दो मई को देश के सभी ब्लॉक मुख्यालयों पर किसानों को बताया जाएगा आमदनी बढ़ाने का तरीका

दो मई को देश के सभी ब्लॉक मुख्यालयों पर किसानों को बताया जाएगा आमदनी बढ़ाने का तरीकाकिसानों को दी जाएगी जानकारी

अगर आप किसान है और खेती किसानी की नई जानकारियां चाहते हैं तो ये खबर आपके लिए है, दो मई को देश के सभी ब्लॉक मुख्यालयों पर किसान कल्याण और कृषि विभाग द्वारा किसान कल्याण कार्यशाला का आयोजन किया जा रहा है।

ये भी पढ़ें- किसान एग्री ऐप पर लाइव कर सकेंगे कृषि वैज्ञानिकों से सवाल

कार्यशाला में कृषि विभाग, पशुपालन विभाग, उद्यान विभाग के विशेषज्ञ विशेष रूप से उपस्थित रहकर विभागीय योजनाओं की जानकारी किसानों को देंगे। साथ ही कृषि विज्ञान केन्द्र के कृषि वैज्ञानिक भी कार्यशाला में मौजूद रहकर किसानों को नवीन तकनीकों की जानकारी देंगे।

राष्ट्रीय खरीफ सम्मेलन के दौरान केन्द्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री राधा मोहन सिंह ने कहा कि कृषि अधिकारी व वैज्ञानिक वर्तमान में जारी राष्ट्रीय ग्राम स्वराज अभियान, जहां प्रत्येक प्रखंड 2 मई 2018 को किसान कल्याण कार्यशाला का आयोजन करेंगे, में नई प्रौद्योगिकी के जरिए आय बढ़ाने के तरीकों पर चर्चा करें।

प्रदेश के सभी विकास खंडों पर इस कार्यशाला में किसानों को उन्नत खेती के टिप्स बताए जाएंगे। कार्यशाला में करीब 500 कृषि वैज्ञनिक किसानों को आमदनी बढ़ाने के तरीकों की जानकारी भी देंगे।
सूर्य प्रताप शाही, कृषि मंत्री, उत्तर प्रदेश

ये भी पढ़ें- एग्री बिजनेस और एग्री क्लीनिक खोलकर अपने सपनों को पूरा करेंगे कृषि के छात्र  

कार्यशाला के जरिए विभिन्न कृषि कार्यक्रमों के तहत किसानों को नई तकनीकी अपना कर अपनी आमदनी बढ़ाने के प्रति जागरूक किया जाएगा। दो मई को देश के सभी ब्लॉक मुख्यालयों पर इस कार्यशाला का आयोजन होगा। किसानों की आय दोगुनी करने के लिए केंद्र व प्रदेश सरकार ने ग्राम स्वराज अभियान के तहत इस कार्यशाला का आयोजन किया जा रहा है।

गोरखपुर में आयोजित एक प्रेस कांफ्रेंस में उत्तर प्रदेश के कृषि मंत्री सूर्य प्रताप शाही ने कहा प्रदेश के सभी विकास खंडों पर इस कार्यशाला में किसानों को उन्नत खेती के टिप्स बताए जाएंगे। कार्यशाला में करीब 500 कृषि वैज्ञनिक किसानों को आमदनी बढ़ाने के तरीकों की जानकारी भी देंगे। इसके साथ ही मंत्री ने बताया कि 'किसानी किसान से' कार्यक्रम के तहत उत्कृष्ट किसानों को सम्मानित किया जाएगा।

ये भी पढ़ें- ऐसे ही कृषि निर्यात घटता गया तो कैसे दोगुनी होगी किसानों की आय ?

इसमें पशुपालन विभाग, दुग्ध उत्पादन, मत्स्य व मधुमक्खी पालन के अलावा कृषि से जुड़े सभी विभाग अपनी लाभकारी योजनाओं की जानकारी किसानों को देंगे। इसके अलावा कृषि विज्ञान केंद्रों पर तैनात कृषि वैज्ञानिक भी कार्यशाला में मौजूद रहकर किसानों को तकनीकी और एकीकृत खेती के बारे में बताएंगे।

ये भी पढ़ें- कृषि मंत्री राधा मोहन सिंह से खास बात : ‘किसानों की आय बढ़ाना पहला लक्ष्य’

Share it
Share it
Share it
Top