राम रहीम रेप केस:: पढ़िए, वर्ष 2002 से लेकर अबतक का हर अपडेट

राम रहीम रेप केस:: पढ़िए, वर्ष 2002 से लेकर अबतक का हर अपडेटफिल्म के दृष्य में बाबा राम रहीम

चंडीगढ़। यौन शोषण केस में डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम सिंह के लिए आज कोर्ट सजा का ऐलान करेगी। उनको रोहतक जेल में रखा गया है। साल 2002 में डेरा आश्रम में रहने वाली एक साध्वी ने चिट्ठी के जरिए डेरा प्रमुख पर यौन शोषण का आरोप लगाया था। इस मामले में हाईकोर्ट में अर्जी दाखिल की गई थी। इस पर सुनवाई के बाद कोर्ट के आदेश पर साल 2001 में पूरे मामले की जांच सीबीआई को सौंपी गई। साल 2007 में सीबीआई द्वारा आरोप पत्र दाखिल करने के बाद कोर्ट ने केस पर सुनवाई शुरू की थी।

28 अगस्त, 2017: आज (सोमवार) सुनाएगी जाएगी राम रहीम को सजा। सुरक्षा के कड़े इंतजाम। रोहतक जेल में बनाया गया कोर्ट रूम।

27 अगस्त, 2017: हरियाणा के डीजीपी बीएस संधू ने बताया कि हिंसा में 38 लोगों की मौत हो चुकी है, जिसमें 32 लोग पंचकूला और 6 लोग सिरसा से हैं। इस मामले में 52 केस दर्ज किए गए हैं। अभी तक 926 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। सुरक्षा व्यवस्था को लेकर एनएसए अजित डोभाल ने आला अधिकारियों के साथ बैठक की। पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने अपने सूबे में सुरक्षा व्यवस्था सख्त होने का दावा किया। हरियाणा के गृह विभाग ने 29 अगस्त सुबह साढ़े 11 बजे तक मोबाइल इंटरनेट, एसएमएस और डॉन्गल सेवाओं को स्थगित करने का आदेश। सिरसा स्थित डेरा सच्चा सौदा के परिसर में भी 29 अगस्त तक इंटरनेट सेवा रोक दी गई है।

ये भी पढ़ें:- #RamRahimSingh : बलात्कारी बाबा की सल्तनत को हर पार्टी का साथ

26 अगस्त, 2017 : पेशी के दौरान राम रहीम का बैग उठाने को लेकर हरियाणा के डिप्टी एडवोकेट जनरल गुरदास सिंह को बर्खास्त कर दिया गया है। हरियाणा के डीजीपी ने बताया कि 524 लोगों को गिरफ्तार किया गया है और सभी मृतक डेरा समर्थक हैं। राम रहीम के 6 सुरक्षा गार्ड और 2 डेरा समर्थकों के खिलाफ देशद्रोह का मुकदमा। इन पर कोर्ट में सुनवाई के दौरान आईजी को चांटा मारने का आरोप।

हाईकोर्ट ने कानून व्यवस्था को लेकर खट्टर सरकार को फटकार लगाई। कोर्ट ने कहा कि सरकार ने राजनीतिक फायदे के लिए शहर को जलने दिया। हरियाणा के साथ ही दिल्ली में सेना ने फ्लैग मार्च किया। सिरसा में डेरा के आश्रम में घुसने से सेना ने किया इंकार।

हरियाणा में राम रहीम के 36 आश्रमों के सील किया गया। इनमें करनाल, अंबाला, कैथल और कुरुक्षेत्र के आश्रम शामिल। हरियाणा के डीजीपी ने कहा कि राम रहीम के समर्थकों के पास से AK-47, रायफल, लाठी, पेट्रोल बम बरामद किए गए।

25 अगस्त, 2017 : डेरा प्रमुख राम रहीम को दोषी करार देते ही उनके समर्थक बेकाबू हो गए। हरियाणा, पंजाब, राजस्थान, दिल्ली और यूपी में तोड़फोड़ और आगजनी होने लगी। पुलिस और डेरा समर्थकों के बीच जमक हिंसा हुई. डेरा समर्थकों ने मीडिया पर भी हमला बोल दिया। मीडिया की टीम पर हमले के साथ ही ओबी वैन तोड़ दी गई। सरकारी दफ्तर, स्कूल सहित दुकानों में तोड़ के साथ ही कई वाहनों को आग के हवाले कर दिया गया। पुलिस ने फायरिंग की, जिसमें 31 लोगों की मौत हो गई।

