Top

FACT CHECK: रामपुर के SP ने रेपिस्‍ट को मारी गोली, सच्‍चाई कुछ और है

Ranvijay SinghRanvijay Singh   24 Jun 2019 7:13 AM GMT

FACT CHECK: रामपुर के SP ने रेपिस्‍ट को मारी गोली, सच्‍चाई कुछ और है

लखनऊ। उत्‍तर प्रदेश के रामपुर जिले में छह साल की मासूम से दुष्कर्म और हत्‍या के आरोपी को पुलिस ने मुठभेड़ में गोली मारी है। इस मुठभेड़ में पैर में गोली लगने से आरोपी घायल हो गया, जिसे इलाज के लिए मेरठ भेजा गया है। इस मुठभेड़ की खबर के बाद से ही सोशल मीडिया और कई न्‍यूज वेबसाइट पर ऐसी खबरें चल रही हैं कि रामपुर के एसपी अजय पाल शर्मा ने रेप के आरोपी को सीधे गोली मार दी।

इस खबर में कितने सच्‍चाई है यह आप आगे जान पाएंगे। पहले कुछ पोस्‍ट देखें जो किए जा रहे हैं-


कुछ इस तरह के पोस्‍ट की सोशल मीडिया में भरमार है। साथ ही लोग अपनी डिस्‍प्‍ले पिक्‍चर पर भी एसपी अजय पाल शर्मा की तस्‍वीर लगा रहे हैं। हालांकि अगर पूरी घटना के फैक्‍ट्स को देखें तो मुठभेड़ के दौरान एसपी मौके पर मौजूद नहीं थे। इस बात की गवाही लोकल अखबार से लेकर खुद रामपुर पुलिस में मौजूद कर्मचारी भी करते हैं।

फैक्‍ट के मुताबिक, शनिवार देर रात पता लगा कि कांशीराम कालोनी पहाड़ी गेट निवासी नाजिल पुत्र नाजिम ने रेप और हत्‍या की घटना को अंजाम दिया था। वह आश्रम पद्धति स्कूल के पास मजार के सामने खड़ा था। इसपर थाने से पुलिस टीम को भेजा गया। पुलिस ने घेराबंदी की तो आरोपी ने फायरिंग कर दी, जवाब में पुलिस ने भी गोली चलाई जो कि उसके पैर में लगी। उसके पास से तमंचा मिला। पैर में गोली लगने से घायल होने पर उसे उपचार के लिए अस्पताल भेजा गया, वहां से मेरठ रेफर कर दिया।

इस मामले पर खुद एसपी ने जो बाइट दी है उसमें भी वो पुलिस टीम का जिक्र कर रहे हैं, न कि खुद आरोपी को गोली मारने की बात कह रहे हैं। देखें यह वीडियो-

मामले में पुलिस की लचर कार्यप्रणाली

इस वाहवाही के बीच जो बड़ी बात पीछे छूट गई वो है बच्‍ची के साथ हुई क्रूरता, पुलिस की लचर कार्यप्रणाली जानकारी के मुताबिक, सात मई (करीब डेढ़ महीने पहले) को सिविल लाइंस कोतवाली क्षेत्र के कांशीराम कालोनी पहाड़ी गेट निवासी एक व्यक्ति की छह साल की बेटी घर के बाहर खेलते समय अचानक गायब हो जाती है। परिजनों ने सिविल लाइंस कोतवाली में गुमशुदगी भी दर्ज कराई थी। इसके लिए क्राइम ब्रांच को भी लगाया गया था। लेकिन पुलिस बच्‍ची को बरामद नहीं कर सकी।

इस बीच शनिवार (22 जून) को बच्चे जब खेलने गए तो उन्होंने अधबने मकान में एक कंकाल देखा और इस बारे में लोगों को बताया तो भीड़ लग गई। मौके पर पहुंची पुलिस ने बच्ची का कंकाल बरामद कर लिया। परिवार वालों ने उसकी पहचान कपड़ों और चप्पलों से की। परिजनों ने इस मामले में कांशीराम कालोनी पहाड़ी गेट निवासी नाजिल पर शक जाहिर किया। इसके बद पुलिस हरकत में आई और उसे गिरफ्तार कर लिया।

बच्‍ची के साथ किया दुष्‍कर्म फिर शव को तेजाब डालकर जला दिया

पुलिस पूछताछ में आरोपी नाजिल ने अपना जुर्म कुबूल किया है। उसने बताया कि बच्ची उसके पड़ोस में रहती थी। डेढ़ माह पहले दोपहर करीब एक बजे वह बच्ची को बहाने से ले गया था। कालोनी के पीछे बने एक निर्माणाधीन मकान में ले जाकर उसके साथ दुष्कर्म किया। उसे डर था कि बच्ची यह बात लोगों को बता देगी, इस डर से उसने बच्ची का गला दबाकर हत्या कर दी। बाद में तेजाब डालकर जला दिया था।

एसपी ने बताया कि आरोपित नाजिल के खिलाफ बच्ची के अपहरण, हत्या, दुष्कर्म और पॉक्सो एक्ट में मुकदमा दर्ज किया गया है। इसके अलावा पुलिस पर गोली चलाने और तलाशी में तमंचा मिलने का भी मुकदमा अलग से दर्ज किया है।

फिलहाल खबरों में रामपुर पुलिस की वाहवाही हो रही है। हालांकि देखा जाए तो यह पूरे तौर पर पुलिस की लचर कार्यप्रणाली को दिखाता, जिसमें डेढ़ माह बीत जाने के बाद भी बच्‍ची की कोई खबर नहीं मिल पाती और अंत में मिलता है तो उसका कंकाल।

Next Story

More Stories


© 2019 All rights reserved.