सुरक्षाबलों को दी जाए पूरी छूट: शहीद जवानों के परिजन

सुरक्षाबलों को दी जाए पूरी छूट: शहीद जवानों के परिजनसाभार इंटरनेट।

सोनीपत (भाषा)। छत्तीसगढ़ के सुकमा में नक्सली हमले में शहीद हुए हरियाणा के दो जवानों का पूरा राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया गया। इस दौरान दोनों जवानों के परिजनों ने नक्सलियों से निपटने के लिए सरकार से सुरक्षाबलों को पूरी छूट देनी की मांग की है।

हमले में शहीद हुए सीआरपीएफ के एएसआई नरेश कुमार और कांस्टेबल राम मेहर के तिरंगे में लिपटे पार्थिव शरीर को उनके पैतृक गाँवों में लाया गया जहां आस पास के क्षेत्रों सहित बड़ी संख्या में लोगों ने नम आंखों से उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की। शहीद जवानों को बंदूक की सलामी भी दी गई और पूरे राजकीय सम्मान के साथ उनका अंतिम संस्कार किया गया।

एएसआई कुमार हरियाणा के सोनीपत जिले के जैनपुर गांव के रहने वाले थे वहीं कांस्टेबल मेहर करनाल जिले के खेडी मानसिंह गाँव से थे। शहीद मेहर के पिता पूरन चंद्र ने कहा, "सरकार को नक्सलियों से कड़ाई से निबटने के लिए सुरक्षा बलों को खुली छूट देनी चाहिए। उन्होंने कहा, ‘‘देश के अंदर छिपे दुश्मन ही हमारे सैनिकों की हत्या कर रहे हैं। सरकार को कडाई से इस समस्या से निबटना चाहिए।"

देश-दुनिया से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

शहीद जवान मेहर के परिवार में पत्नी एक नाबालिग पुत्र और पुत्री है। वहीं शहीद जवान कुमार के परिवार में पत्नी राजबाला देवी, बेटी और दो बेटे हैं। मेहर के परिजनों की ही तरह राजबाला ने भी केंद्र सरकार से दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने की मांग की है। उन्होंने कहा, ‘‘अगर नक्सलियों के हमलों को तत्काल नहीं रोका गया तो वह हमारे बलों को भारी नुकसान पहुंचाना जारी रखेंगे।"

दोनों जवानों के अंतिम संस्कार में हरियाणा की मंत्री कविता जैन और करण देव कांबोज के अलावा क्षेत्र के विधायक, सीआरपीएफ के वरिष्ठ अधिकारी तथा पुलिस प्रशासन के अधिकारी मौजूद थे।"

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top