Top

उत्तराखंड में भाजपा सरकार का डबल इंजन शुरु नहीं हो पा रहा : पूर्व मुख्यमंत्री

उत्तराखंड में भाजपा सरकार का डबल इंजन शुरु नहीं हो पा रहा : पूर्व मुख्यमंत्रीउत्तरा खंड के पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत

देहरादून (भाषा)। इस वर्ष विधानसभा चुनावों के दौरान उत्तराखंड में डबल इंजन की सरकार आने के बाद विकास को पंख लगने के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के वादे पर तंज करते हुए पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने आज कहा कि प्रदेश में यह इंजन स्टार्ट ही नहीं हो पाया।

यहां संवाददाता सम्मेलन में रावत ने कटाक्ष किया, उत्तराखंड में भाजपा का बहुप्रचारित डबल इंजन शुरु ही नहीं हो पाया है। यह एक इंच भी आगे नहीं खिसका है। अब तक यह केवल घरघरा रहा है और धुआं निकाल रहा है। मैं प्रधानमंत्री से निवेदन करुंगा कि वह केदारनाथ भ्रमण के लिये आते समय दिल्ली से कोई विशेष ईंधन लाएं जिससे यह डबल इंजन चल सके।

ये भी पढ़ें- प्रधानमंत्री ने कांग्रेस को विकास के नाम पर चुनाव लड़ने की दी खुली चुनौती

मोदी ने यहां विधानसभा चुनावों के दौरान हुई जनसभा में कहा था कि केंद्र और राज्य दोनों में भाजपा की डबल इंजन वाली सरकार ही प्रदेश को भ्रष्टाचार और विकास की कमी की समस्या से उबार सकती है। गुरदासपुर उपचुनाव के नतीजे को एक बड़े बदलाव का संकेत बताते हुए रावत ने कहा कि जनता ने यह तुलना करनी शुरु कर दी है कि उनसे वादा क्या किया गया था और उन्हें दिया क्या जा रहा है।

उन्होंने कहा, ''सच्चाई में न बदलने वाले खोखले दावे सरकारों को बहुत भारी पड़ेंगे। गुरदासपुर का नतीजा लोकतंत्र के लिये एक शुभ संकेत है।'' कांग्रेस नेता ने यह भी उम्मीद जतायी कि उनकी पार्टी के कार्यकर्ता इस संदेश को अच्छी तरह समझेंगे। उन्होंने कहा, ''मुझे उम्मीद है कि गुरदासपुर 1978 का आजमगढ़ साबित होगा जिससे कांग्रेस का पुनरुत्थान शुरु हुआ था।'' उन्होंने कहा कि केदारनाथ में राज्य सरकार वहां से आगे ही नहीं बढ़ी है जहां से उनके नेतृत्व वाली सरकार ने उसे छोड़ा था।

ये भी पढ़ें- गुरदासपुर उपचुनाव का नतीजा पूरे देश में कांग्रेस की वापसी का संकेत : अमरिंदर सिंह

रावत ने कहा, ''केदारनाथ में पुनर्निर्माण की कोई नई पहल नहीं हुई है। जैसा हमने छोड़ा था, वह अब तक उसी स्थिति में है।'' उन्होंने कहा कि अपने केदारनाथ दौरे के दौरान प्रधानमंत्री को पूर्ववर्ती संप्रग सरकार द्वारा घोषित किये गये 8000 करोड़ रुपये के पैकेज में से तीन हजार करोड़ रुपये देने चाहिए।

मोदी 20 अक्टूबर को केदारनाथ आयेंगे और वर्ष 2013 में आयी प्रलयंकारी आपदा जैसी प्राकृतिक त्रासदियों से मंदिर के बचाव के लिये बनायी गयी एक दीवार सहित कई विकास परियोजनाओं का उद्घाटन करेंगे।

ये भी पढ़ें- गुरदासपुर उपचुनाव रिजल्ट: कांग्रेस उम्मीदवार सुनील जाखड़ ने भाजपा के सवर्ण सलारिया को 1,93,219 मतों से हराया

Next Story

More Stories


© 2019 All rights reserved.