Farmers Protest Live: भारी बवाल के बाद किसानों को दिल्ली आने की अनुमति मिली, निरंकारी मैदान में करेंगे प्रदर्शन

पंजाब-हरियाणा से बड़ी संख्या में किसान दिल्ली की कूच कर रहे हैं। पुलिस उन्हें रोकने के लिए आंसू गैसे के गोले दाग रही है और अस्थायी जेल बनाने की भी तैयारी कर रही है।

farmers protest, farmers march delhi, haryana, punjabहरियाणा के रेवाड़ी में किसानों पर आंसू गैस के गोले दागते सुरक्षाकर्मी। (सभी फोटो गांव कनेक्शन)

केंद्र सरकार के कृषि कानूनों के खिलाफ पंजाब-हरियाणा के किसानों का प्रदर्शन दूसरे दिन ‌भी जारी है‌। बड़ी संख्या में किसान दिल्ली जाने की कोशिश कर रहे हैं। किसानों को दिल्ली के सिंघु बॉर्डर पर रोक दिया गया है। पुलिस ने सोनीपत-दिल्ली हाइवे पर हरियाणा के कुंडली थाने के पास किसानों पर आंसू गैस के गोले भी दागे।

Live Updates

अंबाला के पास से शंभू बॉर्डर पर तैनात पुलिस बैरिकेड्स हटा लिये गये हैं। इस बीच हरियाणा के सीएम मनोहर लाल खट्टर ने कहा कि केंद्र सरकार बातचीत के लिए हमेशा तैयार है। मेरी सभी किसान भाइयों से अपील है कि अपने सभी जायज मुद्दों के लिए केंद्र से सीधे बातचीत करें। उन्होंने कहा कि आन्दोलन इसका जरिया नहीं है।

  • दिल्ली पुलिस से किसानों को दिल्ली आने की अनुमति दे दी है। किसान बुरारी के संत निरंकार मैदान में करेंगे शांतिपूर्वक प्रदर्शन
  • दिल्ली की ओर कूच कर रहे किसानों ने सिंधु बॉर्डर पर लगाए बैरिकेड्स तोड़े, किसानों को दिल्ली जाने से रोकने के लिए सुरक्षा बलों ने आंसू गैस के गोले छोड़े
  • सरकार की ओर से किसानों को ट्रैक्टर-ट्रॉली लेकर इजाजत नहीं मिली। लेकिन किसानों ने कहा कि वे ट्रैक्टर सहित बुरारी जाना चाहते हैं।




किसानों के प्रदर्शन को देखते हुए दिल्ली पुलिस की ओर से नौ स्टेडियम को अस्थायी जेल बनाने की इजाजत देने की मांग को दिल्ली सरकार ने इंकार किया।

  • दिल्ली-बहादुरगढ़ हाइवे पर किसान और पुलिस और एक बार फिर आमसे-सामने आ गये। पुलिस ने किसानों को दिल्ली में घुसने से रोकने के लिए आंसू गैस के गोले दागे।
  • सोनीपत-दिल्ली हाईवे पर हरियाणा के कुंडली थाने के पास किसानों पर आंसू गैस के गोले छोड़े गए। ये किसान सोनीपत में लगे बैरिकेड्स को तोड़कर दिल्ली की तरफ आगे बढ़ने से पहले लंगर (खाने) के लिए रोड के किनारे रुके हुए थे।
  • प्रदर्शन को देखते हुए दिल्ली पुलिस ने दिल्ली सरकार से 9 स्टेडिय को अस्थायी जेल बनाने की इजाजत मांगी है।
  • किसानों को प्रदर्शन को देखते हुए दिल्ली-गुरुग्राम बॉर्डर पर पुलिस वाहनों की जांच कर रही है। बॉर्डर पर सीआईएसएफ के जवान तैनात किये गये हैं।

केंद्र सरकार ने कहा- तीन दिसंबर को बात करेंगे

केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने गुरुवार 26 नवंबर को किसानों से आंदोलन खत्म करने की अपील करते हुए कहा कि तीन दिसंबर को सरकार किसानों से बात करेगी, लेकिन किसान अभी भी अड़े हुए हैं। किसान दिल्ली की ओर बढ़ रहे हैं। उन्हें रोकने की अभी तक की तमाम कोशिशें असफल साबित हुई हैं।

हरियाणा के सीएम मनोहर लाल खट्टर ने कहा- केंद्र सरकार बातचीत के लिए हमेशा तैयार है

अंबाला के पास से शंभू बॉर्डर पर तैनात पुलिस बैरिकेड्स हटा लिये गये हैं। इस बीच हरियाणा के सीएम मनोहर लाल खट्टर ने कहा कि केंद्र सरकार बातचीत के लिए हमेशा तैयार है। मेरी सभी किसान भाइयों से अपील है कि अपने सभी जायज मुद्दों के लिए केंद्र से सीधे बातचीत करें। उन्होंने कहा कि आन्दोलन इसका जरिया नहीं है।

किसान प्रदर्शन क्यों कर रहे हैं?

किसान केंद्र सरकार के कृषि क्षेत्र में सुधार के लिए गये तीनों कृषि कानून द फार्मर्स प्रोड्यूस ट्रेड एंड कॉमर्स (प्रमोशन एंड फेसिलिटेशन) एक्ट; द फार्मर्स (एम्पावरमेंट एंड प्रोटेक्शन) एग्रीमेंट ऑफ प्राइज एश्योरेंस एंड फार्म सर्विसेस एक्ट और द एसेंशियल कमोडिटीज (अमेंडमेंट) का विरोध कर रहे हैं। इन कानूनों के विरोध में हरियाणा, पंजाब सहित देश के कई राज्यों के किसान पिछले दो महीने से विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं।

updating...

इनपुट- अरविंद शुक्ला, दया सागर, राहुल यादव

Next Story

More Stories


© 2019 All rights reserved.