देवरिया कांड: जांच के घेरे में प्रदेश के सभी शेल्टर होम, प्रदेश सरकार ने कहा, दोषियों पर होगी सख्त कार्रवाई

देवरिया कांड: जांच के घेरे में प्रदेश के सभी शेल्टर होम, प्रदेश सरकार ने कहा, दोषियों पर होगी सख्त कार्रवाई

लखनऊ। देवरिया नारी संरक्षण कांड में आज नए खुलासे हो सकते हैं। सोमवार को समाज कल्याण विभाग की अपर मुख्य सचिव रेणुका कुमार और एडीजी अंजू गुप्ता की निगरानी में सभी 24 लड़कियों का जिला अस्पताल में मेडिकल परीक्षण कराया गया था। ऐसे में आज खुलासे के बाद कार्रवाई में तेजी आ सकती है।

हालांकि मेडिकल रिपोर्ट को अभी तक सार्वजनिक नहीं किया गया है। सूत्रों की मानें तो मंगलवार शाम तक दो सदस्यीय टीम मुख्यमंत्री से मिलेगी और अपनी जांच रिपोर्ट सौंपेंगी। वहीं लोकसभा में हंगामे के बाद केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि योगी सरकार ने मामले में तुरंत कार्रवाई की है, इसके लिए वे बधाई के पात्र हैं।

ये भी पढ़ें देवरिया बालिका गृह मामले में सरकार ने डीएम को हटाया, डीपीओ सस्पेंड

आज एक प्रेस कॉफ्रेंस में उत्तर प्रदेश महिला एवं बाल विकास मंत्री रीता बहुगुणा जोशी ने कहा कि 2017 में इस गृह को बंद कराने का आदेश जारी किया गया था। बावजूद इसके वहां के प्रशासन ने इस पर ध्यान नहीं दिया, ये जांच का विषय है। देवरिया के सभी अधिकारियों की भूमिका की जांच होगी। शेल्टर को 2010 में मान्यती दी गई थी। 2014 तक उसे हर तरह की मान्यता दे दी गई। प्रदेश के सभी शेल्टर होम की जांच होगी। रीता बहुगुणा ने भी कई नोटिस देने की बात दुहराई।


रीता बहुगुणा जोशी ने आगे कहा कि कहा कि इस मामले पर वे लोग सवाल उठा रहे हैं जिनके सत्ता में रहते ऐसे शेल्टर होम को बढ़ावा मिला फले-फूले। उन्होंने कहा कि इसको राजनीतिक तूल देने की कोशिश की जा रही है। रीता बहुगुणा जोशी ने आगे बताया कि 2010 में मां विंध्यावासिनी महिला व बालिका संरक्षण गृह को मान्यता मिली थी और 2010 से 2014 के बीच ऐसी कई मान्यताएं दी गईं थी। सीएम इस मामले पर नजर बनाए हुए हैं।

यूपी सरकार की मंत्री ने कहा कि इस केस में सभी के अलग-अलग बयान दर्ज किए गए हैं और अधिकारियों की भूमिका की जांच भी की जा रही है। जो भी दोषी पाया जाएगा, उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने कहा कि योगी सरकार ने इस शेल्टर होम की मान्यता रद्द की थी जबकि पिछली सरकारों ने इन्हें मान्यता दे रखी थी। मंगलवार शाम तक देवरिया कांड की रिपोर्ट आ जाएगी। जो भी मामले में दोषी होंगे। उन्हें बख्शा नहीं जाएगा। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ खुद ही मॉनिटरिंग कर रहे हैं।

इससे पहले सोमवार को हुई कार्रवाई में पुलिस और जिला प्रशासन मां विंध्यवासिनी बालिका संरक्षण गृह को सील करते हुए वहां से कई अहम दस्तावेज को कब्जे में ले लिया। लड़कियों से बात करके उनका बयान भी दर्ज किया गया है। वहीं आज सुबह रामपुर कारखाना के पास एक लड़की बरामद हुई है, जिसे लेकर ऐसी आशंका जताई जा रही है कि वो मां विंध्यवासिनी बालिका संरक्षण से गायब हुई लड़कियों में से एक है और उसके साथ मारपीट हुई है।

सुनिए देवरिया कांड की पीड़ित की जुबानी सुनिए काला सच

Share it
Share it
Share it
Top