देवरिया बालिका गृह मामले में सरकार ने डीएम को हटाया, डीपीओ सस्पेंड

पुलिस ने बालिका गृह में यौन शोषण के आरोपों के बाद यहां से 24 लड़कियों को मुक्त कराया है। आश्रयगृह के संचालकों गिरिजा त्रिपाठी, उसके पति मोहन त्रिपाठी और अधीक्षक कंचनलता को गिरफ्तार किया गया है।

देवरिया बालिका गृह मामले में सरकार ने डीएम को हटाया, डीपीओ सस्पेंड

देवरिया केस में बालिका गृह की एक बच्ची ने बताया कि हमारे साथ की बड़ी लड़कियों को गोरखपुर समेत कई जगह भेजा जाता था। मीडिया से बात करते हुए इस लड़की ने कहा कि उस जैसी लड़कियों को भी कई बार साथ में कार से भेजा जाता था लेकिन गलत काम बड़ी लड़कियों के साथ होता था। शाम या रात में लड़कियों के भेजा जाता था, जो भोर (तड़के४ बजे तक) तक वापस आ जाती थी, जिन्हें पैसे भी दिए जाते थे।

उत्तर प्रदेश के देवरिया बालिका गृह मामले में प्रदेश सरकार ने बड़ी कार्रवाई की है। मुख्यमंत्री के आदेश पर जिले के जिलाधिकारी सुजीत कुमार को हटा दिया गया है वहीं डीपीओ को निलंबित कर दिया गया है। यह जानकारी राज्य की महिला एवं परिवार कल्याण मंत्री रीता बहुगुणा जोशी ने दी। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने घटना पर प्रमुख सचिव महिला एवं बाल कल्याण विभाग से फौरन रिपोर्ट मांगी है। प्रमुख सचिव (महिला एवं परिवार कल्याण) रेणुका कुमार की अगुवाई में दो सदस्यीय समिति को मामले की जांच के लिये भेजा गया है। एटा के डीएम रहे अमित किशोर को देविरया भेजा गया है।

पूर्वांचल के पिछड़े जिले देवरिया में हुए शर्मनाक वाक्ये के बाद सरकार ने पूरे प्रदेश के बालिका गृहों की रिपोर्ट आज शाम तक देने का निर्देश दिया है। देवरिया के मां विंध्यावासिनी बालिका संरक्षण गृह में बालिकाओं से देह व्यापार के खुलासे को लेकर डीएम की हटा दिया गया है जबकि जिला प्रोबेशन अधिकारी अभिषेक पांडेय को निलंबित किया जा चुके हैं। जबकि प्रभारी डीपीओ रहे नीरज कुमार और अनुज सिंह के खिलाफ भी विभागीय शिकंजा कसने के निर्देश दिए गए हैं। माना जा रहा है इस मामले में मंगलवार को कई और अधिकारियों पर गाज गिर सकती है।

अपर मुख्य सचिव महिला कल्याण रेणुका कुमार को मामले की जांच के लिए देवरिया भेजा गया है। उनके साथ अपर पुलिस महानिदेशक अंजु जोशी (महिला कल्याण) की विशेष टीम भी साथ में है। ये टीम सोमवार रात देवरिया में ही रुकी। गोरखपुर के मंडलायुक्त को भी देवरिया बुला लिया गया है। एटा के डीएम रहे अमित किशोर को देवरिया का नया जिलाधिकारी बनाया गया है।


आईजी कानून व्वयस्था प्रवीण कुमार ने कहा कि मामले में केस दर्ज कर जांच शुरु कर दी गई है। दो लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है। मामले से जुड़े हर व्यक्ति की जांच होगी। पुलिस पीड़ित लड़कियों का मेडिकल करवा रराही है।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सोमवार को सुबह ही इस मामले में लखनऊ में अपने आवास पर महिला कल्याण मंत्री डॉ. रीता बहुगुणा जोशी, मुख्य सचिव अनूप चन्द्र पांडेय, अपर मुख्य सचिव महिला कल्याण रेणुका कुमार, गृह सचिव अरविंद कुमार व एडीजी कानून-व्यवस्था आनंद कुमार के साथ बैठक में उन्होंने दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की बात कही। मुख्यमंत्री ने अवैध तरीके से संचालित इस बालिका संरक्षण गृह के खिलाफ कार्रवाई न करने के लिए शासन से लेकर जिला स्तर के अधिकारियों को जमकर फटकार लगाई है।

प्रदेश के दूसरे बालिका संरक्षण गृहों की रिपोर्ट न देने वाले जिलाधिकारियों के खिलाफ भी कार्रवाई की बात की जा रही है। सीएम ने तीन अगस्त को मामले में पूरे प्रदेश से रिपोर्ट मांगी थी। मामले को लेकर सियासत तेज ह विपक्ष के नेता राम गोबिंद चौधरी मंगलवार को देविरया जा रहे हैं। यूपी के पूर्व मुख्ममंत्री अखिलेश यादव ने बिहार के देवरिया में हुए केस को लेकर एनडीए पर हमला बोला।


Share it
Top