मोदी की बायोपिक पर आपत्ति नहीं लेकिन 'NAMO TV' और 'मैं भी चौकीदार कार्यक्रम' पर चुनाव आयोग सख्त

चुनाव आयोग ने कहा कि फिल्म के रिलीज होने की तारीख तय करने में हमारी भूमिका नहीं है।

मोदी की बायोपिक पर आपत्ति नहीं लेकिन

लखनऊ। चुनाव आयोग को देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर बनी फिल्म 'PM Narendra Modi' के रिलीज होने से कोई आपत्ति नहीं है। निर्वाचन आयोग ने कहा कि केंद्रीय फिल्म प्रमाणन बोर्ड (CBFC) ने फिल्म को प्रमाण पत्र दिया है। फिल्म रिलीज हो या नहीं, यह तय करना हमारा काम नहीं बल्कि सीबीएफसी का काम है। चुनाव आयोग ने कहा कि फिल्म के रिलीज होने की तारीख तय करने में हमारी भूमिका नहीं है।

चुनाव आयोग ने ये बातें मुंबई हाईकोर्ट में कहीं। गौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर बनने वाली बायोपिक फिल्म 'पीएम नरेंद्र मोदी' 5 अप्रैल को रिलीज हो रही है। कई राजनीतिक दलों ने आचार संहिता के समय इसके रिलीज पर आपत्ति जताई थी और मुंबई हाईकोर्ट में याचिका दायर की थी। चुनाव आयोग ने मोदी फिल्म पर तो कोई आपत्ति नहीं जताई लेकिन नमो टीवी पर सख्त रूख अपनाया।

चुनाव आयोग ने सूचना और प्रसारण मंत्रालय को पत्र लिखकर जवाब मांगा है। चुनाव आयोग ने मंत्रालय से पूछा कि लोकसभा चुनाव से पहले अचानक से "नमो टीवी" कैसे लॉन्च हो गया? सूत्रों के अनुसार मंत्रालय आयोग की जवाब देने की पूरी तैयारी कर चुका है। सूचना और प्रसारण मंत्रालय के सूत्रों के अनुसार निर्वाचन आयोग को बताया जा रहा है कि नमो टीवी कोई लाइसेंस चैनल नहीं बल्कि एक विज्ञापन प्लेटफॉर्म है जबकि मंत्रालय सिर्फ टीवी चैनल्स को लाइसेंस देता है। आपको बता दें कि 31 मार्च को लॉन्च हुआ 'NAMO TV' चैनल पीएम मोदी के भाषण और भाजपा-केंद्रित सामग्रियों को प्रसारित करता है।

चुनाव आयोग ने प्रधानमंत्री मोदी के 'मैं भी चौकीदार' कार्यक्रम के लाइव प्रसारण पर दूरदर्शन से जवाब मांगा है। चुनाव आयोग ने दूरदर्शन से पूछा कि 31 मार्च को राष्ट्रीय प्रसारक ने पीएम मोदी के सार्वजनिक संबोधन 'मैं भी चौकीदार' का एक घंटे का लाइव प्रसारण को क्यों और कैसे चलाया, जबकि पुरे देश में आचार संहिता लागू है।

चुनाव आयोग यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के सेना वाले बयान की जांच कर रहा है। योगी आदित्यनाथ ने गाजियाबाद के बिसरख बिसाहड़ा में चुनावी भाषण के दौरान कहा था, 'कांग्रेस की सरकार आतंकवादियों को बिरयानी खिलाती थीं लेकिन मोदीजी की सेना गोली खिलाकर खत्म कर रही है।'

योगी ने इस भाषण में सेना को 'मोदी की सेना' भी बताया था। इस पर तमाम राजनीतिक दलों ने आपत्तिजनक और सेना के लिए अपमानजनक बताते हुए चुनाव आयोग में शिकायत थी। चुनाव आयोग का कहना है कि वह योगी के भाषण की जांच कर रही है।

नमो चैनल के प्रसारण पर फौरन रोक लगाये चुनाव आयोग : कांग्रेस

पीएम मोदी के 'राष्ट्र के नाम संबोधन' की चुनाव आयोग करेगा जांच

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top