रेलवे विज्ञापन के ठेकों में गड़बड़ी 

रेलवे विज्ञापन के ठेकों में गड़बड़ी विज्ञापनों के ठेके में आई गड़बड़ी की होगी जांच।

नई दिल्ली (भाषा)। संसद की लोक लेखा समिति ने रेलवे के मुंबई मंडल के विज्ञापन ठेकों को देने में गड़ब़ी पाई है। इसके लिए मामले में सीबीआई जांच की मांग की गई है।

लोक लेखा समिति ने अपनी ताजी रिपोर्ट में रेलवे के मुंबई मंडल में ‘पहले आओ, पहले पाओ’ की नीति के आधार पर दिए गए विज्ञापनों के ठेकों में गड़बड़ी होने का जिक्र किया है। ठेके देने के लिए पिछले 25-30 साल से इस नीति को अपनाया जा रहा है।

देश-दुनिया से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

इस रिपोर्ट में समिति के अध्यक्ष केवी थॉमस ने कहा कि वाणिज्यिक विज्ञापन के लिए इस नीति के आधार पर दिए गए सभी ठेकों को तत्काल प्रभाव से रद्द कर देना चाहिए। समिति का कहना है कि मध्य रेलवे और पश्चिम रेलवे में इन ठेकों को देने में किसी तरह की पारदर्शिता नहीं है।

केंद्रीय सतर्कता आयोग की ओर से विज्ञापनों के ठेकों में आई इस गड़बड़ी की जांच की जाएगी। इसके लिए जिम्मेदार रेलवे अधिकारियों की मिलीभगत का पता लगाकर उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। कुछ अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई भी की जा चुकी है। स्टेशनों पर अनाधिकृत विज्ञापनों से राजस्व का नुकसान न हो, इसके लिए समिति का सुझाव है कि ठेके के विज्ञापनों पर अधिकृत होने का पहचान चिह्न या होलोग्राम का विकल्प अपनाया जाए। साथ में अनाधिकृत विज्ञापनों पर जुर्माना लगाया जाए।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top