डेरा प्रमुख के दोषी ठहराए जाने के बाद प्रवक्ता दिलावर इन्सां ने कहा कि हमारे साथ अन्याय हुआ है। हम इसकी अपील करेंगे। हमारे साथ वही हुआ जो इतिहास में गुरुओं के साथ हुआ। डेरा सच्चा सौदा मानवता भलाई के लिए है। सभी शांति बनाये रखें। दिल्ली के आनंद विहार रेलवे स्टेशन में खड़ी रीवा एक्सप्रेस के दो खाली डिब्बों में डेरा समर्थकों ने आग लगा दी। लोनी में दो बसों को आग के हवाले कर दिया गया।

डेरा प्रमुख पर कोर्ट के फैसले के बाद हुई हिंसा की राष्ट्रपति ने निंदा करते हुए लोगों से शांति बनाए रखने की अपील की। यूपी के ग्रेटर नोएडा, नोएडा, गाजियाबाद, हापुड़, शामली, बागपत और फिरोजाबाद में धारा 144 लागू कर दिया गया। सीबीआई कोर्ट ने रेप केस में डेरा प्रमुख गुरमीत राम रहीम सिंह को दोषी ठहराया।

ये भी पढ़ें:- #RamRahim : “मुझे गर्व है मेरे पिता का बलिदान व्यर्थ नहीं गया”

17 अगस्त, 2017 : सीबीआई कोर्ट में केस पर बहस पूरी। कोर्ट ने फैसला सुरक्षित रखा।

6 सितंबर, 2008 : स्पेशल सीबीआई कोर्ट ने राम रहीम पर सुनवाई शुरू कर दी।

31 जुलाई, 2007 : सीबीआई ने हत्या मामलों और साध्वी यौन शोषण मामले में जांच पूरी कर चार्जशीट दाखिल कर दिया।

मई, 2007 : डेरा प्रमुख गुरमीत सिंह ने गुरु गोबिंद सिंह जैसी वेशभूषा धारण कर फोटो खिंचवाए और उन्हें अखबारों में छपवाया।

नवंबर, 2004 : दूसरे पक्ष की सुनवाई के बाद सुप्रीम कोर्ट ने डेरा की याचिका खारिज कर दी। सीबीआई ने डेरा प्रमुख सहित कई अन्य लोगों को आरोपी बनाया।

दिसंबर 2003 : सीबीआई ने जांच शुरू कर दी। डेरा के लोगों ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर कर जांच पर रोक लगाने की मांग की। सुप्रीम कोर्ट ने स्टे कर दिया।

10 नवंबर, 2003 : सीबीआई को एफआईआर दर्ज कर जांच के आदेश जारी किए।

जनवरी 2003 : पत्रकार छत्रपति के बेटे अंशुल ने उच्च न्यायालय में याचिका दायर कर सीबीआइ जांच करवाने की मांग की।

2003 : रणजीत सिंह के पिता ने जनवरी 2003 में हाईकोर्ट में याचिका दायर कर सीबीआइ जांच की मांग की थी।

16 नवंबर, 2002 : सिरसा में मीडिया की महापंचायत बुलाई गई और डेरा सच्चा सौदा का बहिष्कार करने का प्रण लिया।

24 अक्तूबर 2002 : सिरसा के सांध्य दैनिक ‘पूरा सच’ के संपादक रामचन्द्र छत्रपति को गोली मारी गई।

24 सितंबर 2002 : हाईकोर्ट ने साध्वी यौन शोषण मामले में गुमनाम पत्र का संज्ञान लेते हुए डेरा सच्चा सौदा की सीबीआइ जांच के आदेश दिए।

10 जुलाई, 2002 : डेरा सच्चा सौदा की प्रबंधन समिति के सदस्य रहे कुरुक्षेत्र के रणजीत सिंह की हत्या।

5 मई, 2002 : डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत सिंह पर यौन शोषण के आरोप लगाते हुए डेरे की एक साध्वी ने गुम डेरा प्रमुख को आज सुनाई जाएगी सजा, उपद्रवियों को देखते ही गोली मारने के आदेशनाम पत्र तत्कालीन प्रधानमंत्री को भेजा।

ये भी पढ़ें:- डेरा प्रमुख को आज सुनाई जाएगी सजा, उपद्रवियों को देखते ही गोली मारने के आदेश

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Top