अब किसानों को 45 किलोग्राम की बोरी में मिलेगी नीम लेपित यूरिया 

Divendra SinghDivendra Singh   5 April 2018 5:05 PM GMT

अब किसानों को 45 किलोग्राम की बोरी में मिलेगी नीम लेपित यूरिया कम होगी यूरिया की खपत

अभी तक यूरिया की एक बोरी का पचास किलो का पैक आता था, लेकिन जल्द ही किसानों को 45 किलो की बोरी मिलने लगेगी, इससे यूरिया की खपत में कमी आएगी।

सीतापुर जिले के इफको के असिस्टेंट मैनेजर शिव शुक्ला का कहते हैं, "किसानों ने ये मानक बना लिया है कि कितने क्षेत्रफल में कितनी यूरिया डालनी है, इससे खेत में मानक से अधिक यूरिया का छिड़काव कर देते हैं, लेकिन 45 किलो की बोरी आने से यूरिया कम डालेंगे, जिससे उनका खर्च भी होगा और पर्यावरण पर भी ज्यादा असर नहीं पड़ेगा।'

ये भी पढ़ें- यूरिया, डीएपी की जगह घन जीवामृत, पेस्टीसाइड की जगह नीमास्त्र का करें इस्तेमाल

अभी तक किसानों को 50 किलो की एक बोरी के लिए 326 रुपए 50 पैसे देने पड़ते थे, लेकिन 45 किलो की इस बोरी का दाम 295 रुपए रखा गया है। भारत यूरिया का दूसरा सबसे बड़ा उपभोक्ता है। देश का यूरिया उत्पादन कुल मांग 320 लाख टन से कम रहने के कारण करीब 50-70 लाख टन यूरिया का सालाना आयात करना पड़ता है। यूरिया सबसे आम उर्वरक है और इस पर सरकार बहुत अधिक सब्सिडी देती है। सरकार यूरिया पर सालाना 40,000 करोड़ रुपए की सब्सिडी देती है।

शिव शुक्ला आगे बताते हैं, "नीम लेपित यूरिया आने से यूरिया की खपत में कमी आएगी, क्योंकि ये ज्यादा प्रभावशाली होता है, क्योंकि इसके आने के बाद भी किसान अपने हिसाब से ही यूरिया का इस्तेमाल करते हैं, लेकिन अब इससे इसकी खपत में कमी आएगी।"

ये भी पढ़ें- किसानों के लिए एक बड़ी खुशखबरी, यूरिया सब्सिडी वर्ष 2020 तक जारी रहेगी

45 किलो की बोरी को बाजार में लाने का मुख्य उद्देश्य यूरिया की खपत को कम करना और उर्वरकों के संतुलित इस्तेमाल को प्रोत्साहित करना है। क्योंकि यूरिया अन्य उर्वरकों से सस्ता है, इसलिए किसान इसका ज्यादा इस्तेमाल करते हैं। सरकार की ओर से इसके लिए सब्सिडी भी मिलती है। भारत में पिछले वर्ष से करीब 2.4 करोड़ टन यूरिया का उत्पादन हो रहा है जो 2.2 करोड़ टन की मांग को पूरा करने के लिए पर्याप्त है।

ये भी पढ़ें- यूरिया और कीटनाशक जमीन को बना रहे बंजर , देश की 32 फीसदी भूमि होती जा रही है बेजान

Next Story

More Stories


© 2019 All rights reserved.