कुत्तों को भी आता है हार्ट अटैक, हो रहे डायबिटिक

कुत्तों को भी आता है हार्ट अटैक, हो रहे डायबिटिक5 से 6 साल की उम्र में कुत्तों को कई इंसानों वाली बीमारी हो रही है।

भोपाल। आपने इंसानों में डायबटीज, थायराइड, हार्ट अटैक, किडनी फेल जैसी बीमारी को सुना है, लेकिन ये बीमारी इस समय कुत्तों में भी पाई जा रही हैं। मसालेदार, चटपटा खाना, असंयमित दिनचर्या से हम अपनी सेहत तो बिगाड़ ही रहे हैं, अपने पालतू जानवरों को भी ऐसी बीमारी दे रहे हैं जो उन्हें नहीं होती थीं या फिर बहुत कम होती थीं। करीब 10 फीसदी कुत्ते भी डायबिटीज का शिकार हो रहे हैं।

विपरीत खान-पान की वजह से कुत्तों में हार्मोन से संबंधी बीमारियों के साथ हार्ट और किडनी की बीमारी भी हो रही है। मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में पशु चिकित्सालय में इलाज के लिए आने वाले कुत्तों की जांच में यह आंकड़ा सामने आया है। 5 से 6 साल की उम्र में कुत्तों को इस तरह की कई इंसानों वाली बीमारी हो रही हैं।

ये भी पढ़ें:- झारखंड में रोज करीब ढाई सौ लोगों को काट रहे कुत्ते

राज्य पशु चिकित्सालय के डिप्टी डायरेक्टर डॉ. एचएल साहू बताते हैं, "सामान्य आबादी में 10 में से औसतन एक कुत्ते को डायबिटीज हो रहा है। पांच साल पहले तक कुत्तों में डायबिटीज के मामले न के बराबर थे। बीमारी पनपने की वजह यह कि कुत्ता मूलत: मांसाहारी जीव है, लेकिन इंसान ने उसे पालतू बनाकर अपनी पसंद की खुराक देना शुरू कर दिया। जिस वजह से बीमारी भी इंसानों वाली हो रही हैं।"

सामान्य आबादी में 10 में से औसतन एक कुत्ते को डायबिटीज हो रहा है। पांच साल पहले तक कुत्तों में डायबिटीज के मामले न के बराबर थे। बीमारी पनपने की वजह यह कि कुत्ता मूलत: मांसाहारी जीव है, लेकिन इंसान ने उसे पालतू बनाकर अपनी पसंद की खुराक देना शुरू कर दिया। जिस वजह से बीमारी भी इंसानों वाली हो रही हैं।
डॉ. एचएल साहू, डिप्टी डायरेक्टर, राज्य पशु चिकित्सालय मध्य प्रदेश

डॉ. एचएल साहू बताते हैँ, "कुत्तों को ज्यादा तेल-मसाले वाली चीजें खिलाई जा रही हैं। उनका घूमना-फिरना और दौड़ना भी बंद हो गया। इस वजह से लगभग 50 फीसदी कुत्तों को मोटापा (ओबेसिटी) है, जो एक बीमारी है। मोटापे की वजह से उनका लिवर फैटी हो रहा है। अस्पताल में कुत्तों की सोनोग्राफी में यह सामने आया है। जर्मन शेफर्ड और लेब्राडोर कुत्तों में मोटोपे की समस्या ज्यादा हो रही है।"

ये भी पढ़ें: क्या आपने कुत्तों के ब्लड बैंक के बारे में सुना है?

तेजी से बढ़ रहा थायराइड

महू स्थित वेटनररी कॉलेज में सीनियर सांइटिस्ट डॉ. परेश जैन के मुताबिक 10 से 12 फीसदी पालतू कुत्ते डायबिटीज के शिकार हो रहे हैं। खान-पान में बदलाव के चलते उनमें थायराइड की समस्या भी हो रही है। हालांकि इसके मामले 100 में 7-8 ही होते हैं। जैन के मुताबिक कुत्ता काफी भावुक जानवर होता है। साथ ही उनका खान-पान तेल मसाले वाला होने से उन्हें अल्सर की दिक्कत भी बढ़ रही है। हाई ब्लड प्रेशर के भी इक्का-दुक्का केस मिल रहे हैं।

देश-दुनिया से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

10 में तीन कुत्तों की फेल हो रही किडनी

इंदौर के डॉ. नरेश जैन के मुताबिक, "कुत्तों में किडनी फेल होने की बीमारी तेजी से बढ़ी है। चौकाने वाली बात यह है कि 6-7 साल की उम्र के बाद 10 में से 3 पालतू कुत्तों की किडनी फेल हो रही है। इसके पीछे बड़ी वजह पानी है। इंदौर में ज्यादातर घरों में बोरिंग का पानी आता है। कुत्तों को बिना फिल्टर वाला पानी सीधा टंकी से निकाल कर दे दिया जाता है। पानी में लौह धातुओं के चलते उनकी किडनी फेल हो रही है। किडनी फेल होने की दूसरी वजह मोटापा व डायबिटीज है।

कुत्तों को ज्यादा तेल-मसाले वाली चीजें खिलाई जा रही हैं। उनका घूमना-फिरना और दौड़ना भी बंद हो गया। इस वजह से लगभग 50 फीसदी कुत्तों को मोटापा (ओबेसिटी) है, जो एक बीमारी है। मोटापे की वजह से उनका लिवर फैटी हो रहा है। अस्पताल में कुत्तों की सोनोग्राफी में यह सामने आया है। जर्मन शेफर्ड और लेब्राडोर कुत्तों में मोटोपे की समस्या ज्यादा हो रही है।

ये भी पढ़ेे:- ‘भारत में कुत्तों की हालत आज जितनी बुरी कभी नहीं रही’

गाय-भैंस के दूध में कम हो रहे पोषक तत्व

वेटनररी कॉलेज महू के डॉ. परेश जैन का कहना है कि गाय-भैंस का मूल आहार अब संतुलित नहीं रहा है। उन्हें हरी चीजें खाने को नहीं मिलतीं। इस वजह से उनके दूध में भी पौष्टिक तत्वों की कमी आ रही है। हालांकि, खान-पान का असर उनके दूध में कुछ महीने बाद आता है। राज्य पशु चिकित्सालय के डॉ. एसआर नागर ने बताया कि गाय-भैंस भी एक जगह बंधी रहती हैं। ज्यादा दूध के फेर में उनके खान-पान में खली और फैट वाली चीजें बढ़ने से जोड़ खराब होने की बीमारी बढ़ी है।

ये भी पढ़ें:- आवारा कुत्तों से नहीं बच सकते, क्योंकि कानून इनके साथ है

ऐसे पहचाने कुत्तों में डायबिटीज को

- कुत्ता ज्यादा पानी पी रहा हो।

- बार-बार पेशाब करना।

- पेशाब में चींटी लग रही हों।

- स्किन की बीमारी होने पर इलाज के बाद भी ठीक नहीं हो रही हो।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Top