चीन ने ब्रिक्स सम्मेलन के लिए पांच देशों को अतिथि के तौर पर बुलाया  

चीन ने ब्रिक्स सम्मेलन के लिए पांच देशों को अतिथि के तौर पर बुलाया   ब्रिक्स देशों का सम्मेलन।

बीजिंग (भाषा)। चीन ने आगामी ब्रिक्स सम्मेलन के लिए मिस्र, केन्या, ताजिकिस्तान, मेक्सिको और थाईलैंड को अतिथि देशों के रुप में आमंत्रित किया है लेकिन यह स्पष्ट भी कर दिया है कि यह निमंत्रण उसके 'ब्रिक्स प्लस ' रुख के तहत समूह को विस्तार देने का प्रयास नहीं है।

चीन तीन सितंबर से पांच सितंबर तक शियामेन शहर में ब्रिक्स सम्मेलन की मेजबानी कर रहा है। इस सम्मेलन में पांच देशों के नेता हिस्सा लेंगे, जिनमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी शामिल होंगे।

चीन के विदेश मंत्री वांग यी ने यहां मीडिया को ब्रिक्स :ब्राजील, रुस, भारत, चीन और दक्षिण अफ्रीका: सम्मेलन के बारे में संबोधित करते हुए कहा, ' 'हमें ब्रिक्स प्लस के बारे में और अधिक व्याख्या करने की जरुरत है ताकि लोग इसके पीछे के तर्क को अच्छी तरह समझ पाएं। ' ' वांग इस साल मार्च से ही 'ब्रिक्स प्लस ' के रुख का प्रचार कर रहे हैं, जिससे ये कयास लगने लगे कि चीन उभरती अर्थव्यवस्थाओं के ब्लॉक के विस्तार पर विचार कर रहा है।

ये भी पढ़ें:डोकलाम विवाद पर भारत-चीन में समझौता, पीछे हटेंगी दोनों देशों की सेना, इन 5 कारणों से पीछे हटा चीन

वांग ने 'ब्रिक्स प्लस ' की व्याख्या करते हुए कहा कि सदस्य देश वार्षिक सम्मेलनों के दौरान अलग-अलग देशों को आमंत्रित करते रहे हैं। उन्होंने पिछले साल गोवा में आयोजित सम्मेलन में बिमस्टेक (बे ऑफ बंगाल इनीशिएटिव फॉर मल्टी सेक्टोरल टेक्नीकल एंड इकोनॉमिक कोऑपरेशन) के नेताओं को भी आमंत्रित किया था। बांग्लादेश, भारत, म्यांमा, श्रीलंका, थाइलैंड, भूटान और नेपाल बिमस्टेक के सदस्य हैं।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top