल से ढककर रखो जिससे लगे बच्चा जिंदा है।” इतना बताते-बताते सिद्धार्थनगर के राम सकल रोने लगते हैं।

सिद्धार्थनगर के रामसकल पोते की शनिवार को बीआरडी अस्पताल में मौत हो गई। वो डॉक्टर और मेडिकल स्टॉफ पर गंभीर आरोप लगाते हुए कहते हैं कि इऩ लोगों में संवेदनाएं नहीं है। उन्होंने पत्रकारों से बात करते हुए कहा कि डॉक्टर मौतों को छिपाने में लगे रहते हैं, इसलिए ये (बच्चों की मौत) घटनाएं होती हैं।

राम सकल के अनुसार 8 अगस्त की सुबह वह बेटे के बच्चे को तेज बुखार की हालत में लेकर मेडिकल कॉलेज आए थे। 10 तारीख की रात जब गैस खत्म हो गई तो पूरे इंसेफ्लाइटिस वार्ड में लोग घबरा गए बाद में चिकित्सकों ने बताया कि ऑक्सीजन आ रही है। इन दौरान बच्चों का इलाज होता रहा। और मेरे बच्चे की हालत बिगड़ गई। शनिवार सुबह उसके बच्चे को जब झटके आने लगे और दोपहर तक बच्चे की मौत हो गई।

गोरखपुर हादसे पर बोले मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, सही आंकड़े प्रकाशित करे मीडिया, इंसेेफेलाइटिस से लड़ते रहेंगे

ऐसे दृश्य कई लोगों के छलक आए आंसू। फोटो विनय गुप्ता

रामसकल का आरोप है जब वो बच्चे (शव) को घर ले जाने के लिए मृत्यु प्रमाण पत्र मांगने गया तो डॉक्टर उसे टरकाने लगे और बोले अभी मंत्री का दौरा है और मीडिया कर्मी हैं। इसलिए इसीतरह (कंबल ओढे) दिखाते रहो कि तुम्हारा बच्चा जिंदा है। मंत्रियों के दौरे के दौरान भी यहा हाल रहा।” वो बताते हैं कि शाम तकरीबन 5:30 बजे वो डेथ सर्टिफिकेट मिलने पर अस्पताल से निकले। रामसकल ने मुख्यमंत्री से ऐसे डॉक्टरों के खिलाफ भी सख्त कार्रवाई की बात कही।

मुख्यमंत्री ने शनिवार शाम आपात बैठक के बाद कहा कि गोरखपुर हादसे में कुछ लोगों पर कार्रवाई हुई है और कुछ पर हो सकती है। प्रिंसिपल पर गाज के बाद माना जा रहा है कुछ और लोगों पर एक्शन हो सकता है।

शनिवार को बीआरडी में चार बच्चों की हुई मौत

गोरखपुर। इंसेफलाइटिस से मौत का सिलसिला जारी है। गोरखपुर के बीआरडी मेडिकल कॉलेज में शनिवार को रात 9.30 बजे तक 4 मौतें हुई थीं। शनिवार देर रात देवरिया से आए 4 साल के रोहित की मौत हो गई। उसे सुबह ही बुखार आया था। रोहित के पिता अजय कुशवाहा के मुताबिक वो देवरिया के सठियांव गांव का रहने वाला है। मृत बच्चे के चाचा ने बताया कि 5 घंटे से बच्चा अस्पताल में भर्ती था।

ये भी पढ़ें- गोरखपुर में कोहराम मचाने वाली वो बीमारी जिससे खाैफ खाते हैं पूर्वांचल के लोग

Share it
Top