Top

कृषि अध्यादेशों के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे राष्ट्रीय किसान महासंघ के कई किसान नेता गिरफ्तार, संसद मार्च करने की थी तैयारी

संसद में कृषि अध्यादेश पेश किये जाने के बाद किसान संगठनों ने इन अध्यादेशों के खिलाफ कमर कस ली है। आज जंतर-मंतर में जोरदार प्रदर्शन के दौरान कई किसान नेताओं को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया।

कृषि अध्यादेशों के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे राष्ट्रीय किसान महासंघ के कई किसान नेता गिरफ्तार, संसद मार्च करने की थी तैयारीकृषि अध्यादेश के खिलाफ प्रदर्शन करते किसान नेता ।

संसद में पेश किए गए तीन कृषि अध्यादेशों के खिलाफ राष्ट्रीय किसान महासंघ समेत कई किसान नेताओं ने नई दिल्ली के जंतर-मंतर पर 16 सितंबर को प्रदर्शन किया। इस बीच प्रदर्शन कर रहे किसान नेताओं और किसानों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। ये सभी किसान नेता कल (17 सितम्बर) कृषि अध्यादेशों के खिलाफ संसद मार्च निकालने की तैयारी में थे।

प्रदर्शन के दौरान राष्ट्रीय किसान महासंघ के नेताओं ने एक आवाज़ में कहा कि जब तक कृषि अध्यादेशों को वापस नहीं लिया जाएगा तब तक देशव्यापी किसान आंदोलन जारी रहेगा। किसान नेताओं ने ये भी कहा कि जो सांसद कृषि अध्यादेशों के पक्ष में और किसानों के खिलाफ संसद में मतदान करेंगे, किसान उनके खिलाफ उनकी लोकसभाओं में प्रचार करेंगे।


प्रदर्शन के दौरान देश के प्रमुख गैर-राजनीतिक किसान नेताओं में मध्य प्रदेश से शिव कुमार कक्काजी, पंजाब से जगजीत सिंह दल्लेवाल, उत्तर प्रदेश से हरपाल चौधरी बिलारी, राजस्थान से इंदरजीत पन्नीवाला, हरियाणा से अभिमन्यु कोहाड़ समेत संतवीर सिंह, रंजीत राजू, समेत सैकड़ों किसानों ने गिरफ्तारी दी। प्रदर्शन कर रहे किसानों को पुलिस ने गिरफ्तार कर के मंदिर मार्ग पुलिस स्टेशन में रखा है।


कृषि अध्यादेशों को लेकर सरकार के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे किसानों की मुख्य मांगों में तीनों किसान विरोधी कृषि अध्यादेशों को वापस लेने के साथ न्यूनतम समर्थन मूल्य पर फसलों की खरीद की गारंटी का कानून बनाने, स्वामीनाथन आयोग के C2+50% फॉर्मूले के अनुसार फसलों का एमएसपी दिया जाने और किसानों को पूर्ण कर्जमुक्त किया जाने की मांगें भी शामिल हैं।

राष्ट्रीय किसान महासंघ के राष्ट्रीय प्रवक्ता अभिमन्यु कोहाड़ 'गाँव कनेक्शन' से बताते हैं, "केंद्र सरकार द्वारा ये तीन कृषि अध्यादेश संसद में पेश किए जाने के बाद बहुत कम समय में यह संसद मार्च का कार्यक्रम किसान संगठनों द्वारा बनाया गया था, इसलिए सभी संगठनों के प्रतिनिधियों को दिल्ली में बुलाया गया। मगर आज जंतर-मंतर में प्रदर्शन के दौरान इन्हें गिरफ्तार कर लिया गया।"

कृषि अध्यादेश को लेकर राष्ट्रीय किसान महासंघ के पदाधिकारी 10 अगस्त से पूरे देश में गाँव-गाँव में जाकर किसानों को कृषि अध्यादेशों के नुकसानों के बारे में जागरूक कर रहे हैं। ऐसे में अब किसानों की आवाज़ सांसदों तक पहुंचाने के लिए किसान नेताओं की ओर से यह कार्यक्रम आयोजित किया जा रहा है। मगर इससे पहले आज प्रदर्शन के दौरान कई किसान नेता गिरफ्तार कर लिए गए।

यह भी पढ़ें :

किसानों के विरोध के बीच लोकसभा में कृषि से जुड़े विधेयक पेश, कृषि मंत्री ने कहा- MSP के प्रावधानों पर कोई फर्क नहीं पड़ेगा

दिल्ली में किसान संगठनों का ऐलान, मानसून सत्र चलने तक सरकारी नीतियों के खिलाफ ऐसे होगा विरोध



Next Story

More Stories


© 2019 All rights reserved.