सुप्रीम कोर्ट: तेज बहादुर की शिकायत पर गौर करे निर्वाचन आयोग

सुप्रीम कोर्ट: तेज बहादुर की शिकायत पर गौर करे निर्वाचन आयोग

लखनऊ। उच्चतम न्यायालय ने निर्वाचन आयोग से कहा कि जवान तेज बहादुर यादव की शिकायत पर गौर करें। सीमा सुरक्षा बल से बर्खास्त जवान तेज बहादुर यादव ने वाराणसी संसदीय सीट से प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के खिलाफ नामांकन दायर किया था। हालांकि, बाद में उनका नामांकन रद्द हो गया और उन्होंने निर्वाचन आयोग में इसकी शिकायत की।

समाचार एजेंसी भाषा के मुताबिक, प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली पीठ ने निर्वाचन आयोग के वकील से कहा कि वह आवश्यक निर्देश प्राप्त कर गुरूवार को उन्हें बताएं। तेज बहादुर यादव के वकील प्रशांत भूषण ने शीर्ष अदालत के एक फैसले का हवाला दिया और कहा कि आदर्श आचार संहिता लागू होने के दौरान भी चुनाव याचिका दायर की जा सकती है।

निर्वाचन अधिकारी द्वारा वाराणसी संसदीय सीट पर तेज बहादुर यादव का नामांकन रद्द होने के बाद उन्होंने शीर्ष अदालत में याचिका दायर की है। यादव का कहना है कि ऐसा प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को फायदा पहुंचाने के लिए किया गया।

ये भी पढ़ें- उम्मीदवारी रद्द करने के चुनाव आयोग के फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट पहुंचे तेज बहादुर यादव

निर्वाचन अधिकारी ने एक मई को समाजवादी पार्टी के प्रत्याशी यादव का नामांकन पत्र रद्द कर दिया था। यादव को सीमा सुरक्षा बल में जवानों को मिलने वाले भोजन के बारे में शिकायत संबंधी एक वीडियो पोस्ट करने की घटना के बाद 2017 में सुरक्षा बल से बर्खास्त कर दिया गया था। चुनाव अधिकारी का कहना था कि यादव जनप्रतिनिधित्व कानून के तहत यह अनिवार्य प्रमाण पत्र पेश नहीं कर सके थे कि उन्हें भ्रष्टाचार या राज्य के प्रति निष्ठाहीनता के लिये बर्खास्त नहीं किया गया है।

यादव ने अपनी याचिका में निर्वाचन आयोग के फैसले को पक्षपातपूर्ण और तर्कहीन बताते हुए इसे निरस्त करने और वाराणसी सीट पर 19 मई को होने वाले चुनाव में शामिल होने की अनुमति देने का अनुरोध न्यायालय से किया है। वाराणसी संसदीय सीट के लिए समाजवादी पार्टी ने शुरू में शालिनी यादव को अपना प्रत्याशी बनाया था परंतु बाद में उसने सीमा सुरक्षा बल के जवान को अपना उम्मीदवार बना लिया था।

ये भी पढ़ें- 'फोनी' के कारण उड़ीसा की पाटकुरा सीट पर मतदान टला, केन्द्र से 1000 करोड़ रुपए की राहत

यादव के नामांकन पत्र को खारिज करते हुए निर्वाचन अधिकारी ने कहा था कि नामांकन पत्र के साथ चुनाव आयोग द्वारा निर्धारित स्वरूप में प्रमाण पत्र नहीं है कि उसे भ्रष्टाचार के लिये या राज्य के प्रति निष्ठाहीनता दिखाने के लिये बर्खास्त किया गया। यादव ने निर्वाचन अधिकारी के 29 अप्रैल के पहले नोटिस के जवाब में कहा था कि उसे अनुशासनहीनता के कारण सीमा सुरक्षा बल से बर्खास्त किया गया, जो चुनाव कानूनों के दायरे में नहीं आता है। अत: इस बारे में निर्वाचन आयोग से प्रमाण पत्र की आवश्यकता नहीं है।

निर्वाचन अधिकारी ने 30 अप्रैल को दूसरा नोटिस दिया और याचिकाकर्ता से एक मई को सवेरे 11 बजे तक यह प्रमाण पत्र पेश करने के लिये कहा कि उसे भ्रष्टाचार या निष्ठाहीनता के लिये सेवा से बर्खास्त नहीं किया गया है। याचिका में कहा गया है कि यादव ने दूसरे नोटिस का भी जवाब दिया था कि जनप्रतिनिधत्वि कानून के प्रावधान उसके मामले में लागू नहीं होते हैं।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top