विशेष : भारी बारिश और ठंड के कारण नमाज पढ़ने के लिए गुरुद्वारा कमेटी ने खोले द्वार

विशेष : भारी बारिश और ठंड के कारण नमाज पढ़ने के लिए गुरुद्वारा कमेटी ने खोले द्वारगुरुद्वारे में नमाज पढ़ते लोग 

लखनऊ। देवभूमि कहे जाने वाले उत्तराखंड में धार्मिक सहिष्णुता की आज एक नजीर पेश हुई जिसमें एक गुरुद्वारा कमेटी ने बारिश और ठंड को देखते हुये जोशीमठ के गुरुद्वारे प्रबंधक ने मुस्लिम भाईयों से गुरुद्वारे में नमाज अता करने के लिए आमंत्रित किया।

आदि गुरु शंकराचार्य की तपस्थली जोशीमठ के गुरुद्वारे में ईद-उल-अजहा (बकरीद) की नमाज मुस्लिम भाईयों ने पढ़ी। बारिश और ठंड को देखते हुए गुरुद्वारा प्रबंधन ने नमाज पढ़ने के लिए गुरुवारे के द्वार खोल दिए।

ये भी पढ़ें-10 साल तक की देश सेवा, अब बांस की साइकिल बनाकर गाँव के युवाओं को दे रहे रोजगार

मिली जानकारी के अनुसार चमोली जिले के जोशीमठ में रात भर से भारी वर्षा और ठंड हो रही थी। ईद के मौके पर मुस्लिम समाज के लोग नमाज पढ़ना चाहते थे। लेकिन भारी बारिश से खुले मैदान में नमाज पढ़ना मुश्किल हो रहा था। लगभग 600 लोग नमाज अता करने के लिए गांधी मैदान की तरफ आ रहे थे। बारिश और ठंड को देखते हुये जोशीमठ के गुरुद्वारे प्रबंधक ने मुस्लिम भाईयों से गुरुद्वारे में नमाज अता करने के लिए आमंत्रित किया। सभी मुस्लिम समाज के लोगों ने यहां गुरुद्वारे में नमाज पढ़ी। यहां मुस्लिम समुदाय के लोगों ने ईद-उल-अजहा की नमाज पढ़ी। इस दौरान देश की एकता और तरक्‍की की दुआ मांगी गई। नमाज के बाद अन्य धर्म के लोगों ने भी ईद की मुबारक दी और एक दूसरे के गले लगाया।

ये भी पढ़ें-झुग्गी-झोपड़ियों के बच्चे ‘छोटे मास्टर जी’ से सीख रहे पढ़ाई

जोशीमठ गुरुद्वारा कमेटी के प्रबंधक बूटा सिंह ने बताया कि तेज बारिश के कारण मुस्लिम भाइयों को नमाज अदा करने के लिए दिक्कत हो रही थी। जब इस संबंध में कमेटी के बाकी सदस्यों और गोविंद घाट गुरुद्वारा कमेटी से बात की तो उन्होंने मुस्लिम भाइयों को गुरुद्वारे में नमाज पढ़ने के लिए हामी भरी। कहा कि इससे पहले 2012 में भी बारिश के चलते गुरुद्वारा में नमाज पढ़ी गई थी। यह भी कहा कि यह देवभूमि है। ईश्वर एक ही है। यह इंसानियत की मिसाल है। इससे यह संदेश भी जाएगा कि उत्तराखंड में साप्रदायिक सौहार्द कायम है। उधर, मुस्लिम समुदाय के लोगों ने गुरुवारा प्रबंधन का शुक्रिया अदा किया। कहा कि गुरुद्वारा कमेटी ने जो सहयोग किया है, वह देश में एक मिसाल पेश करेगा। उधर, जिला चमोली में सभी स्थानों पर ईद की नमाज सकुशल सम्पन्न हुई है। इस प्रकार की घटना ने आखिर आज भारत की एकजुटता में पड़ रही दरारों को भरने का काम भी किया।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Top