देश में लोकतंत्र ख़तरे में : अन्ना हजारे

देश में लोकतंत्र ख़तरे में : अन्ना हजारेअन्ना हजारे

भिवानी (भाषा)। गांधीवादी नेता अन्ना हजारे ने आज कांग्रेस एवं भाजपा को 'धन से सत्ता एवं सत्ता से धन' कमाने वाली पार्टियां करार देते हुए कहा कि देश की जनता जागरूक नहीं है और देश का लोकतंत्र लगातार खतरे में है।

यहां एक कार्यक्रम में हजारे ने आरोप लगाया कि लोकसभा एवं राज्यसभा में विधेयक बिना चर्चा के पास हो रहे हैं। बिना चर्चा के विधेयक पास होना लोकतंत्र के लिए खतरा है। उन्होंने एक बार फिर किसानों एवं जवानों की लड़ाई के लिए मार्च में दल्लिी के रामलीला मैदान में आंदोलन शुरु करने की बात कही।

हजारे ने कहा कि चार साल पहले जनता के दबाव में लोकपाल सहित 7 कानून पास हुए। उन्होंने कहा कि केन्द्र सरकार एक तरफ तो भ्रष्टाचार खत्म करने का प्रचार करती है। दूसरी तरफ भ्रष्टाचार करने वाले अधिकारियों व नेताओं के लिए कानून कमजोर किए जा रहे हैं। उन्होंने आरोप लगाया कि आज बिना चर्चा के लोकसभा एवं राज्यसभा में लोकपाल को कमजोर करने के विध पास हो रहे हैं।

ये भी पढ़ें- अन्ना हजारे अगले साल 23 मार्च से शुरू करेंगे आंदोलन

उन्होंने आरोप लगाया कि आज केन्द्र सरकार जिस दिशा में जा रही है उससे लोकतंत्र की बजाय हुकुमतंत्र को बढ़ावा मिल रहा है। केन्द्र सरकार आश्वासन ज्यादा देती है और काम कम करती है। उन्होने आरोप लगाया कि सरकार के खाने व दिखाने के दांत अलग-अलग हैं। उन्होंने कहा कि भाजपा एवं कांग्रेस दोनों पार्टियां 'पैसे से सत्ता एवं सत्ता से पैसे' कमाने वाली पार्टियां हैं।

ये भी पढ़ें- ‘माल खाए मदारी और नाच करे बंदर’ अन्ना हजारे का सरकार को तंज

अन्ना ने कहा कि पाकस्तिान से लङ़ाई समाधान नहीं, लेकिन पाक नहीं मानता तो रोज-रोज शहीद हो रहे सैनिकों एवं अधिकारियों को बचाने के लिए एक बार आर-पार की लड़ाई हो ही जानी चाहिए। अन्ना ने कहा कि 30 दिनों में काला धन लाने के नाम पर भाजपा ने केन्द्र में सरकार बनाई, लेकिन सरकार नहीं बताती कि कितना कालाधन आया।

ये भी पढ़ें- मोदी से खफा अन्ना हजारे ने कहा, उन्हे प्रधानमंत्री पद का गुमान है

Tags:    Anna hazare 
Share it
Top